डा. भारती कश्‍यप को IMA नेशनल अवार्ड, झारखण्ड की पहली चिकित्सक जिनको मिला ये अवार्ड

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

रांची : रांची की नेत्र चिकित्‍सक डा. भारती कश्‍यप को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की ओर से 'डॉक्टर ऑफ दी इयर' चुना गया है. 23 और 24 सितम्बर को आईएमए द्वारा दिल्ली में आयोजित होने वाले समारोह में डॉ. भारती कश्यप को अवार्ड प्रदान किया जायेगा. उन्हें नेशनल इंडियन मेडिकल एसोसियशन ने वर्ष 2014 में भी 'मेड अचिएवेर्स' अवार्ड से सम्मानित किया था.

समाज सेवा, अंतराष्ट्रीय सम्मेलनों में झारखण्ड के प्रतिनिधित्व एवं इंडियन मेडिकल एसोसियशन की गतिविधियों में बढ़-चढ़कर भाग लेने के लिए यह पुरस्कार मिला है. डॉ. भारती कश्यप विजन फॉर यंग झारखण्ड कैंपेन, विजन फॉर रूरल झारखण्ड कैंपेन, आई डोनेशन अवेयरनेस कैंपेन, सर्वाइकल कैंसर एवं एनीमिया उन्मूलन अभियान जैसी कई कैंपेन को सफलता पूर्वक वर्षो से झारखण्ड में चला रही हैं.

अनगड़ा में लगाया गया नि:शुल्‍क जांच शिविर

बुधवार को झारखण्ड शिक्षा परियोजना, वीमेन डॉक्टर्स विंग आईएमए झारखण्ड एवं कश्यप मेमोरियल आई बैंक (कश्यप मेमोरियल आई हॉस्पिटल की चैरिटेबल इकाई) के संयुक्त तत्वधान में अनगड़ा ब्लाक के सीताडीह गांव में 500 छोटे बच्चों के आंखों की जांच की गयी. शिविर में उन बच्चों को लाया गया था, जिनमे शिक्षकों द्वारा प्राथमिक जांच किये जाने पर दृष्टिदोष, विटामिन A की कमी, मोतियाबिंद की समस्या, आंखों में किसी भी प्रकार का संक्रमण, लाली की शिकायत पायी गयी थी.

शिविर में सभी बच्चों के चश्मे के पावर की जांच की गयी एवं उन्हें मुफ्त चश्मा भी प्रदान किया जायेगा. जिन बच्चों में आंखों का संक्रमण, खुजली एवं लाली पायी गयी उनको ड्राप और मलहम दिये गये. जिन बच्चों में विटामिन A की कमी पायी गयी उन्हें विटामिन A की गोलियां मुफ्त बांटी गयी एवं रांची के सभी 19 ब्लाक के मोतियाबिंद सर्जरी के लिए चिन्हित बच्चों को झारखण्ड शिक्षा परियोजना के द्वारा क्रमवार तरीके से लाया जायेगा एवं NRHM के माध्यम से मैं उनकी मुफ्त सर्जरी कश्यप मेमोरियल आई हॉस्पिटल में 14,15,16 एवं 17 जुलाई को की जायेगी.

डॉ. भारती कश्यप ने कहा की छोटे बच्चों का ऑपरेशन बहुत पहले से कश्यप मेमोरियल आई हॉस्पिटल में कराती आ रही हैं. साल 2007-2009 में झारखण्ड शिक्षा परियोजना के सहयोग से रांची के सारे ब्लॉक्स में बच्चों का स्क्रीनिंग, निशुल्क चश्मा वितरण और मोतियाबिंद का सफल ऑपरेशन कराया गया है . 2010 में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के सहयोग से बच्चों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ. 2013 में रास्ट्रीय ग्रामीण विकास मंत्री के जरिये पश्चिम सिंघभूम के नक्सल इलाकों में, 2014 में लातेहार और पलामू के सभी ब्लाक में बच्चों का सफल ऑपरेशन कराया गया. बच्चों के मोतियाबिंद के रोकथाम के दिशा में राज्य में किसी भी संस्थान ने काम नहीं किया है, इसलिए यह मेरी लिए बहुत चुनौतीपूर्ण है.

हमने नक्सल प्रभावित क्षेत्रो के 17 लाख से भी ज्यादा सरकारी स्कूलो में पढ़ने वाले बच्चो के आंखों का जांच की, हजारों बच्चो को मुफ्त चश्मा दिया और सैकड़ो बच्चों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन कश्यप आई अस्पताल में लाकर किया और उन्हें रौशनी दी और उन्हें स्कूल भेजा, पढाई शुरू करवाई.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें