1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. illegal coal mining in jharkhand is happening in these 4 districts including dhanbad ig gave instructions to the sp to take action srn

धनबाद सहित इन 4 जिलों में हो रहा है कोयला खनन का अवैध कोयला, आइजी ने दिये एसपी को कार्रवाई का निर्देश

झारखंड के 4 जिलों धनबाद, रामगढ़, चतरा और लातेहार में कोयले का उत्खनन हो रहा है. मुख्य सचिव के साथ ये बैठक में मामला सामने आया है. आईजी ने इस मामले में एसपी और डीसी को कार्रवाई के साथ साथ कुछ जरूरी सुझाव भी दिये हैं

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
धनबाद, रामगढ़, चतरा और लातेहार में कोयला का अवैध खनन
धनबाद, रामगढ़, चतरा और लातेहार में कोयला का अवैध खनन
प्रतीकात्मक तस्वीर

धनबाद : झारखंड में धनबाद के साथ ही रामगढ़, चतरा और लातेहार में कोयला का अवैध उत्खनन हो रहा है. वहीं, गुमला में पशु तस्करी जारी है. ये तथ्य पिछले 29 जनवरी को मुख्य सचिव सुखदेव सिंह द्वारा विभिन्न जिलों के अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से की गयी बैठक में उजागर हुए हैं. इस पर पुलिस मुख्यालय के आइजी एवी होमकर अभियान ने संबंधित जिलों के एसपी को कार्रवाई करने का निर्देश दिया है. अवैध उत्खनन पर नियंत्रण के लिए टास्क फोर्स की नियमित बैठक करने का सुझाव डीसी व एसपी को दिया गया है.

छत्तीसगढ़ राज्य का सीमा क्षेत्र बना पशु तस्करी का केंद्र :

आइजी अभियान ने लिखा है कि गुमला जिले में पशुओं की तस्करी विशेषकर छत्तीसगढ़ राज्य के सीमावर्ती क्षेत्र से होती है. इस पर नियंत्रण लाना सुनिश्चित किया जाये. इसी तरह रिपोर्ट में कोयला तस्करी के मामले में धनबाद जिले का उल्लेख है. यहां बड़े स्तर पर कोयला चोरी/ परिवहन पर सख्त नियंत्रण की जरूरत है. रामगढ़ जिले में भी अवैध कोयला उत्खनन और परिवहन पर नियंत्रण आवश्यक है. दोनों जिलों में कार्रवाई की जिम्मेवारी संबंधित जिले के डीसी और एसपी को सौंपी गयी है.

चतरा-लातेहार में थानों के क्षेत्राधिकार का हो पुनर्गठन :

चतरा और लातेहार जिले में भी अवैध कोयला कारोबार पर नियंत्रण के लिए निर्देश दिया गया है. चतरा और लातेहार के वैसे क्षेत्र, जहां कोयले का उत्खनन जारी है, वहां पुलिस थानों के क्षेत्राधिकार को पुनर्गठित करने की आवश्यकता बतायी गयी है. जिससे अपराध नियंत्रण और विधि व्यवस्था के दृष्टिकोण से सम्यक कार्रवाई की जा सके.

यह बात भी सामने आयी थी कि चतरा और लातेहार जिले के कोयला उत्खनन क्षेत्र में आपराधिक गतिविधियों पर कठोरता से नियंत्रण करने की आवश्यकता है, ताकि अवैध उत्खनन पर भी रोक लग सके. इस बात को सुनिश्चित करने की जिम्मेवारी पलामू डीआइजी और हजारीबाग डीआइजी के अलावा चतरा और लातेहार एसपी को भी सौंपी गयी है.

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें