1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. lohardaga
  5. dry leaves safe in the shed for manufacturing briquettes lohardaga dc said production increase smj

ब्रिकेट निर्माण के लिए शेड में सूखे पत्ते रहेंगे सुरक्षित, लोहरदगा डीसी बोले- उत्पादन में होगी वृद्धि

जंगल से लाये गये सूखे पत्ते अब बेकार नहीं होंगे. लोहरदगा डीसी ने तिसिया गांव में ब्रिकेटिंग प्लांट शेड का उद्घाटन किया. इस मौके पर विकास योजनाओं से अधिक से अधिक लोगों को जोड़ने की अपील की है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Jharkhand news: लोहरदगा डीसी ने ब्रिकेटिंग प्लांट शेड उद्घाटन मौके पर लोगों को किया संबोधित.
Jharkhand news: लोहरदगा डीसी ने ब्रिकेटिंग प्लांट शेड उद्घाटन मौके पर लोगों को किया संबोधित.
प्रभात खबर.

Jharkhand news: झारखंड के लोहरदगा डीसी दिलीप कुमार टोप्पो ने किस्को प्रखंड के तिसिया गांव में ब्रिकेटिंग प्लांट शेड का उद्घाटन किया. इस शेड का निर्माण हिंडाल्को प्रबंधन इंडस्ट्रीज के सीएसआर मद के कुल 3.5 लाख की राशि से डेढ़ माह में किया गया है. इस शेड के बनने से बारिश के समय या खुले आसमान के नीचे रखे सूखे पत्तों को खराब होने से बचाना है.

इस मौके पर डीसी श्री टोप्पो ने कहा कि आज से दो माह पहले तक इस जगह में काफी जलजमाव हो जाता था. शेड नहीं होने की वजह से ब्रिकेटिंग निर्माण के लिए लाये गये सूखे पत्ते बारिश की वजह से गीले हो जा रहे थे, लेकिन अब शेड बन जाने से उत्पादन में वृद्धि होगी. पत्तों को सुरक्षित रखने में आसानी होगी.

उन्होंने कहा कि ब्रिकेटिंग प्लांट के लिए अलग से ट्रांसफरमर का एस्टॉलेशन जल्द विद्युत प्रमंडल की ओर से किया जायेगा. जिला प्रशासन लोगों को ब्रिकेट निर्माण के लिए जंगल से पत्ते लाने के लिए भुगतान कर रही है जिससे प्रतिदिन 200-250 रुपये की आय प्रति व्यक्ति को हो रही है.

इस वर्ष से पहले तक इन पत्तों को नष्ट करने के लिए जंगल में आग लगाया जाता था जिससे प्रदूषण फैलता था. वहीं, जंगली जानवरों व पर्यावरण का नुकसान पहुंचता था. डीसी ने हिंडाल्को प्रबंधन को इस शेड निर्माण के लिए धन्यवाद दिया. इस ब्रिकेटिंग प्लांट का उद्घाटन इसी वर्ष मार्च माह में हुआ था.

अपने अधिकारों को जानें, योजनाओं का लाभ लें

लोहरदगा डीसी ने कहा कि लोग अपने अधिकारों को जानें और सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं का लाभ लें. 16 नवंबर से 28 दिसंबर, 2021 तक राज्य सरकार के निर्देश पर आपके अधिकार, आपकी सरकार, आपके द्वार कार्यक्रम चलाया जा रहा है. इसमें अधिक से अधिक संख्या में अपनी समस्याओं से संबंधित आवेदन दें और योजनाओं का लाभ उठायें.

उन्होंने कहा कि खाद्यान्न के लिए राशन कार्ड, पेंशन, प्रधानमंत्री आवास योजना, बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर, बिरसा आवास आदि के लिए आवेदन दें. जिनको कंबल चाहिए कंबल लें. बच्चों के लिए छात्रवृत्ति का फार्म भरें. कृषि/भूमि संरक्षण से सिंचाई योजनाएं लें. केसीसी ऋण के लिए आवेदन अपने जनसेवक, बीटीएम, एटीएम, कृषक मित्र आदि के माध्यम से दे सकते हैं. केसीसी से बीज, खाद आदि की जरूरतें पूरी करें. किसान मुनाफा देनेवाले फसलों के चयन का खेती करें.

इसी प्रकार मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना अंतर्गत मुर्गी, बकरी-बकरा, सूकर, गाय, बत्तख पालन आदि के लिए भी पशुओं का वितरण कर रही है. जो महिलाएं हंड़िया-दारू बेचती हैं उनके लिए मुख्यमंत्री फूलो-झानो आशीर्वाद योजना के अंतर्गत JSLPS के जरिये स्वरोजगार से जोड़ने की योजना है. जिनके पास कपड़े नहीं है वो अपने राशन कार्ड से सोना सोबरन योजना के तहत साड़ी, धोती, लूंगी आदि मात्र 10 रुपये डीलर से ले सकते हैं.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डीडीसी अखौरी शशांक सिन्हा ने कहा कि सरकार अभी 16 नवंबर से 28 दिसंबर, 2021 तक आपके अधिकार, आपकी सरकार, आपके द्वार कार्यक्रम चला रही है. 4 दिसंबर को भी पाखर पंचायत में यह कार्यक्रम आयोजित है. इस कार्यक्रम में अधिक से अधिक लोग अपनी समस्याएं लेकर पहुंचे और आवेदन दें.

श्री सिन्हा ने कहा कि जिनके पास आवास नहीं है वो प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत अपना आवेदन अवश्य दें, आवास मिलेगा. जिनकी उम्र 60 वर्ष पूरी हो चुकी हो, जो विधवा हैं, निराश्रित हैं, दिव्यांग हैं वे पेंशन के लिए आवेदन दें, पेंशन मिलेगा. इसके लिए जरूरी दस्तावेजों के साथ आवेदन दें.

जिला सहकारिता पदाधिकारी ने कार्यक्रम में बताया कि इस वित्तीय वर्ष में अब तक कुल 99,844 किग्रा पत्तों को इकट्ठा किया गया, जिससे 27,853 किग्रा ब्रिकेट का उत्पादन किया गया. इसमें 22,140 किग्रा ब्रिकेट को बाजार में बिक्री की गयी. अभी 5,713 किग्रा ब्रिकेट का स्टॉक है. अभी शेड लग गया है और जल्द ही ट्रांसफार्मर भी लग जायेगा, जिसके बाद उत्पादन में तेजी आयेगी. मौके पर काफी संख्या में लोग मौजूद थे.

Posted By: Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें