1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. latehar
  5. other items including corona vaccine found thrown in open area in manika of latehar cs said the matter investigated smj

झारखंड में बड़ी लापरवाही: खुले में फेंके वैक्सीन, सिरिंज और कार्ड, सीएस ने कही ये बात

लातेहार जिला अंतर्गत मनिका क्षेत्र में प्लस टू हाई स्कूल के पास कोरोना वैक्सीन समेत अन्य सामान खुले में फेंके मिले हैं. इसमें कोरोना की वैक्सीन, सिरिंज, वैक्सिन कार्ड व रैपर आदि फेंके गये हैं. सिविल सर्जन ने कहा कि इस मामले की जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की जायेगी.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
लातेहार के मनिका स्थित प्लस टू हाई स्कूल के पास खुले में फेंके गये कोरोना वैक्सीन समेत अन्य सामान.
लातेहार के मनिका स्थित प्लस टू हाई स्कूल के पास खुले में फेंके गये कोरोना वैक्सीन समेत अन्य सामान.
प्रभात खबर.

Jharkhand News (चंद्र प्रकाश सिंह, लातेहार) : केंद्र एवं राज्य सरकार के द्वारा शत-प्रतिशत कोरोना टीकाकरण कराने के लिए अभियान चलाया जा रहा है, तो दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी व कर्मियों की लापरवाही से इस अभियान को धक्का लग रहा है. ऐसा ही एक मामला लातेहार के मनिका में देखने को मिला है.

स्वास्थ्य विभाग ने लातेहार जिला के मनिका ब्लॉक स्थित प्लस टू हाई स्कूल में कोरोना टीकाकरण केंद्र स्थापित किया है. यहां हर दिन लोगों को कोरोना वैक्सीन दी जा रही है, लेकिन सोमवार को स्कूल के पास खुले मैदान में काफी संख्या में कोरोना की वैक्सीन, सिरिंज, वैक्सिन कार्ड व रैपर आदि फेंका हुआ पाया गया. इसमें कुछ इस्तेमाल की गयी वैक्सिन, तो कुछ सिलबंद वैक्सिन शामिल है.

दीगर बात तो यह है कि सिरिंज और सुईयों को भी खुले में फेंका जा रहा है. यह स्कूल आने-जाने वाले छात्रों के लिए घातक हो सकता है. लेकिन, विभागीय लापरवाही के कारण इन सामग्रियों को खुले मैदान में फेंक दिया गया है. मालूम हो कि मनिका हॉस्पिटल में 9 चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी व 3 स्वीपर हैं.

इसके बावजूद इस्तेमाल किये गये सुई, सिरिंज व वैक्सिन की वायल को खुले में फेंक दिया गया है. इस संबंध में पूछे प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ आकाश ने कहा कि यह गलत है. उन्होंने कहा कि इन सामग्रियों को वहां से हटाने का निर्देश दे दिया गया है.

मामले की जांच करेगें : सीएस

वहीं, इस संबंध में पूछे जाने पर सिविल सर्जन डाॅ एचसी महतो ने कहा कि इस्तेमाल की गयी कोरोना की वैक्सिन, सिरिंज व सुईयों को खुले में नहीं फेंकना है. इसके निस्तारण की एक प्रक्रिया है. किस हालत में इसे खुले में फेंका गया है. इसकी जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की जायेगी.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें