1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand daughters who raised their honor in olympics reached home cm hemant soren gave 50 and 50 lakhs see pics smj

Jharkhand - ओलंपिक में मान बढ़ाने वाली झारखंड की बेटियां पहुंची घर, हेमंत सोरेन ने दिये 50-50 लाख, देखें Pics

Jharkhand News - ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम का प्रतिनिधित्व करने वाली झारखंड की बेटियां निक्की प्रधान और सलीमा टेटे को रांची पहुंचने पर सीएम हेमंत सोरेन ने सम्मानित किया. इस दौरान दोनों को जहां 50-50 लाख रुपये के चेक दिये गये, वहीं, शहर में मकान की सौगात देते हुए कई सुविधाओं का एलान किया.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
ओलंपियन हॉकी खिलाड़ी निक्की प्रधान व सलीमा टेटे को सम्मानित करते सीएम हेमंत सोरेन.
ओलंपियन हॉकी खिलाड़ी निक्की प्रधान व सलीमा टेटे को सम्मानित करते सीएम हेमंत सोरेन.
ट्विटर.

Jharkhand News (रांची) : टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारतीय महिला हॉकी टीम का प्रतिनिधित्व करने वाली निक्की प्रधान और सलीमा टेटे बुधवार को रांची पहुंची. रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर पहुंचने पर जहां खेल मंत्री हफीजुल हसन ने जोरदार स्वागत किया, वहीं प्रोजेक्ट भवन में CM हेमंत सोरेन ने दोनों बेटियों को सम्मानित करते हुए बेहतरीन खेल के लिए शुभकामनाएं देते हुए उज्जवल भविष्य की कामना की.

रांची पहुंचने और सम्मान मिलने पर काफी खुश हुई झारखंड की ओलंपियन बेटियां निक्की प्रधान और सलीमा टेटे.
रांची पहुंचने और सम्मान मिलने पर काफी खुश हुई झारखंड की ओलंपियन बेटियां निक्की प्रधान और सलीमा टेटे.
ट्विटर.

इस दौरान CM श्री सोरेन ने दोनों खिलाड़ियों को 50-50 लाख रुपये का चेक, स्कूटी, लैपटॉप और स्मार्ट फोन प्रदान किया. साथ ही दोनों खिलाड़ियों को उनकी इच्छानुसार शहर में मकान की सौगात देने की बात भी कही. इस मौके पर सीएम श्री साेरेन ने हॉकी स्टिक पर इन दोनों खिलाड़ियों के लिए शुभकामना संदेश लिखा, तो ओलंपियन हॉकी खिलाड़ी निक्की प्रधान और सलीमा टेटे ने ऑटोग्राफ दिये.

CM हेमंत सोरेन ने हॉकी खिलाड़ी निक्की प्रधान और सलीमा टेटे को 50-50 लाख रुपये का चेक समेत कई चीजों से किया सम्मानित.
CM हेमंत सोरेन ने हॉकी खिलाड़ी निक्की प्रधान और सलीमा टेटे को 50-50 लाख रुपये का चेक समेत कई चीजों से किया सम्मानित.
ट्विटर.

CM श्री सोरेन ने कहा कि झारखंड की इन दो बेटियों ने टोक्यो ओलंपिक में शानदार प्रदर्शन किया. भारतीय महिला हॉकी टीम भले ही मेडल जीतने से चूक गयी हो, लेकिन इन्होंने दुनिया के बेहतरीन हॉकी खेलने वाले देशों के खिलाफ जिस तरह का प्रदर्शन किया, वह किसी मेडल से कम नहीं है. झारखंड समेत पूरे देशवासियों को इनपर गर्व है.

खेल और खिलाड़ियों के प्रति हो सम्मान

रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर पहुंचने पर राज्य के खेलमंत्री हफीजुल हसन ने दोनों बेटियों को किया जोरदार स्वागत.
रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर पहुंचने पर राज्य के खेलमंत्री हफीजुल हसन ने दोनों बेटियों को किया जोरदार स्वागत.
प्रभात खबर.

उन्होंने कहा कि इन दोनों बेटियों ने सीमित संसाधनों के बीच अपना मुकाम बनाया है. यह बहुत बड़ी उपलब्धि है. हमें अपने इन बेटियों पर गर्व है. लेकिन, हम खेल और खिलाड़ियों के प्रति सम्मान और संवेदनशीलता के साथ पेश आयें. इसका पूरा ध्यान रखना होगा, ताकि भविष्य में और बेहतर प्रदर्शन कर सकें और प्रतिभावान खिलाड़यों को इनसे प्रेरणा मिल सके.

झारखंड खेलों में बना रहा अलग पहचान

बुधवार को रांची पहुंची झारखंड की दो ओलंपियन बेटियां निक्की प्रधान और सलीमा टेटे.
बुधवार को रांची पहुंची झारखंड की दो ओलंपियन बेटियां निक्की प्रधान और सलीमा टेटे.
प्रभात खबर.

सीएम श्री सोरेन ने कहा कि राज्य अब खेलों में भी अपनी अलग पहचान बनाने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है. इस दिशा में खेल और खिलाड़ियों के हित में सरकार चरणबद्ध तरीके से कदम उठा रही है. अभी तो शुरुआत है और आने वाले दिनों में और तेजी आयेगी. राज्य गठन के बाद पहली बार खेल पदाधिकारियों की नियुक्ति हुई. राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में बेहतर प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों की सीधी नियुक्ति हो रही है. अबतक 40 खिलाड़ियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किया जा चुका है. खिलाड़ियों को पुरस्कृत और सम्मानित किया जा रहा है. हर पंचायत में खेल मैदान विकसित किये जा रहे हैं. एस्ट्रो टर्फ स्टेडियम बनाये जा रहे हैं.

खिलाड़ियों को सरकार से जोड़ने की पहल

रांची पहुंचने पर परिजनों से गले मिलती ओलंपियन हॉकी खिलाड़ी निक्की प्रधान और सलीमा टेटे.
रांची पहुंचने पर परिजनों से गले मिलती ओलंपियन हॉकी खिलाड़ी निक्की प्रधान और सलीमा टेटे.
प्रभात खबर.

उन्होंने कहा कि यहां के खिलाड़ियों को व्यवस्था से जोड़ने की कोशिश शुरू कर दी गयी है. निक्की प्रधान और सलीमा टेटे समेत अन्य खिलाड़ियों को सम्मानित करने का मकसद इन्हें व्यवस्था में रखने के लिए किया जा रहा है. ये खिलाड़ी ना सिर्फ अपने प्रदर्शन से देश का मान-सम्मान बढ़ाएं, बल्कि भविष्य में वे बेहतर कोच और प्रतिभावान खिलाड़ियों के मार्गदर्शक का रोल निभा सकें. इनका सहयोग लेने की ओर ये कदम उठाया जा रहा है.

खिलाड़ियों को मिलेंगी कई और सुविधाएं

कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बिरसा मुंडा एयरपोर्ट से बाहर निकलती दोनों ओलंपियन बेटियां.
कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बिरसा मुंडा एयरपोर्ट से बाहर निकलती दोनों ओलंपियन बेटियां.
प्रभात खबर.

सीएम श्री सोरेन ने कहा कि विभिन्न खेलों के लिए रेसिडेंसियल सेंटर और डे बोर्डिंग खोलने की कवायद चल रही है. डे बोर्डिंग में प्रशिक्षण के लिए चयनित खिलाड़ियों को सरकार की ओर से हर दिन 500 रुपये दिये जायेंगे. दोनों ही तरह के सेंटरों में खिलाड़ियों को ट्रेनिंग देने के लिए उत्कृष्ट कोच रहेंगे. साथ ही कहा खेल प्रतियोगिताओं के दौरान किन्हीं वजहों से चोटिल होने वाले खिलाड़ियों के इलाज का पूरा खर्च सरकार उठायेगी. इस दिशा में खेल विभाग प्रावधान बना रही है.

इस मौके पर खेल मंत्री हफीजुल हसन अंसारी, मंत्री जोबा मांझी, विधायक भूषण बाड़ा, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, खेल सचिव अमिताभ कौशल, खेल निदेशक जीशान कमर समेत निक्की प्रधान व सलीमा टेटे के परिजन भी उपस्थित थे.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें