1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jac 12th result 2021 the best result in the history of jharkhand girls top in all 3 arts commerce and science faculty smj

JAC 12th Result 2021 : झारखंड के इतिहास का सबसे बढ़िया रिजल्ट, आर्ट्स, कॉमर्स व साइंस तीनों में लड़कियां अव्वल

झारखंड में इस बार इंटरमीडिएट का सबसे बढ़िया रिजल्ट हुआ है. पिछले करीब 11 साल की तुलना में वर्ष 2021 में आर्ट्स में 90.71 फीसदी परीक्षार्थी इस परीक्षा में सफल हुए हैं, जबकि दूसरी ओर लड़कों की तुलना में लड़कियों ने साइंस, कॉमर्स और आर्ट्स में बेहतर प्रदर्शन किया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
इस साल झारखंड इंटरमीडिएट का सबसे बढ़िया हुआ रिजल्ट. लड़कियों ने मारी बाजी.
इस साल झारखंड इंटरमीडिएट का सबसे बढ़िया हुआ रिजल्ट. लड़कियों ने मारी बाजी.
फाइल फोटो.

JAC Board 12th Result 2021 : कोरोना वायरस संक्रमण के बीच झारखंड में इस बार इंटरमीडिएट का सबसे बढ़िया रिजल्ट हुआ है. पिछले करीब 11 साल की तुलना में वर्ष 2021 में आर्ट्स में 90.71 फीसदी परीक्षार्थी इस परीक्षा में सफल हुए हैं, वहीं, कॉर्मस में 90.33 फीसदी और साइंस में 86.89 फीसदी परीक्षार्थियों ने परीक्षा पास की है. जबकि दूसरी ओर लड़कों की तुलना में लड़कियों ने तीनों फैकल्टी साइंस, कॉमर्स और आर्ट्स में बेहतर प्रदर्शन किया है.

शुक्रवार (30 जुलाई, 2021) को झारखंड जैक बोर्ड का रिजल्ट शिक्षा मंत्री जगन्नाथ महतो ने जारी किया. पिछले 10 साल की तुलना में इस साल राज्य के परीक्षार्थियों ने बेहतर प्रदर्शन किया. तीनों फैकल्टी आर्ट्स, कॉमर्स और साइंस में लड़कियों ने बाजी मारी है. आर्ट्स में 91.44 फीसदी लड़कियां सफल हुई, वहीं कॉमर्स में 92.95 फीसदी और साइंस में 87.38 फीसदी लड़कियां पास हुई है.

लड़कियों ने मारी बाजी

आर्ट्स फैकल्टी की बात करें, तो इस साल आर्ट्स के 89,593 छात्र परीक्षा में शामिल हुए और 80,400 छात्र परीक्षा पास कर पाये. इस तरह से 89.73 फीसदी छात्र सफल हो पाये. वहीं, लड़कियों की बात करें तो 1,19,641 छात्राएं परीक्षा में शामिल हुई और 1,09,401 लड़कियां पास हुई. इस तरह से 91.44 फीसदी छात्रा उत्तीर्ण हुई.

कॉमर्स की बात करें, तो इसमें 19,009 छात्र परीक्षा में शामिल हुए और 16,788 ही पास हुए. जबकि लड़कियों की बात करें, तो 14,668 छात्राएं परीक्षा में शामिल हुई और 13,634 पास हुई. इस तरह से 92.95 फीसदी लड़कियां अव्वल रही.

साइंस फैकल्टी में 60,248 छात्र परीक्षा में शामिल तो हुए, लेकिन 52,212 छात्र ही परीक्षा पास कर पाये. इस तरह से इनकी प्रतिशत 86.66 रही. वहीं, दूसरी ओर 27,897 लड़कियां परीक्षा में शामिल हुई और 24,378 उत्तीर्ण हुई. इस तरह से 87.38 फीसदी छात्राएं सफल हुई.

करीब 11 साल की तुलनात्मक स्थिति

आर्ट्स में वर्ष 2009 में 81.12 फीसदी परीक्षार्थी पास हुए थे, लेकिन इसके बाद इसमें गिरावट आयी. फिर वर्ष 2014 में 83.16 फीसदी छात्र-छात्राएं सफल हुई थी. इसके बाद वर्ष 2020 में 82.53 फीसदी परीक्षार्थी पास हुए. लेकिन इस वर्ष 2021 में परीक्षार्थियों ने बेहतर प्रदर्शन किया और 90.71 फीसदी परीक्षार्थी इस परीक्षा को पास किये जो अब तक का रिकॉर्ड है.

इसी तरह से कॉमर्स की बात करें, तो वर्ष 2010 में 58.99 फीसदी परीक्षार्थियों ने परीक्षा पास की थी. इसके बाद के वर्षों में 60 से 75 फीसदी के बीच की परीक्षार्थी पास करते रहें. वर्ष 2020 में 77.37 फीसदी परीक्षार्थियों ने परीक्षा पास की थी. लेकिन, इस वर्ष 2021 में रिकॉर्ड 90.33 फीसदी परीक्षार्थी पास हुए.

साइंस फैकल्टी की बात करें, तो वर्ष 2010 में काफी कम 30.33 फीसदी परीक्षार्थी पास किये. हालांकि, धीरे-धीरे इसमें सुधार हुआ, लेकिन 60 फीसदी के पास भी परीक्षार्थियों का परीक्षाफल नहीं रहा. वर्ष 2020 में 58.99 फीसदी परीक्षार्थी ही परीक्षा पास कर पायें. लेकिन, इस साल यानी 2021 में इसमें काफी सुधार हुआ और 86.79 फीसदी परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें