1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. gumla
  5. jharkhand crime news the massacre took place in gumla on suspicion of witch hunting child welfare committee will upbringing the daughter anjali only left in the family this is the preparation of social welfare department grj

Jharkhand Crime News : डायन बिसाही में हुए नरसंहार में बची परिवार की इकलौती बिटिया अंजली की परवरिश करेगी गुमला CWC, समाज कल्याण विभाग की ये है तैयारी

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand Crime News : सीडब्ल्यूसी अंजली की करेगी परवरिश
Jharkhand Crime News : सीडब्ल्यूसी अंजली की करेगी परवरिश
प्रभात खबर

Jharkhand Crime News, Gumla News, गुमला न्यूज (दुर्जय पासवान) : झारखंड के गुमला जिला अंतर्गत कामडारा प्रखंड के आमटोली पहाड़गांव में 24 फरवरी को जादू टोना व डायन बिसाही में नरसंहार की घटना घटी थी. उस नरसंहार में घर के सभी पांच सदस्यों को ग्रामीणों ने बेरहमी से हत्या कर दी थी, परिवार की एकलौती बेटी आठ वर्षीया अंजली तोपनो घटना के दिन रांची में अपने रिश्तेदार के घर थी. इस कारण उसकी जान बच गयी. अभी भी अंजली अपने रिश्तेदार के घर पर रह रही है. उसकी सुरक्षा व परवरिश को लेकर सीडब्ल्यूसी (चाइल्ड वेलफेयर कमेटी) गुमला ने पहल शुरू की है.

गुमला के प्रभारी बाल संरक्षण पदाधिकारी वेदप्रकाश तिवारी ने बताया कि अंजली को स्पॉन्सरशिप योजना से जोड़ने की तैयारी चल रही है. इस योजना के तहत अंजली अपने जिस रिश्तेदार के पास रहेगी. उसकी देखरेख व खाने पीने के लिए हर महीने दो हजार रुपये समाज कल्याण विभाग, गुमला से स्पॉन्सरशिप योजना के तहत दिया जायेगा. यदि अंजली बालिका गृह में रहना चाहेगी, तो उसे सीडब्ल्यूसी अपने संरक्षण में लेकर बालिका गृह में रखेगी. जहां अंजली की सुरक्षा के साथ-साथ उसके बेहतर भविष्य के लिए स्कूल में दाखिला व परवरिश की जायेगी.

श्री तिवारी ने कहा कि गुमला प्रशासन अंजली को हर तरह से मदद करेगी. यहां बता दें कि 24 फरवरी को पहाड़ गांव में ग्रामीणों ने निकोदिन तोपनो (60 वर्ष), पत्नी जोसफिना तोपनो (55 वर्ष), बेटा विंसेंट तोपनो (35 वर्ष), बहू सिलवंती तोपनो (30 वर्ष) व पोता अलबिन तोपनो (5 वर्ष) की हत्या कर दी थी, जबकि आठ वर्षीया बेटी अंजली तोपनो की जान रांची में रहने के कारण बच गयी थी. रांची में अपनी मौसी के घर रहकर अंजली पढ़ रही है. डीसीपीओ वेदप्रकाश तिवारी ने कहा कि जिस तरह की घटना घटी थी और अंजली के छोटे भाई को भी ग्रामीणों ने मार डाला था. अगर उस दिन अंजली भी अपने घर में रहती तो उसकी भी हत्या कर दी जाती. रांची में रहने के कारण उसकी जान बची है.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें