1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. lohardaga
  5. 15 lakh families of jharkhand got new ration card minister dr rameshwar said another 10 lakh people also join soon smj

झारखंड के 15 लाख परिवारों को मिला नया राशन कार्ड, मंत्री डॉ रामेश्वर बोले- अन्य 10 लाख लोग भी जल्द जुड़ेंगे

झारखंड के मंत्री डॉ रामेश्वर उरावं ने लोहरदगा में सैम व मैम बच्चों के लिए स्पीरुलिना सप्लीमेंट कार्यक्रम की शुरुआत की. इस दौरान राज्य में किसी को भूखा नहीं रहने और अब तक 15 लाख परिवारों को नया राशन कार्ड देने की बात कही. साथ ही कहा कि जल्द ही अन्य 10 लाख लोगों को भी राशन कार्ड से जोड़ा जायेगा.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव ने स्पिरुलिना सप्लीमेंट कार्यक्रम के तहत स्टॉल का किया निरीक्षण.
मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव ने स्पिरुलिना सप्लीमेंट कार्यक्रम के तहत स्टॉल का किया निरीक्षण.
प्रभात खबर.

Jharkhand News (लोहरदगा) : झारखंड खाद्य, सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव ने कहा कि राज्य में कोई भूखा नहीं रहेगा. हमने 15 लाख नये परिवारों को राशन कार्ड दिया. अब सचिव से विचार-विमर्श के बाद अन्य 5-10 लाख नये लोगों को राशन कार्ड से जोड़े जाने पर सहमति बनी है.

समाज कल्याण विभाग द्वारा नगर भवन में आयोजित राष्ट्रीय पोषण माह अंतर्गत मंगलवार को स्पिरुलिना सप्लीमेंट कार्यक्रम का शुभारंभ मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव द्वारा किया गया. उद्घाटन के मौके पर सैम व मैम बच्चों के 12 माताओं को स्पिरुलिना किट दिया गया.

मौके पर मंत्री रामेश्वर उरांव ने कहा कि देश में आदिकाल से अनाज की कमी रही है. हर 10-12 साल में यहां सुखाड़ आता रहा है. द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद भी अनाज की कमी आयी. भुखमरी में 20-30 लाख लोग मरे, लेकिन उसके बाद इस देश में हरित और श्वेत क्रांति आयी.

पहले प्रायः घरों में खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में गाय-बकरियां होती थी, तो कुपोषण के शिकार कम लोग होते थे. अब लोगों के खेत कम हो रहे हैं जिससे अनाज की कमी हुई है. स्पिरुलिना सप्लीमेंट कार्यक्रम के तहत जो आहार दिया जायेगा उससे बच्चों को पोषण मिलेगा. उन्होंने कहा कि जब अन्न मिलेगा, तो कुपोषण दूर होगा.

उन्होंने कहा कि हेमंत सरकार ने निर्णय लिया है कि मध्याह्न भोजन के अंतर्गत सरकारी विद्यालयों में हफ्ते में तीन दिन की बजाये 6 दिन अंडे दिया जायेगा. कहा कि बच्चों, युवा, व्यस्क, माताओं के साथ-साथ वृद्धों को भी पोषाहार की जरूरत है. संयुक्त परिवार में सभी लोगों की जरूरतें पूरी होती हैं जबकि छोटे परिवार में माता-पिता अगर साथ नहीं रहते, तो उन्हें पूरा पोषण नहीं मिल पाता है. कहा कि अब तक 15 लाख नये परिवारों को राशन कार्ड दिया गया है. जल्द ही सचिव से विचार-विमर्श के बाद अन्य 5-10 लाख नये लोगों को राशन कार्ड उपलब्ध कराया जायेगा.

डीसी दिलीप कुमार टोप्पो ने कहा कि हमारे समाज में आज कुपोषण आम समस्या है. कुपोषण के कारण व्यक्ति के शरीर में कई प्रकार की कमियां देखी जा सकती है. किसी की सेहत कमजोर है, तो किसी की लंबाई कम. इसे दूर करने का उपाय यह है कि माताओं को पोषाहार दिया जाय.

उन्होंने कहा कि महिला स्वस्थ होगी, तो आनेवाली पीढ़ी स्वस्थ होगी. बच्चों व माताओं के स्वास्थ्य की देखभाल अतिआवश्यक है. जिले MTC केंद्रों में सैम व मैम बच्चों का इलाज किया जाता है, उन्हें पोषाहार देकर उन्हें सुपोषित किया जाता है. प्रखंडों में MTC केंद्रों का सुदृढ़ीकरण किया गया है. सर्वे कराने के बाद जिले में लगभग एक हजार कुपोषित बच्चों को इस स्पिरुलीना कार्यक्रम का लाभ दिया जायेगा. कार्यक्रम में 10 बच्चों का अन्नप्राशन और 10 गर्भवती महिलाओं की गोद भराई की रस्म पूरी की गयी. मौके पर अधिकारियों के साथ काफी संख्या में लोग भी मौजूद थे.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें