1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. lohardaga
  5. jharkhand news ajay kumar singhs martyrdom day said lohardaga dc naxalites join the mainstream of society grj

Jharkhand News : अजय कुमार सिंह के शहादत दिवस पर बोले लोहरदगा डीसी- समाज की मुख्यधारा से जुड़ें नक्सली

पुलिस अधीक्षक प्रियंका मीणा ने कहा कि शहीद अजय कुमार सिंह के त्याग और बलिदान का दिन है. यह घटना पेशरार में 20 वर्ष पहले हुई थी जो कि वर्तमान पेशरार प्रखंड से बिल्कुल ही अलग है. आज का पेशरार विकास की ओर अग्रसर है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News : श्रद्धांजलि अर्पित करतीं एसपी प्रियंका मीणा
Jharkhand News : श्रद्धांजलि अर्पित करतीं एसपी प्रियंका मीणा
प्रभात खबर

Jharkhand News, लोहरदगा न्यूज (गोपी कुंवर) : झारखंड के लोहरदगा स्थित अजय उद्यान में आज सोमवार को शहीद पुलिस अधीक्षक अजय कुमार सिंह के शहादत दिवस पर उन्हें श्रद्धांजलि दी गयी. उपायुक्त दिलीप कुमार टोप्पो ने कहा कि नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए अजय कुमार सिंह जैसे बहादुर पुलिस पदाधिकारी को हमने खो दिया है, लेकिन उनकी प्रेरणा हमेशा अनुकरणीय हैं. इस दौरान नक्सलियों से उन्होंने अपील की है कि समाज की मुख्यधारा से जुड़ें और सरकारी योजनाओं का लाभ लेकर विकास में सहयोग करें.

लोहरदगा के उपायुक्त दिलीप कुमार टोप्पो ने कहा कि आज लोहरदगा जिले के लिए शौर्य का दिन है. इस दिन हमारे जिले के जांबाज व बहादुर पुलिस अधीक्षक वर्ष 2000 में नक्सलियों के साथ हुई लड़ाई में शहीद हो गये थे. इस दिन हमलोगों ने एक बहुत ही काबिल व बहादुर पुलिस पदाधिकारी का खोया. भले ही वे शारीरिक रूप से हमारे बीच मौजूद नहीं है लेकिन उनकी आत्मा और उनकी प्रेरणा सदैव हमारे लिए अनुकरणीय है. इस उद्यान को हम आने वाले दिनों में और नये रूप में संवारेंगे. उपायुक्त ने कहा कि जिले के वैसे भटके हुए लोग, जो नक्सली/उग्रवादी विचारधारा से जुड़े हुए हैं, उनसे अपील है कि वे सरकार के द्वारा चलायी जा रही कल्याणकारी योजनाओं से जुड़ें और उसका लाभ उठायें. मुख्यधारा से जुड़े और जिला के विकास में सहयोग करें. यही समय की मांग है.

पुलिस अधीक्षक प्रियंका मीणा ने कहा कि शहीद अजय कुमार सिंह के त्याग और बलिदान का दिन है. यह घटना पेशरार में 20 वर्ष पहले हुई थी जो कि वर्तमान पेशरार प्रखंड से बिल्कुल ही अलग है. आज का पेशरार विकास की ओर अग्रसर है. वहां के बच्चे स्कूली शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं. उनका भविष्य उज्ज्वल है. आज के बीस वर्ष पहले पेशरार में बच्चे की पढ़ाई की कल्पना नहीं कर सकते थे. शहीद के बलिदान के बाद हम सभी के प्रयास से जो शांति व्यवस्था जिले में कायम हुई है, उसे हम आगे इसी तरह कायम रखना चाहते हैं. उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें