टाटा स्टील में आउटसोर्स होगी कैंटीन

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

जमशेदपुर : टाटा स्टील में कई नये बदलाव होने जा रहे हैं. सबसे बड़ा बदलाव मैनेमजेंट यह करने जा रहा है कि वर्तमान वित्तीय वर्ष में पूरे कैंटीन को आउटसोर्स कर दिया जायेगा. दूसरी एजेंसियों के माध्यम से कैंटीन संचालित किया जायेगा.

इस कैंटीन में करीब 200 कर्मचारियों का मैनपावर है. इस मैनपावर का यूटिलाइजेशन दूसरे विभागों में किया जायेगा या फिर जरूरी पड़ने पर गैर वाजिब कर्मचारियों की संख्या को कम करने के लिए इएसएस या वीआरएस जैसी स्कीम लायी जायेगी. इसको लेकर लगभग तैयारी कर ली गयी है.

सूत्रों के मुताबिक, टाटा स्टील के वरिष्ठतम अधिकारियों की डिमना में होने वाली बैठक में इस पर लगभग सहमति बन गयी. हालांकि, डिमना की बैठक के बारे में कोई आधिकारिक जानकारी मैनेजमेंट की ओर से नहीं दी गयी है.

दूसरी ओर, यह भी तय किया गया है कि कंपनी के कर्मचारियों और अधिकारियों पर होने वाले वेज पर खर्च को भी कम किया जायेगा. मंदी की स्थिति से निबटने के लिए यह कदम उठाया जायेगा.

कैंटीन के मुद्दे पर सूत्रों ने जानकारी दी है कि टाटा मोटर्स की तर्ज पर टाटा स्टील में कैंटीन को आउटसोर्स कर चलाया जायेगा. सिर्फ कैंटीन चलाने के लिए स्टील वेज के कर्मचारियों को कतई नहीं रखा जा सकता है. स्टील वेज के कर्मचारियों का इस्तेमाल स्टील बनाने में किया जाये, यह सुनिश्चित करने को कहा गया है.

टय़ूब की तर्ज पर ही कैंटीन का प्रस्ताव भी यूनियन को भेजने को कहा गया है. निकट भविष्य में कैंटीन के आउटसोर्स करने को लेकर प्रस्ताव यूनियन के मिलने की उम्मीद जतायी जा रही है. इससे पहले सेंट्रलाइज्ड कैंटीन मैनेजमेंट कमेटी (सीसीएमसी) में भी इस पर फैसला लिया जा चुका है. इसके विकल्पों को तलाशने के लिए एक कमेटी टाटा मोटर्स भी भेजी जा चुकी है.

* यूथ मैनेजरों ने टीडब्ल्यूयू का दौरा किया
जमशेदपुर : टाटा स्टील के यूथ मैनेजरों ने टाटा वर्कर्स यूनियन का दौरा किया. टाटा वर्कर्स यूनियन के पदाधिकारियों के साथ बैठक की और मैनेजमेंट - यूनियन के संबंधों के बारे में विस्तार से जानकारी ली.

यूनियन अध्यक्ष पीएन सिंह ने यूनियन के बारे में जबकि महामंत्री बीके डिंडा ने ऐतिहासिक पहलुओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी. डिप्टी प्रेसिडेंट संजीव चौधरी टुन्नु ने भी कई मसलों पर विस्तार से बताया. इस दौरान कोलियरी के यूनियनों के पदाधिकारी संतोष महतो, एसएस जामा भी पहुंचे थे. इन लोगों ने कोलियरी यूनियनों के बारे में जानकारी भी दी.

नये मैनेजरों ने कई सवाल किये, जिसका जवाब यूनियन अधिकारियों ने दिया. करीब दो घंटे तक यहां यूथ मैनेजरों ने समय बिताया.

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें