1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. jamtara
  5. cyber criminal manoj mandal of dumaria village arrested 2 mobile phones including fake sim recovered smj

डुमरिया गांव का साइबर क्रिमिनल मनोज मंडल गिरफ्तार, फर्जी सिम सहित 2 मोबाइल फोन बरामद

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : साइबर क्रिमिनल मनोज मंडल को पुलिस ने किया गिरफ्तार.
Jharkhand news : साइबर क्रिमिनल मनोज मंडल को पुलिस ने किया गिरफ्तार.
प्रभात खबर.

Cyber Crime News, Jamtara news : जामताड़ा : साइबर अपराध और अपराधियों के खिलाफ साइबर थाना जामताड़ा एवं जिला पुलिस की अभियान तेज हो गयी है. एसपी दीपक कुमार सिन्हा के निर्देश पर साइबर क्रिमिनल के खिलाफ मुहिम तेज कर दी गयी है. इसी कड़ी में करमाटांड़ थाना क्षेत्र के शेखपुरा एवं डुमरिया गांव में साइबर क्रिमिनल के खिलाफ छापेमारी की गयी, जिसमें डुमरिया गांव से करमाटांड थाना की पुलिस ने साइबर क्रिमिनल मनोज मंडल पिता पूरण मंडल की गिरफ्तार की है. गिरफ्तार साइबर क्रिमिनल के पास से पुलिस ने 2 फर्जी सिम कार्ड सहित 2 मोबाइल फोन को बरामद किया है.

जानकारी के अनुसार, करमाटांड़ थाना क्षेत्र के डुमरिया एवं शेखपुरा गांव में साइबर क्रिमिनल को पकड़ने के लिए पुलिस ने टीम गठित कर छापेमारी अभियान चलाया. इस छापेमारी अभियान में स्थानीय थाना प्रभारी प्रशिक्षु एएसपी हरविंदर सिंह, एसआई राम शरीक तिवारी एवं पुलिस बल मौजूद थे. टीम द्वारा बीते 3 नवंबर, 2020 को डुमरिया गांव में अपराह्न लगभग 3 बजे से साइबर क्रिमिनल की खोज शुरू की गयी. छापेमारी की बात सुनते ही सभी साइबर क्रिमिनल इधर- उधर भागने लगे. इसी क्रम में डुमरिया गांव के मनोज मंडल को पुलिस टीम ने गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

मनोज का भाई पंकज भी साइबर अपराध में जा चुका है जेल

डुमरिया गांव से गिरफ्तार साइबर क्रिमिनल मनोज मंडल के परिवार के और भी सदस्य साइबर क्राइम के मामले में पूर्व से संलिप्त रहे हैं. मनोज का भाई पंकज मंडल वर्ष 2019 में साइबर अपराध के एक मामले में जेल जा चुका है. मनोज का भी पुराना इतिहास खंगालने में साइबर थाना पुलिस जुट गयी है.

साइबर थाना प्रभारी सुनील कुमार चौधरी ने बताया कि पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि साइबर अपराधियों का जुटान हुआ है. इसी के तहत एसपी के निर्देश पर छापेमारी की गयी, जिसमें डुमरिया के मनोज मंडल साइबर अपराध की घटना को अंजाम देते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया. पुलिस उसके पास से बरामद मोबाइल और सिम को खंगालने में जुट गयी है, ताकि यह पता किया जा सके कि उसने कितने लोगों को फिशिंग का शिकार बनाया है. इसके अलावा किन-किन खातों में साइबर अपराध के जरिये फिशिंग की राशि ट्रांसफर की गयी है. उस सब की तफ्तीश में पुलिस जुट गयी है.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें