1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ramgarh
  5. dozens of shops washed away in bhairavi river flood near rajrappa temple in ramgarh district of jharkhand

Flood in Jharkhand: रजरप्पा में भैरवी नदी में उफान, बाढ़ में बह गयी मंदिर के पास की दर्जनों दुकानें

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Rajrappa Flood: रजरप्पा मंदिर के पास दुकानों के ऊपर से बह रहा है पानी.
Rajrappa Flood: रजरप्पा मंदिर के पास दुकानों के ऊपर से बह रहा है पानी.
Prabhat Khabar

रजरप्पा (सुरेंद्र कुमार/शंकर पोद्दार) : झारखंड के रामगढ़ जिला में भैरवी नदी में शुक्रवार (24 जुलाई, 2020) को अपना रौद्र रूप दिखाया. लगातार दो दिन से हो रही बारिश की वजह से उपनायी भैरवी नदी के तीव्र वेग में मां छिन्नमस्तिका मंदिर के पास स्थित दर्जनों दुकानें बह गयीं. लॉकडाउन की वजह से मंदिर बंद है. इसलिए आसपास की दुकानें भी बंद हैं. सो कोई हताहत नहीं हुआ है.

भैरवी नदी के आसपास चारों ओर पानी ही पानी.
भैरवी नदी के आसपास चारों ओर पानी ही पानी.
Prabhat Khabar

लगातार दो दिन से रामगढ़ जिला के इस इलाके में भारी बारिश हो रही है. इसकी वजह से नदी में बाढ़ गयी है. बाढ़ के कारण दुकानों की बांस-बल्लियां और तिरपाल, प्लास्टिक आदि नदी में बह गये. जिन दुकानों में बक्सा, पेटियां थीं, सब डूब गये. कुछ दुकानदारों को मामूली आर्थिक नुकसान पहुंचा है.

रामगढ़ जिला के रजरप्पा में उफनायी भैरवी नदी.
रामगढ़ जिला के रजरप्पा में उफनायी भैरवी नदी.
Prabhat Khabar

मूसलाधार बारिश के कारण भैरवी नदी का जलस्तर बढ़ने से मंदिर क्षेत्र में स्थित छलका पुलिया के ऊपर से पानी बह रहा है. कई दुकानें बाढ़ की भेंट चढ़ गयीं. दर्जनों दुकानों में बाढ़ का पानी घुस गया. उधर, भैरवी नदी में बाढ़ की सूचना से कुछ लोग रोमांचित हो उठे हैं और बाढ़ का नजारा देखने के लिए पहुंच रहे हैं.

बढ़ रहा दामोदर का जलस्तर

लगातार दो दिन से झमाझम बारिश की वजह से अब दामोदर नद का भी जलस्तर बढ़ रहा है. भैरवी और दामोदर का संगम स्थल उफान पर है. नदी किनारे सभी दुकानें जलमग्न हो गयी हैं. जानकारों का कहना है कि और एक-दो दिन इसी तरह मूसलाधार बारिश हुई, तो यहां का जलस्तर और बढ़ेगा.

चार माह से बंद है मां छिन्नमस्तिके का द्वार

कोरोना संक्रमण की वजह से जारी लॉकडाउन को लेकर पिछले चार माह से रजरप्पा स्थित मां छिन्नमस्तिके मंदिर में श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद है. हालांकि, मंदिर के पुजारी प्रतिदिन मां छिन्नमस्तिके देवी की दैनिक पूजा-अर्चना कर रहे हैं. साथ ही दोपहर में माता रानी को भोग लगाकर संध्या आरती भी कर रहे हैं.

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें