बिजली व पानी को लेकर त्राहिमाम कर रही जनता (फोटो)

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
शहर सहित आस-पास के लोग पिछले तीन दिन से बिजली व पानी की समस्या से जूझ रहे हैं. बिजली व पानी को लेकर त्राहिमाम कर रही जनता (फोटो)फोटो - 20 कोडपी 14कुमार पुजाराफोटो - 20 कोडपी 15मुकेश कुमार गुप्ताफोटो - 20 कोडपी 16निशांत कुमारफोटो - 20 कोडपी 17कुमार चंदनमशहर को मिल रही है मात्र 8 से 10 घंटे बिजली, तीन दिन से जलापूर्ति भी ठपउद्योग धंधे व पठन-पाठन पर इसका बुरा असर पर रहा है. प्रतिनिधि, झुमरीतिलैया शहर सहित आस-पास के लोग पिछले तीन दिन से बिजली व पानी की समस्या से जूझ रहे हैं. शहर में आठ से 10 घंटे ही बिजली मिल रही है. ऐसे में जरूरी कार्यों के अलावा उद्योग धंधे व पठन-पाठन पर इसका बुरा असर पर रहा है. छोटे-छोटे व्यवसाय पर भी इसका असर पड़ रहा है. इधर, शहर में तीन दिन से पेयजलापूर्ति भी ठप है. बताया जाता है कि बुधवार को पानी टंकी भी पूरी तरह सूख गयी. ऐसे में वहां जाकर पानी लेनेवाले लोग भी निराश होकर लौट गये. विभागों की खींचतान झेल रही जनताशहर में तीन दिन से बिजली व्यवस्था खराब रहने का कारण डीवीसी के पावर ट्रांसफारमर में खराबी बतायी जा रही है. डीवीसी के पावर हाउस में 50 एमबीए के ट्रांसफारमर में ब्रेक डाउन होने के बाद से विद्युत विभाग को पूरी बिजली नहीं मिल पा रही है. हालांकि विद्युत विभाग के एसइ (अधीक्षण अभियंता) सुनील कुमार की मानें तो शहर को फिलहाल कमी के बावजूद 14 से 16 घंटे बिजली मिल रही है. उन्होंने कहा कि बिजली सप्लाइ नहीं होने से विभाग के सामने भी संकट है. इधर जलापूर्ति ठप रहने के सवाल पर पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सहायक अभियंता गणपति शर्मा ने बताया कि बिजली नहीं रहने के कारण पानी सप्लाइ नहीं हो पा रहा है. उन्होंने कहा कि उरवां से पानी टंकी में नहीं चढ़ पा रहा है. इस कारण जलापूर्ति बाधित है. उन्होंने कहा कि गुरुवार को इसमें सुधार होने की उम्मीद है. ज्ञात हो कि विद्युत विभाग व पेयजल विभाग की आपसी खींचतान कई बार सामने आ चुकी है.बोले लोग ऐसे में जीना मुश्किल झुमरीतिलैया शहर निवासी कुमार पुजारा ने कहा कि बिजली नहीं रहने से काफी परेशानी होती है. उन्होंने कहा कि आज घर का सारा काम बिजली पर निर्भर है, पर व्यवस्था चौपट. वहीं मुकेश कुमार गुप्ता ने कहा कि बिना बिजली के हम कोई भी व्यापार नहीं कर पाते हैं. उन्होंने कहा कि पास में पावर प्लांट है, लेकिन शहर में चिराग तले अंधेरा वाली बात चरितार्थ होती है. निशांत कुमार ने कहा कि बिजली के अभाव में सभी सुविधा बेकार है. जर्जर तारों के कारण भी परेशानी होती है. उन्होंने कहा कि सही मॉनिटरिंग नहीं होने के कारण ऐसी स्थिति सामने आ रही है. कुमार चंदनम ने कहा कि हमारा प्रिटिंग प्रेस का काम है, लेकिन नियमित बिजली नहीं रहने के कारण ग्राहकों को समय पर काम कर मेटेरियल उपलब्ध नहीं करा पाते हैं. इस वजह से व्यापार प्रभावित हो रहा है. एसइ ने जारी किया अनुरोध पत्रडीवीसी की ओर से पूरी बिजली नहीं मिलने के बाद विद्युत विभाग के एसइ सुनील कुमार ने एक अनुरोध पत्र जनता के नाम जारी किया है. उन्होंने लिखा है कि कोडरमा जिला के उपभोक्ता को सूचित किया जाता है कि डीवीसी द्वारा कुछ दिनों से बिजली उत्पादन कम होने के कारण जिले को पूर्ण रूप से विद्युत आपूर्ति नहीं की जा रही है. दिन में दो तीन बार व रात में दो-तीन बार एक से दो घंटे का लोड शेडिंग किया जा रहा है. इस परिस्थिति आप लोगों से आग्रह है कि जहां आवश्यक है, वहीं बिजली का उपयोग करें. उन्होंने यह भी लिखा है कि डीवीसी से बात करने पर पता चला है कि यह स्थिति तीन चार दिन में सामान्य हो पायेगी. आग्रह है कि इस परिस्थिति में संयम बनाये रखंे.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें