1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. palamu
  5. army jawan dies in order to bring an oxygen tanker from faridabad to delhi silence in the village smj

पलामू के जवान की फरीदाबाद से दिल्ली ऑक्सीजन टैंकर लाने के क्रम में मौत, गांव में पसरा सन्नाटा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
पलामू के राजहरा गांव के जवान की फरीदाबाद में सड़क दुर्घटना में मौत. इनसेट में जवान शशिभूषण पांडेय.
पलामू के राजहरा गांव के जवान की फरीदाबाद में सड़क दुर्घटना में मौत. इनसेट में जवान शशिभूषण पांडेय.
प्रभात खबर.

Jharkhand news (अजीत मिश्र- मेदिनीनगर) : पलामू जिला अंतर्गत नावाबाजार प्रखंड का राजहरा गांव में मातम पसरा है. राजहरा गांव के शशि भूषण पांडेय आर्मी के मेडिकल विभाग में कार्यरत थे. फरीदाबाद से शशिभूषण ऑक्सीजन से भरा ट्रक लेकर दिल्ली के बेस हॉस्पिटल जा रहे थे. इसी दौरान फरीदाबाद के पलवल में ट्रक दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिससे आर्मी के जवान शशिभूषण पांडेय की मौत हो गयी. रविवार की शाम जवान का पार्थिव शरीर पैतृक गांव राजहरा पहुंचा. शव पहुंचते ही सबके आंखें नम हो गयी. घर के लोग दहाड़ मार कर रोने लगे.

शनिवार की सुबह में शशिभूषण पांडेय के परिवार के सदस्यों को शशिभूषण के शहीद होने की जानकारी मिली. बताया गया कि शशिभूषण पांडेय वर्ष 2004 में आर्मी के मेडिकल विभाग में बहाल हुए थे. 2020 के दिसंबर महीने में शशिभूषण ने योगदान दिया था .

आप अपना ख्याल रखियेगा, अभी समय ठीक नहीं चल रहा है

शहीद शशिभूषण पांडेय के पिता हरिद्वार पांडेय के आंखों के आंसू सूखने का नाम नहीं ले रहा है. वह बताते हैं कि शुक्रवार की शाम 4:30 बजे शशिभूषण से आखिर बार बात हुई थी. हालचाल लेने के बाद पूछा कि बाबूजी आपकी तबीयत कैसी है? मैंने बताया कि ठीक है, तो कहा अभी की परिस्थिति विकट है अपना ख्याल रखियेगा. हम ड्यूटी पर जा रहे हैं. फरीदाबाद से आॅक्सीजन लेकर आना है. कोरोना में लोगों की जान बचाने के लिए आॅक्सीजन काफी कारगर है. बाबूजी अपना ख्याल रखियेगा. हम डयूटी से लौटकर बात करेंगे. पर कौन जानता था कि अब शशिभूषण कभी ड्यूटी से नही लौटेगा. यह कह कर शशिभूषण के पिता फफक कर रो पड़ते हैं.

लाॅकडाउन की वजह से पत्नी और बच्चे गांव पर ही थे

आर्मी में कार्यरत शशिभूषण पांडेय की पत्नी रूपा देवी और दो बच्चे कोरोना के कारण गांव पर ही थे. शशिभूषण पांडेय ने कहा था अभी दिल्ली में कोरोना काफी चरम पर है स्थिति सामान्य होने के बाद पत्नी और बच्चों को लेकर दिल्ली जाने की योजना थी पर ऐसा नही हो सका .पत्नी रूपा देवी का री रो कर बुरा हाल है.

गांव पहुंच कर जताया शोक

अभिभावक संघ के अध्यक्ष सह भाजपा नेता किशोर पांडेय, इंटक एरिया सचिव जन्मेजय पांडेय, रवींद्र पांडेय, परीक्षित पांडेय आदि राजहरा गांव पहुंचे. अभिभावक संघ के अध्यक्ष श्री पांडेय ने कहा कि शशिभूषण ने देश की सेवा में अपना प्राण न्यौछावर किया है. परिवार के प्रति गहरी संवेदना के साथ हम वीर जवान को नमन करते हैं. बसपा के प्रदेश उपाध्यक्ष राजन मेहता, नावाबाजार थाना प्रभारी लालजी यादव, ब्राह्मण महासभा के प्रखंड अध्यक्ष दिवाकर पांडेय, अजय पांडेय सहित सैकड़ों लोगों ने अंतिम संस्कार मे शामिल होकर शहीद जवान को अंतिम विदाई दी.

कोरोना संक्रमण का दिखा असर

दिल्ली के बेस आर्मी हास्पिटल में तैनात जवान शशिभूषण पांडेय की मौत ऑक्सीजन सिलिंडर फरीदाबाद से दिल्ली हाॅस्पिटल में लाने के दौरान सड़क दुर्घटना में है गया. जवान शशिभूषण का शव रांची एयरपोर्ट से रविवार को दोपहर करीब 3 बजे पैतृक गांव राजहरा पहुंचा. लेकिन, एक भी अधिकारी शव के साथ जवान को श्रद्धांजलि देने नहीं पहुंचे. सिर्फ नावाबाजार पुलिस पहुंची.

शव पहुंचते ही शव को देखने के लिए उमड़ पड़ी भीड़

जवान का शव जैसे ही गाँव पहुंचा. लोग कोरोना संक्रमण का भय के बावजूद लोग शव देखने के लिए ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी. इंटक के राजहरा एरिया सचिव सह राजहरा निवासी जन्मेजय पांडेय ने कहा कि शहीद जवान शशिभूषण पांडेय काफी मिलनसार था. गांव आता था तो गाँव के सभी लोगों से मिलकर हाल- चाल जानता था. उसके मौत से पूरे गांव के लोग मर्माहत हैं.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें