1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. farmers of jharkhand will now be called birsa farmers cm hemant distributed assets worth 734 crores among 2 lakh farmers smj

झारखंड के किसान अब कहलायेंगे बिरसा किसान, CM हेमंत सोरेन ने 2 लाख किसानों के बीच बांटे 734 करोड़ की परिसंपत्ति

विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर बिरसा किसान के सम्मान में KCC एवं मुख्यमंत्री पशुधन वितरण कार्यक्रम का आयोजन हुआ. इस मौके पर सीएम हेमंत सोरेन ने 734 करोड़ की परिसंपत्तियों की वितरण किया. वहीं, राज्य के किसानों को हर संभव सहयोग का आश्वासन भी दिया.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
KCC एवं मुख्यमंत्री पशुधन वितरण कार्यक्रम में महिला किसान को सम्मानित करते सीएम हेमंत सोरेन.
KCC एवं मुख्यमंत्री पशुधन वितरण कार्यक्रम में महिला किसान को सम्मानित करते सीएम हेमंत सोरेन.
ट्विटर.

Jharkhand News (रांची) : विश्व आदिवासी दिवस, 2021 के मौके झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने राज्य के 2 लाख किसानों के बीच 734 करोड़ की परिसंपत्तियों का वितरण किया. वहीं, राज्य के किसानों को अब से बिरसा किसान के नाम से जानने की बात कही. झारखंड मंत्रालय स्थित सभागार में आयोजित बिरसा किसान के सम्मान में KCC एवं मुख्यमंत्री पशुधन वितरण कार्यक्रम में सीएम श्री सोरेन ने राज्यवासियों को विश्व आदिवासी दिवस की शुभकामनाएं दी. सीएम ने सांकेतिक तौर पर 20 लाभुक किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड, 10 किसानों को पशुधन तथा 2 सब्जी विक्रेता सहकारी संघ को पिकअप वैन का वितरण किया गया.

वनोपज को मिलेगा बढ़ावा, बाजार और उचित मूल्य की होगी व्यवस्था

इस मौके पर सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य सरकार यहां के किसानों को स्वावलंबी बनाने का निरंतर प्रयास कर रही है. राज्य सरकार 25 वर्षों को ध्यान में रखते हुए कार्य योजनाओं को मूर्त रूप देने में लगी है. ग्रामीण क्षेत्रों में पारंपारिक आय के साधनों में कमी आयी है. इस पर ध्यान देने की जरूरत है. लाह, सिल्क आदि चीजों का उत्पादन झारखंड में सबसे अधिक होता है. बावजूद इसके इन संपदाओं का पूरा लाभ हमें नहीं मिल पाता है. राज्य सरकार वनोपज के लिए व्यवस्था दुरुस्त करने में लगी है. किसानों को वनोपज के लिए बाजार और उचित मूल्य उपलब्ध हो सके इसके लिए कार्य किये जा रहे हैं. जल्द ही वन उपज के विस्तार के लिए फेडरेशन बनाये जायेंगे.

खेत किसानों का बैंक और पशुपालन ATM

उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के किसान एवं खेतिहर मजदूरों के लिए खेत उनका बैंक और पशुधन ATM है. पशुपालन तथा पशुधन उनके लिए आय का सरल साधन है. पशुधन जैसे आय के स्रोतों को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार ने पशुपालन पर विशेष जोर दिया है. ग्रामीण किसान एवं खेतिहर मजदूर भाइयों को अनुदान पर पशु एवं पशु शेड उपलब्ध कराये जा रहे हैं. राज्य में लगभग 40 प्रतिशत बच्चे जन्म लेते ही कुपोषण का शिकार हो जाते हैं. सरकार ने यह निर्णय लिया है कि सप्ताह में 6 दिन इन बच्चों को अंडा उपलब्ध कराया जाये. इसके लिए पशुपालन, मुर्गी पालन, अंडा उत्पादन, मछली उत्पादन आदि को बढ़ावा दिया जा रहा है.

योजनाओं का अवश्य लाभ लें किसान

सीएम श्री सोरेन ने किसानों से अपील करते हुए कहा कि वे राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का पूरा लाभ लें. विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर राज्य के 2 लाख किसानों के बीच 734 करोड़ की योजनाओं का वितरण किया जा रहा है. किसान क्रेडिट कार्ड में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है. किसानों को पशुधन से जोड़ा जा रहा है. कई महत्वाकांक्षी योजनाएं चलायी जा रही है. इन योजनाओं को शत-प्रतिशत लागू कर सके इस निमित्त रूपरेखा तैयार की गयी है. सभी योजनाओं का समय-समय पर ऑडिट भी किया जाये, ताकि यह पता चल सके कि योजनाएं आप तक पहुंच रही है या नहीं.

राज्य के विकास में किसानों की अहम भूमिका

कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि पहली बार सीएम के नेतृत्व में राज्य के किसानों के हित को देखते हुए दो हजार करोड़ रुपये की ऋण माफी की घोषणा हुई. वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के दौर में ऋण माफी करना तथा वैसे किसान जिनका ऋण माफी हुआ है उन्हें फिर ऋण देकर मजबूत करना सरकार की दूरदृष्टि को परिभाषित करता है. राज्य के विकास में कृषि कार्य एवं किसानों की भूमिका महत्वपूर्ण है. विश्व आदिवासी दिवस के दिन किसानों को सम्मानित करने का काम किया है. कृषि विभाग निरंतर राज्य के किसानों के आर्थिक स्वावलंबन और मजबूती के लिए प्रतिबद्धता के साथ कार्य करती रहेगी.

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, कृषि सचिव अबु बकर सिद्दीख, कृषि निदेशक निशा उरांव, पशुपालन निदेशक शशि प्रकाश झा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें