1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand news even on the 22nd day of the agitation the assistant policemen are standing in the rain in morhabadi ground of ranchi no one has taken any care smj

रांची के मोरहाबादी मैदान में बारिश में डटे हैं सहायक पुलिसकर्मी, 22वें दिन भी किसी ने नहीं लिया कोई सुध

अपनी मांगों के समर्थन में 22वें दिन भी रांची के मोरहाबादी मैदान में सहायक पुलिसकर्मी डटे हुए हैं. इधर, लगातार बारिश में भी सहायक पुलिसकर्मी आंदोलनरत हैं. इस दौरान कई महिला पुलिसकर्मियों की स्थिति भी खराब हुई. इसके बावजूद राज्य सरकार कोई सुध नहीं ले रही है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
जोरदार बारिश में भी रांची के मोरहाबादी मैदान में डटे हैं सहायक पुलिसकर्मी.
जोरदार बारिश में भी रांची के मोरहाबादी मैदान में डटे हैं सहायक पुलिसकर्मी.
प्रभात खबर.

Jharkhand News (रांची) : लगातार बारिश के बीच रांची के मोरहाबादी मैदान में सहायक पुलिसकर्मी अब भी डटे हैं. अपनी मांगों को लेकर पिछले 22 दिनों से आंदोलनरत हैं. भारी बारिश के बीच तंबू लगाकर आंदोलन कर रहे सहायक पुलिसकर्मियों की स्थिति दिनों- दिन काफी खराब होती जा रही है. इसके बावजूद अब तक किसी ने कोई सुध नहीं लिया है.

अपनी मांगों के समर्थन में बच्चों के साथ आंदोलन में डटी है महिला सहायक पुलिसकर्मी.
अपनी मांगों के समर्थन में बच्चों के साथ आंदोलन में डटी है महिला सहायक पुलिसकर्मी.
प्रभात खबर.

सोमवार को सहायक पुलिस कर्मी अपनी मांगों के समर्थन में 22वें दिन भी आंदोलन जारी रखे हुए हैं. इस दौरान कई महिला पुलिसकर्मियों की तबीयत भी खराब हो गयी है. सहायक पुलिसकर्मियों का कहना है इतनी विकट परिस्थिति में आंदोलन के बाद भी सरकार का कोई नुमाइंदा उनसे मिलने नहीं आया.

सहायक पुलिसकर्मियों के अनुसार, पुलिस मुख्यालय सहायक पुलिसकर्मियों से काम झारखंड पुलिस की तरह लेती है. उसके बाद भी पुलिस मुख्यालय के कोई अधिकारी हमारी बात नहीं सुन रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमारा मानदेय मात्र 10 हजार रुपया है. उसे भी बढ़ाने की दिशा में कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है. सहायक पुलिसकर्मियों की मांग में झारखंड पुलिस में संयोजन करना, मानदेय 18 हजार रुपये करने समेत अन्य सुविधाएं की मांग मुख्य है.

मालूम हो कि सहायक पुलिसकर्मी गत 27 सितंबर, 2021 से आंदोलन कर रहे हैं. आंदोलन में 12 अति उग्रवाद प्रभावित जिला पलामू, चतरा, खूंटी, गुमला, सिमडेगा, लातेहार, दुमका, गिरिडीह, पश्चिमी सिंहभूम, पूर्वी सिंहभूम और गढ़वा के 2200 सहायक पुलिसकर्मी शामिल हैं.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें