1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. lohardaga
  5. world tribal day 2021 the deputy commissioner of lohardaga said kcc loan will change the picture of farmers this is how you will get benefit grj

विश्व आदिवासी दिवस पर बोले उपायुक्त, KCC loan से किसानों की बदलेगी तस्वीर, ऐसे मिलेगा फायदा

विश्व आदिवासी दिवस पर लोहरदगा के उपायुक्त ने कहा कि किसान ऐसी फसल लगाएं, जिससे आय हो. सब्जी या दलहन को खेती की जा सकती है. इसमें जो भी पूंजी चाहिए, वो बैंक देगा. ऋण का इस्तेमाल सिर्फ कृषि कार्य में ही करें.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
World Tribal Day 2021 : किसानों को केसीसी ऋण का स्वीकृति पत्र देते उपायुक्त
World Tribal Day 2021 : किसानों को केसीसी ऋण का स्वीकृति पत्र देते उपायुक्त
प्रभात खबर

World Tribal Day 2021, लोहरदगा न्यूज : आज विश्व आदिवासी दिवस है. लोहरदगा के उपायुक्त दिलीप कुमार टोप्पो द्वारा इस मौके पर 557 किसानों को कुल 165.30 लाख रुपये का केसीसी ऋण का स्वीकृति पत्र सौंपा गया. उन्होंने कहा कि पहले से स्थितियां बदली हैं. अब सरकार किसानों की अच्छी आय के लिए उन्हें केसीसी ऋण दे रही है. ये आपके लिए काफी मददगार साबित होगा.

उपायुक्त ने कहा कि आज से 20-25 वर्ष पहले लोग सिर्फ पारंपरिक खेती ही करते थे. यहां के किसान धान, मड़ुआ, गोड़ा धान व गेहूं ही उगाते थे. इसके साथ-साथ किसानों को अतिवृष्टि, अकाल आदि के समय काफी नुकसान का सामना करना पड़ता था. अन्न का उत्पादन कम होने से लोगों की भूख से भी मौत होती थी, लेकिन अब स्थितियां बदली हैं. अब सरकार किसान क्रेडिट कार्ड अर्थात केसीसी ऋण दे रही है.

डीसी ने कहा कि किसान इस ऋण का इस्तेमाल किसान खेती में कर रहे हैं. किसानों के पास अब पूंजी है. सरकार ने केसीसी ऋण कम ब्याज पर किसानों को देने का निर्णय लिया है. इसे ऋण ना समझें, एक मदद समझें. यह किसानों के लिए ही गठित कोष से दिया जा रहा है. केसीसी ऋण एक घड़े की तरह है. इससे ऋण निकालें और जितना निकालें. एक बार फसल की उपज आने के बाद उस ऋण को सबसे पहले चुकाएं. फिर अगली बार खेती करने के लिए फिर ऋण निकालें और उपज बेचने के बाद फिर ऋण चुका दें.

लोहरदगा के डीसी ने कहा अगर किसान इस व्यवस्था से खेती करें तो सिर्फ खेती ही नहीं उनकी आर्थिक दशा भी सुधरेगी. किसान ऐसी फसल लगाएं जिससे आय हो. इसमें सब्जी या दलहन को खेती को अपनाया जा सकता है. किसानी कार्य को व्यावसायिक रूप में लेना है. मेहनत से ही आगे बढ़ा जा सकता है. इसमें जो भी पूंजी चाहिए, वो बैंक देगा. ऋण का इस्तेमाल सिर्फ कृषि कार्य में ही करें. बेहतर कृषि कर आप अपना जीवन स्तर सुधार सकते हैं, बच्चों के बेहतर व उच्च शिक्षा दिला सकते हैं. आपकी अन्य आवश्यकता पूरी हो सकती है.

व्यावसायिक खेती के लिए अच्छी गुणवत्ता का बीज, खाद, समय पर सिंचाई करेंगे और बाजार की भी पहचान करेंगे, तो ही आपकी आय बढ़ेगी. किसान आगे बढ़ेगा तो जिला आगे बढ़ेगा. जिला आगे बढ़ेगा तो राज्य आगे बढ़ेगा और हमारा राज्य आगे बढ़ेगा तो हमारा देश आगे बढ़ेगा. मौके पर बडी संख्या में किसान और अधिकारी मौजूद थे.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें