1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. kodarma
  5. rtpcr test report pending for 4 days difficult to detect corona infection in koderma smj

4 दिनों से RT-PCR जांच रिपोर्ट पेंडिंग, कोडरमा में कोरोना संक्रमण का पता लगाना हुआ मुश्किल

कोडरमा में RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट मिलने में देरी हो रही है. इसके कारण जिले में कोरोना के सही आंकड़े नहीं मिल पा रहे हैं. हालांकि, ट्रूनेट व रैपिड से जांच हो रही है. जिले में करीब 7000 RT-PCR का टेस्ट रिपोर्ट आना बाकी है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Jharkhand news: कोडरमा में RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट पेंडिंग होने से कोरोना के नहीं मिल रहे सही आंकड़े.
Jharkhand news: कोडरमा में RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट पेंडिंग होने से कोरोना के नहीं मिल रहे सही आंकड़े.
सोशल मीडिया.

Coronavirus Update News: कोडरमा जिले में 10 जनवरी के बाद से कोरोना जांच की प्रक्रिया लंबी हो गई है. ऐसे में काफी संख्या में जांच रिपोर्ट लंबित हो गया है. यह समस्या RT-PCR जांच को लेकर सैंपल हजारीबाग ना भेजकर बाहर भेजे जाने के बाद हुई है. ऐसे में संक्रमण का खतरा और बढ़ रहा है.

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक, आरटीपीसीआर से जांच को लेकर भेजे गये 6744 सैंपल की जांच रिपोर्ट अभी तक नहीं आयी है. ऐसे में कोरोना संक्रमित मरीजों की वास्तविक संख्या पता नहीं चल पा रहा है. हालांकि, सदर अस्पताल में ट्रू नेट व रैपिड एंटीजेन टेस्ट किट से जांच हो रही है, पर इसमें कम संक्रमित मिल रहे हैं. सदर में हुई कोरोना जांच में 3 नये लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है. रैपिड एंटीजेन टेस्ट किट से एक व ट्रू नेट से हुई जांच में दो लोग संक्रमित मिले हैं. दूसरी ओर राहत की बात है कि 112 और लोग कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं.

जिला सर्विलांस पदाधिकारी ने बताया कि गुरुवार को होम आइसोलेशन में रह रहे 112 लोग कोरोना से स्वस्थ हुए. इसके साथ ही जिले में सक्रिय मामलों की संख्या 398 रह गई है. उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमित मरीजों में 388 होम आइसोलेशन में हैं, जबकि 10 सदर अस्पताल स्थित डीसीएचसी में भर्ती हैं.

मालूम हो कि जिले से पहले कोरोना की आरटीपीसीआर जांच को लेकर सैंपल मेडिकल कॉलेज हजारीबाग भेजा जा रहा था, पर राज्य स्तर से मिले नये निर्देश के बाद गत दिनों से सैंपल जांच के लिए दिल्ली/हैदराबाद भेजे जाने की जानकारी है. जिस एजेंसी को काम मिला है उसका लैब इन दो शहरों में है. विभाग सैंपल कलेक्ट कर रांची भेज रहा है, जिसके बाद फिलहाल जांच के लिए सैंपल दिल्ली भेजे जाने की सूचना है, पर चार दिनों से रिपोर्ट ही नहीं आ रही है.

आरटीपीसीआर जांच को लेकर 10 जनवरी को 1453, 11 को 2108 व 13 जनवरी को 2187 लोगों का सैंपल लिया गया है. इससे खराब हाल ओमिक्रोन वैरिएंट की जांच को लेकर भेजे गये सैंपल का है. दिसंबर माह में भेजे गये सैंपल की रिपोर्ट अप्राप्त है. दिसंबर और जनवरी में अब तक विभाग ने 24 सैंपल इस वैरिएंट का पता लगाने के लिए भेजा है, पर रिपोर्ट पेंडिंग है.

टीका महोत्सव के दूसरे दिन 1145 किशोरों को लगी वैक्सीन

इधर, जिले में 15 प्लस के लिए चल रहे टीकाकरण अभियान के तहत गुरुवार को विभिन्न सेशन साइट पर 1145 टीनएजर्स को कोविड का टीका दिया गया. स्वास्थ्य विभाग द्वारा उपलब्ध कराये गये आंकड़ों के मुताबिक, 15 से 18 वर्ष आयु वाले बच्चों को कोरोनारोधी टीका देने के लिए दस उच्च विधालयों के अलावा सदर अस्पताल, सीएचसी व इसके अंतर्गत आने वाले विभिन्न पंचायतों में भी सेशन साइट बनाए गए थे. सदर अस्पताल स्थित सेशन साइट में 74, जयनगर में 228, चंदवारा में 67, डोमचांच में 139, कोडरमा में 393, मरकच्चो में 141 व सतगावां में 103 किशोरों को कोवैक्सिन का पहला डोज दिया गया.

बता दें कि किशोरों के टीकाकरण में तेजी लाने को लेकर डीसी के निर्देश पर प्रशासन ने 12 जनवरी से जिले में टीका महोत्सव की शुरुआत की है. इसके तहत विभिन्न सेशन साइटों के अलावा उच्च विद्यालयों में भी सेशन साइट बनाकर वैक्सीन लगाई जा रही है. इधर, गुरुवार को 45 हेल्थ केयर वर्कर, 10 फ्रंटलाइन वर्करों व एक वरिष्ठ नागरिक को बूस्टर डोज दिया गया.

Posted By: Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें