1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. hazaribagh
  5. after pleading with hazaribagh sp youth left the police station after 4 days smj

बड़कागांव का पीड़ित परिवार हजारीबाग एसपी से लगायी गुहार, 4 दिन बाद थाना से छूटा युवक

हजारीबाग के बड़कागांव में पिछले 4 दिनों से थाना में रखने और मारपीट करने का आरोप युवक के परिजनों ने लगाया है. इस संबंध में परिजनों ने एसपी को आवेदन देकर न्याय की गुहार लगायी है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
jharkhand news: हजारीबाग एसपी को आवेदन देने पहुंचे पीड़ित युवक के परिजन.
jharkhand news: हजारीबाग एसपी को आवेदन देने पहुंचे पीड़ित युवक के परिजन.
फाइल फोटो.

Jharkhand news: झारखंड के हजारीबाग जिला अंतर्गत बड़कागांव थाना में पिछले 4 दिनों से पूछताछ के लिए थाना में रखने और मारपीट करने आरोपी नटराज नगर निवासी महेंद्र प्रसाद कुशवाहा ने लगाया है. एसपी को सौंपे आवेदन में उन्होंने बेटे कुणाल को बेवजह हिरासत में रखने व मारपीट करने के मामले को लेकर न्याय की गुहार लगायी है. एसपी को दिये आवेदन के बाद पुलिस ने कुणाल को देर रात छोड़ दिया.

मालूम हो कि टंडवा रोड स्थित नटराज नगर में स्वाति इलेक्ट्रॉनिक्स के दुकान में 13 नवंबर दिन शनिवार को रात्रि में चोरी हुआ था. जिसको लेकर दुकान के संचालक धर्मेंद्र कुमार ने थाने में आवेदन देकर अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कराया. दुकान संचालक धर्मेंद्र कुमार ने गत 22 नवंबर, 2021 को अपने स्टाफ विकास कुमार के कहने पर नटराज नगर निवासी कुणाल कुमार पिता महेंद्र प्रसाद कुशवाहा पर आरोप लगाते हुए 12 लाख 50 हजार चोरी का आरोप लगाया.

दुकान संचालक धर्मेंद्र कुमार ने करीब साढ़े 12 लाख की चोरी का आवेदन बड़कागांव एसडीपीओ कार्यालय में दिया था. आवेदन दिये जाने के बाद पुलिस ने कुणाल कुमार को हिरासत में लेकर 4 दिनों तक थाने में ही पूछताछ करती रही. इसी बात को लेकर कुणाल के पिता ने एसपी से मदद की गुहार लगायी.

इस संबंध में कुणाल के पिता महेंद्र प्रसाद कुशवाहा ने एसपी व डीएसपी को ज्ञापन देकर उचित कार्रवाई की मांग की है. आवेदन के अनुसार, स्वाति इलेक्ट्रॉनिक्स के संचालक धर्मेंद्र कुमार झूठे मुकदमे में फंसाने के विरोध में पुलिस अनुमंडल पदाधिकारी को आवेदन दिया. इसमें कहा गया कि धर्मेंद्र कुमार के इलेक्ट्रॉनिक दुकान में विगत दिनों चोरी हुई थी. इस संबंध में उसके द्वारा बड़कागांव थाना में अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया था.

इस केस में कोई प्रगति नहीं होता देख, धर्मेंद्र कुमार ने पुरानी दुश्मनी निकालते हुए कुणाल कुमार को झूठे और गलत रूप से फंसाने की साजिश की रची. इस साजिश का मोहरा धर्मेंद्र कुमार के दुकान के स्टाफ विकास कुमार को बनाया गया है. कुणाल के पिता द्वारा एसपी को दिये आवेदन में बताया कि उक्त मामले में मेरा पुत्र का कोई हाथ नहीं है. साथ ही अपने बेटे को बेकसूर बताया.

कुणाल के पिता महेंद्र प्रसाद कुशवाहा ने कहा कि इस मामले में साजिशकर्ता धर्मेंद्र कुमार द्वारा पवन कुमार, लालमणि महतो, अरविंद कुमार साव, संदीप कुमार महतो एवं लक्ष्मण महतो को मेरे घर दो-चार दिन से बारी-बारी भेज कर मुझे और मेरे परिवार पर कुणाल को चोरी कबूलने को लेकर दबाव बनाया जा रहा है.

इस संबध में बड़कागांव के थाना प्रभारी गौतम कुमार से दूरभाष पर बात करने पर उन्होंने बताया कि कुणाल कुमार पर मारपीट का आरोप बेबुनियाद है. इसके अलावा थाना प्रभारी ने विशेष कुछ और बताने से इंकार किया.

Posted By: Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें