1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. hazaribagh
  5. 5 policemen including asi suspended over suicide case in vishnugarh hajat of hazaribagh smj

हजारीबाग के विष्णुगढ़ SDPO हाजत में सुसाइड मामले को लेकर पुलिस पर गिरी गाज, ASI समेत 5 पुलिसकर्मी सस्पेंड

हजारीबाग के विष्णुगढ़ स्थित SDPO के हाजत में बंद एक आरोपी के सुसाइड मामले में एसपी मनोज रतन चौथे ने एक ASI समेत 5 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया है. साथ ही न्यायिक जांच के लिए मुख्यालय को पत्र लिखा है. मृतक पर PLFI नक्सली के नाम पर लेवी और रंगदारी मांगने का आरोप था.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news: हजारीबाग स्थित विष्णुगढ़ एसडीपीओ कार्यालय जहां आरोपी ने लगायी फांसी.
Jharkhand news: हजारीबाग स्थित विष्णुगढ़ एसडीपीओ कार्यालय जहां आरोपी ने लगायी फांसी.
प्रभात खबर.

Jharkhand News: हजारीबाग जिला अंतर्गत विष्णुगढ अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी कार्यालय स्थित हाजत में PLFI नक्सली के नाम पर रंगदारी मांगने के आरोपी नंदकिशोर महतो के सुसाइड मामले में पुलिस पर गाज गिरी है. एसपी मनोज रतन चौथे ने ASI सहित पांच पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया है. इस मामले में मुफस्सिल थाना में कोर्रा थाना प्रभारी उत्तम कुमार तिवारी ने यूडी का मामला दर्ज कराया है.

क्या है मामला

मुफस्सिल थाना भवन (वर्तमान में अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी कार्यालय) स्थित हाजत में PLFI नक्सली के नाम पर लेवी और रंगदारी मांगने के आरोपी नंदकिशोर महतो के मंगलवार को फांसी लगाकर आत्महत्या किया था. नंदकिशोर शौच करने के बहाने मंगलवार की सुबह 9.30 बजे शौचालय गया. फिर अंदर से दरवाजा बंद कर लिया. काफी देर बाद जब वह निकला, तो सुरक्षा गार्ड ने आवाज लगायी. अंदर से जब कोई जबाव नहीं मिला, तो दरवाजा को तोड़ा गया. दरवाजे के टूटते ही अंदर नंदकिशोर का शव फांसी के फंदे में झूल रहा था. गार्ड ने इसकी तत्काल सूचना अपने सीनियर अधिकारियों को दिया. हाजत में आरोपी की मौत की जानकारी मिलने पर पुलिस महकमा में अफरा-तफरी मच गयी.

परिजनों को सौंपा शव

जानकारी मिलते ही हजारीबाग एसपी मनोज रतन चौथे, सदर एसडीपीओ महेश प्रजापति समेत इंस्पेक्टर एवं कई थाना के प्रभारी घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की जांच पडताल किया. इसके बाद शव को पोस्टमार्टम देर रात शेख भिखारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में मेडिकल बोर्ड से कराया गया. इसके बाद शव को उसके परिजनों को सौंप दिया.

एक एएसआई सहित चार पुलिस कर्मी सस्पेंड

PFLI नक्सली के नाम से लेवी एवं रंगदारी मांगने के आरोप में गिरफ्तार नंदकिशोर महतो की अभिरक्षा के लिए 1-4 का पुलिस बल तैनात था. इनमें एक एएसआई राजकिशोर प्रसाद, पुलिस बल संजीव चरण, जगजीवन भगत, संजय राम, संतोष मुर्मू थे. लापरवाही बरतने के आरोप में एसपी श्री चौथे ने एएसआई राजकिशोर प्रसाद सहित चार पुलिस कर्मियों को सस्पेंड कर दिया है. वहीं, एसपी ने कहा कि हाजत में बंद आरोपी नंद किशोर महतो की मौत मामले की शीघ्र ही न्यायिक जांच शुरू होगी. इसकी जांच के लिए मुख्यालय को लिखा गया है. आरोपी की मौत से संबंधित सभी पहलू पर जांच होगी.

कोर्रा थाना क्षेत्र से पकड़ाया था आरोपी नंदकिशोर

एसपी श्री चौथे ने बताया कि आरोपी नंदकिशोर महतो को कोर्रा थाना क्षेत्र से पकड़ा गया था. कोर्रा थाना में हाजत नहीं होने के कारण आरोपी को विष्णुगढ अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी कार्यालय स्थित हाजत में रखा गया था. वह बडकागांव, केरेडारी, डाडीकला क्षेत्र के लोगों से धमकी देकर लेवी की मांग कर रहा था. पुलिस द्वारा उसे मोबाइल लोकेशन के आधार पर कोर्रा थाना क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया था.

SIT टीम गठित

हजारीबाग जिले में संगठित अपराध पर रोकथाम के लिए एसपी श्री चौथे ने SIT टीम गठित किया है. टीम में एक डीएसपी, एक इंस्पेक्टर समेत आधा दर्जन एसआई हैं. यह SIT 25 अप्रैल की रात नंदकिशोर महतो को गिरफ्तार किया गया था. उससे पीएलएफआई नक्सली संगठन से जुड़े अन्य आरोपियों का खुलासा होता, लेकिन उससे पहले ही उसकी मौत हो गयी.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें