1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. coronavirus jharkhand live updates jharkhand cases latest news ranchi jamshedpur deoghar dhanbad 30 september prt

झारखंड में कोरोना : कोरोना के 1123 नये संक्रमित मिले, रांची से सर्वाधिक मरीज; राज्य में 12 मरीजों की मौत

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
कोरोना के 1123 नये संक्रमित मिले
कोरोना के 1123 नये संक्रमित मिले
Prabhat Khabar

रांची : झारखंड में मंगलवार को कोरोना से 12 मरीजों की मौत हो गयी है. इसके साथ ही राज्य में अबतक 700 मरीजों की मौत हो चुकी है. रांची में सबसे अधिक पांच मरीजों की मौत हुई है. वहीं जमशेदपुर के तीन, बोकारो के दो, धनबाद व रामगढ़ के एक-एक मरीजों की मौत हो चुकी है. मंगलवार को 1123 नये संक्रमित मिले हैं. राज्य में अबतक 82540 कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं, जिनमें 69898 स्वस्थ हो गये हैं. इस समय एक्टिव केस 11942 हैं.

कहां कितने संक्रमित मिले

नये संक्रमितों में रांची से सर्वाधिक 319 संक्रमित मिले हैं. वहीं बोकारो से 119, चतरा से चार, देवघर से 28,धनबाद से 58, दुमका से 31, पूर्वी सिंहभूम से209 ,गढ़वा से 19, गिरिडीह से 18, गोड्डा से आठ, गुमला से सात, हजारीबाग से 50, जामताड़ा से 15, खूंटी से 22, कोडरमा से 30,लातेहार से 36, लोहरदगा से 11, पलामू व रामगढ़ से 17-17, रांची से 319, साहिबगंज से चार, सरायकेला से 39, सिमडेगा से आठ व प सिंहभूम से 54 मिले हैं.

1295 स्वस्थ हुए

झारखंड में मंगलवार को 1295 मरीज स्वस्थ हो गये. स्वस्थ होने वालों में बोकारो से 43, चतरा से एक, देवघर से 41, धनबाद से 99, दुमका से 10, जमशेदपुर से 93, गढ़वा से 23, गिरिडीह से 29, गोड्डा से 36, गुमला से 41, हजारीबाग से 43, जामताड़ा से सात, खूंटी से 81, कोडरमा से चार, लातेहार से एक, लोहरदगा से छह, पाकुड़ से 20, पलामू से 46, रामगढ़ से 32,रांची से 517, सरायकेला से 66, सिमडेगा से दो तथा प. सिंहभूम से 54 मरीज शाामिल हैं, जिन्हें स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज किया गया़ मंगलवार को 39124 सैंपल की जांच हुई है. राज्य में अबतक 2222956 सैंपल लिये गये हैं और 2213350 सैंपल की जांच हो चुकी है. इस समय बैकलॉग में 9606 सैंपल हैं.

रिकवरी रेट 84.67 प्रतिशत

झारखंड का रिकवरी रेट 84.67 प्रतिशत हो गया है. राष्ट्रीय औसत 83 प्रतिशत है. वहीं मरीजों का ग्रोथ रेट 1.57 प्रतिशत है. मृत्यु दर 0.84 प्रतिशत है.

ऊर्जा विभाग का एक कर्मी कोरोना संक्रमित, दो दिनों के लिए कार्यालय बंद :

ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव कोषांग में कार्यरत एक कर्मी कोरोना संक्रमित पाया गया है. विभाग के ज्यादातर कर्मी उनके संपर्क में आये हैं. इस कारण कार्यालय को बुधवार और गुरुवार को बंद रखा जायेगा. ऊर्जा मंत्रालय के सचिव के साथ मुख्य सचिव और प्रधान सचिव ऊर्जा विभाग की बैठक के मद्देनजर संबंधित प्रशाखा पदाधिकारी व कर्मियों एक अक्तूबर को कार्यालय आने को कहा गया है.

उड़नदस्ता टीम ने निजी लैब की जांच की, कुछ नहीं मिला

रांची. कोरोना की रैपिड एंटीजेन जांच के लिए जिला प्रशासन के आदेश पर गठित उड़नदस्ता टीम के सदस्योें ने मंगलवार को एक निजी लैब की जांच की. जांच कर यह पता करने का प्रयास किया गया कि आरटीपीसीआर की जगह रैपिड जांच कर मरीजों को जल्द रिपोर्ट तो नहीं जारी कर दी जा रही है. आरटीपीसीआर का पैसा लेकर रैपिड एंटीजेन करने के सत्यता की भी जांच की गयी. सूत्रों की मानेें तो टीम को जांच में कोई गड़बड़ी पकड़ में नहीं आयी है. टीम द्वारा लैब की जांच के बाद निजी अस्पतालों की जांच की जायेगी.

रिम्स अधीक्षक निगेटिव, अस्पताल से मिली छुट्टी

रांची. रिम्स अधीक्षक डॉ विवेक कश्यप की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आ गयी है. रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद मंगलवार को उनको अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी. घर जाने से पहले उनके हार्ट की मॉनिटरिंग डॉ प्रशांत कुमार ने की. गौरतलब है कि कोरोना पॉजिटिव अाने के बाद डॉ कश्यप को हार्ट अटैक आया था. उनके दिल की बायीं आर्टरी पूरी तरह से बंद थी, जिसे एंजियोप्लास्टी कर सही किया गया था.

शिक्षा मंत्री के स्वास्थ्य में ज्यादा सुधार नहीं, फिलहाल नहीं किये जायेंगे एयरलिफ्ट

रांची़ रिम्स के कोविड आइसीयू में भर्ती शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के स्वास्थ्य में अभी ज्यादा सुधार नहीं हुआ है. ऑक्सीजन का स्तर पहले से बढ़ा है, लेकिन निर्धारित मानक को पूरा नहीं कर रहा है. ऑक्सीजन लेवल हमेशा घट-बढ़ रहा है. रिम्स के क्रिटिकल केयर, मेडिसिन विभाग सहित अन्य विभाग के डॉक्टर शिक्षा मंत्री के इलाज में लगे हुए हैं. क्रिटिकल केयर विशेषज्ञ डॉ प्रदीप भट्टाचार्य ने बताया कि वह हार्ट, बीपी व शुगर के पुराने मरीज हैं. इसलिए सभी स्तर से उनकी मॉनिटरिंग की जा रही है. उनका एंजियोप्लास्टी हो चुका है. ड

इसलिए डॉक्टरों ने मंगलवार को हार्ट की जांच करायी, जिसमें सब कुछ सामान्य पाया गया. हालांकि फेफड़ा में संक्रमण व कोरोना का दुष्प्रभाव देखने को मिला है, लेकिन चिंता की बात नहीं है.इधर, शिक्षा मंत्री को रिम्स से दिल्ली एयरलिफ्ट करने की बात जोरों पर थी, लेकिन रिम्स के डॉक्टरों का कहना है कि शिक्षा मंत्री का इलाज करने में वह पूरी तरह से सक्षम हैं. रिम्स टास्क फोर्स के डॉ निशित एक्का ने बताया कि शिक्षा मंत्री की स्थिति नियंत्रित है, लेकिन फिलहाल कुछ नहीं कहा जा सकता है. उनके स्वास्थ्य की जानकारी सरकार व परिजनों को समय-समय पर दी जा रही है़

Post by : Pritish sahay

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें