सीसीटीवी फुटेज नहीं मिलने व मानीकुई में मिले दो शव ने बयां कर दी पूरी कहानी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
जमशेदपुर: सिदगोड़ा के सुखिया रोड निवासी आंशिक बनर्जी के लापता होने की घटना की जांच में सीसीआर डीएसपी सुधीर कुमार ने दोस्त अभिनव, अंकित और स्वर्णिम से पूछताछ की. तीनों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि आंशिक बनर्जी को साकची क्वाइन क्लब के पास छोड़ गया था. पुलिस ने तीनों के बयान के मुताबिक जुबिली पार्क गेट, साकची गोल चक्कर और बाग-ए-जमशेद के पास लगे सीसीटीवी कैमरा को खंगाला, लेकिन कुछ नहीं मिला. फुटेज में किसी भी जगह पर बताये गये समय के मुताबिक अभिनव आंशिक को बैठाकर स्कूटी से पार नहीं हुआ. बाद में पुलिस ने अभिनव की एक पुलिसकर्मी के साथ तीन जुलाई को चारों दोस्त की जुबिली पार्क से खाना खाने से लेकर अभिनव द्वारा आंशिक को क्वाइन क्लब तक छोड़ने की जांच की, लेकिन पुलिस को जांच में कुछ नहीं मिला.

पुलिस आंशिक के तीनों दोस्त अंकित, स्वर्णिम और अभिनव को अकेले में जाकर पूछताछ करना चाहती थी. इस बीच स्वर्णिम और अंकित को उसके माता-पिता जबरन वहां से लेकर चले गये. अभिनव अकेला हो गया, जिसके बाद पुलिस के सामने उसने घटना की कहानी बता दी. इसके बाद पुलिस अभिनव को हिरासत में ले लिया. पुलिस ने कुछ देर बाद स्वर्णिम और अंकित को पकड़कर पूछताछ के लिए कदमा थाना ले गयी. पुलिस को पांच घंटे की जांच के बाद घटना की कहानी का पता चला.
स्वर्णिम के पिता एनआइटी में प्रोफेसर हैं. पुलिस को पूछताछ में पता चला है कि स्वर्णिम के पिता दीपक कुमार एनआइटी में प्रोफेसर हैं. वहीं शास्त्रीनगर में रहने वाला अंकित के पिता राजेश कुमार आधुनिक स्टील में काम करते हैं. डिमना रोड निवासी अभिनव के पिता वरुण शर्मा सरकारी ठेकेदार हैं.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें