1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. latehar
  5. latehar civil court personnel protest march decision to be on mass leave on friday smj

लातेहार सिविल कोर्ट के कर्मियों का विरोध मार्च, शुक्रवार को सामूहिक अवकाश पर रहने का निर्णय

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
लातेहार सिविल कोर्ट के स्टोनोग्राफर की मौत के विरोध में कर्मियों ने निकाला विरोध मार्च.
लातेहार सिविल कोर्ट के स्टोनोग्राफर की मौत के विरोध में कर्मियों ने निकाला विरोध मार्च.
प्रभात खबर.

Jharkhand News (लातेहार) : झारखंड के लातेहार सिविल कोर्ट के स्टोनोग्राफर ध्रुव नारायण प्रसाद गुप्ता की मौत से आक्रोशित सिविल काेर्ट कर्मियों ने गुरुवार को विरोध मार्च निकाला. विरोध मार्च सिविल कोर्ट परिसर से शुरू प्रारंभ होकर मुख्य मार्ग होते हुए एसपी आवास तक गया. इस दौरान न्यायालय कर्मी जस्टिस फॉर डीएनपी गुप्ता, आरोपियों की गिरफ्तारी अविलंब हो एवं थाना प्रभारी को निलंबित करने संबंधी स्लोगन हाथों में तख्तियां लिए हुए थे. वहीं, इसके विरोध में 16 जुलाई को सिविल कोर्ट कर्मी सामूहिक अवकाश में रहेंगे.

न्यायालय कर्मी सड़क पर विधायक बैद्यनाथ राम एवं थाना प्रभारी अमित कुमार गुप्ता के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. एसपी आवास पहुंचने के बाद न्यायालय कर्मियों ने एसपी को एक मांग पत्र सौंपा. मांग पत्र में सदर थाना प्रभारी अमित कुमार गुप्ता को निलंबित करने एवं आरोपियों की अविलंब गिरफ्तारी की मांग की गयी.विरोध मार्च में विनोद कुमार सिंह, सज्जाद अहमद, अजय चौधरी, मुकेश प्रसाद, सुरेंद्र कुमार प्रधान, अशोक कुमार त्रिपाठी, राजेंद्र सिंह, अशोक चौधरी, आशीष भेंगरा, प्रभात तिग्गा, विकास कुमार, सुनील कुमार तिर्की, गोपाल भगत समेत कई न्यायालय कर्मी शामिल थे.

मालूम हो कि गत 11 जुलाई को जमीन विवाद में ध्रुव नारायण प्रसाद गुप्ता के साथ मारपीट की गयी थी. इस संबंध में उन्होंने सदर थाना में उनके भाई ईश्वरी प्रसाद गुप्ता, सत्येंद्र गुप्ता, गजेंद्र गुप्ता, राजा गुप्ता, शिवम प्रसाद, ईश्वरी प्रसाद गुप्ता के दामाद विनय प्रसाद, उनकी पुत्रियां रंजू देवी, संजू देवी एवं अंजू देवी के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया था.

विरोध मार्च के दौरान न्यायालय कर्मी अभिषेक कुमार ने बताया कि गत 11 जुलाई, 2021 को ध्रुव नारायण प्रसाद गुप्ता की पिटाई उनके भाई एवं भतीजों द्वारा की गयी थी. इस मारपीट में श्री गुप्ता गंभीर रूप से घायल हो गये थे. उन्हें लातेहार सदर हॉस्पिटल में प्राथमिक इलाज के बाद रिम्स रेफर कर दिया गया था. परिजनों ने उन्हें रांची के राज हॉस्पिटल में भरती कराया, लेकिन उनकी स्थिति में कोई सुधार नहीं होता देख उन्हें मेडिका में भरती कराया गया था. यहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गयी.

श्री कुमार ने बताया कि घटना के तुरंत बाद श्री गुप्ता ने सदर थाना में उनके भाई-भतीजे व अन्य लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी थी. लेकिन, घटना के 5 दिन गुजर जाने के बाद भी आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की गयी. यह पुलिस प्रशासन की निष्क्रियता दिखलाती है.

विरोध मार्च में विनोद कुमार सिंह, सज्जाद अहमद, अजय चौधरी, मुकेश प्रसाद, सुरेंद्र कुमार प्रधान, अशोक कुमार त्रिपाठी, राजेंद्र सिंह, अशोक चौधरी, आशीष भेंगरा, प्रभात तिग्गा, विकास कुमार, सुनील कुमार तिर्की, गोपाल भगत समेत कई न्यायालय कर्मी शामिल थे.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें