1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. garhwa
  5. millions of rupees misappropriated in packs of garhwa in paddy purchase also recovery of 25 rupees per quintal in wage item smj

धान खरीद में गढ़वा के पैक्सों में करोड़ों की हेराफेरी, मजदूरी मद में 25 रुपये प्रति क्विंटल की भी वसूली

धान में नमी और मजदूरी के नाम पर गढ़वा जिले के पैक्सों में धान खरीद को लेकर किसानों से करोड़ों की हेराफेरी का मामला सामने आया है. जिला प्रशासन की ओर से कुल 6 लाख क्विंटल धान खरीद का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, इसके एवज में 4349 किसानों से 3,26,932 क्विंटल धान की खरीद हुई है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news: गढ़वा जिले के पैक्सों में धान खरीद में करोड़ों की हेराफेरी का मामला आया सामने.
Jharkhand news: गढ़वा जिले के पैक्सों में धान खरीद में करोड़ों की हेराफेरी का मामला आया सामने.
प्रभात खबर.

Jharkhand news: गढ़वा जिला के पैक्सों में धान खरीद के नाम पर किसानों से करोड़ों रुपये की हेराफेर की गयी है. धान में नमी और मजदूरी के नाम पर किसानों से करीब 4.49 करोड़ रुपये की अवैध वसूली कर ली गयी है, जबकि अगर किसानों से लिये गये बोरे की कीमत इसमें जोड़ दिया जाये, तो यह राशि 5.48 करोड़ रुपये हो जाती है. इसके अलाव अगर जिले के सभी रजिस्टर्ड 12611 किसान अपना धान पैक्स को बेचने में कामयाब हो गये, तो यह राशि 8 करोड़ रुपये से ज्यादा हो जायेगी.

जिले के 51 पैक्सों से धान की खरीद

गढ़वा जिले में वर्तमान में 51 पैक्सों से धान की खरीद की जा रही है. जिला प्रशासन की ओर से इस बार कुल 6 लाख क्विंटल धान खरीद का लक्ष्य रखा गया है. इसके एवज में 4349 किसानों से 54.48 प्रतिशत यानी 3,26,932 क्विंटल धान की खरीद की जा चुकी है. सभी पैक्सों में किसानों से प्रति क्विंटल 5.50 किलो धान (100 किलो के बदले 105.5 किलो) नमी के एवज में ज्यादा लिया जा रहा है. इस हिसाब से कुल खरीदे गये 3,26,932 क्विंटल धान के अलावे 17,981 क्विंटल धान ज्यादा किसानों से ले लिया गया है.

धान में नमी के नाम पर करीब 4 करोड़ की वसूली

सरकार के वर्तमान समर्थन मूल्य 2050 के हिसाब से इसकी कीमत 3.68 करोड़ रुपये हो जा रही है. इस प्रकार से अब तक 3.68 करोड़ रुपये का धान किसानों से सिर्फ नमी के नाम पर ले लिया गया है, जबकि सिर्फ बोरे के वजन जितना धान 100 से 200 ग्राम तक ही धान लेना है.

किसान दे रहे मजदूरी भी और बोरे का दाम भी

इसी प्रकार, किसानों से अवैध रूप से धान का वजन करने, उसे बोरे में भरने एवं गोदाम में रखने के नाम पर प्रति क्विंटल 25 रुपये लिये जा रहे हैं. अब तक लिये गये धान के वजन के हिसाब से किसानों से इस मद में 81 लाख रुपये वसूली किये गये हैं. इस बार किसानों से पैक्स संचालक द्वारा धान के बोरे भी लिये जा रहे हैं. किसानों को बोरे के मद में (प्रति बोरा 12 रुपये के हिसाब से) प्रति क्विंटल 30 रुपये वहन करना पड़ रहा है. इस अतिरिक्त खर्च को भी यदि जोड़ दिया जाये, तो यह 98 लाख (अब तक खरीदे गये 3,26,932 क्विंटल पर) हो जाता है. इस प्रकार से गढ़वा जिले के किसानों से एक-एक कर करोड़ों रुपये की हेरफेर कर ली गयी है.

5.50 क्विंटल ज्यादा धान लिया गया : अनय कुमार गुप्ता

इस संबंध में गढ़वा के छतरपुर पैक्स में धान बेचने आये किसान तेनार गांव निवासी अनय कुमार गुप्ता ने बताया कि उनका आईडी उनके पिता राजबली प्रसाद गुप्ता के नाम पर है. उन्होंने यहां 60 क्विंटल धान बेचा है. उनसे प्रति क्विंटल 5.50 किलो ज्यादा धान लिया गया है. इसके अलावे मजदूरी मद में प्रति क्विंटल 25 रुपये लिया जा रहा है.

मजदूरी एवं प्लास्टिक का बोरा भी दे रहे हैं : शिव कुमार

इसी तरह किसान शिव कुमार ने बताया कि उन्होंने छतरपुर पैक्स में 70 क्विंटल धान बेचा है. उनसे भी 5.50 किलो अतिरिक्त धान सूखती आदि के नाम पर लिया गया है. उन्होंने कहा कि मजदूरी वहन करने के अलावे वे प्लास्टिक का बोरा भी खरीदकर दे रहे हैं.

सिर्फ बोरे का वजन जितना धान लेना है : अमिता कुमारी

इस संबंध में जिला सहकारिता पदाधिकारी अमिता कुमारी ने बताया कि सिर्फ बोरे के वजन जितना धान लेना है. यह बात पहले भी स्पष्ट कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि वे इसके प्रति स्पष्ट नहीं हैं कि ढुलाई आदि का खर्च किसको वहन करना है, क्योंकि अभी उनके पास संकल्प की प्रति उपलब्ध नहीं है. लेकिन, पैक्स के पास इस मद में वहन करने के लिए कोई राशि मौजूद नहीं है.

किसानों से क्या-क्या अतिरिक्त वसूली किया गया

- धान में नमी के नाम पर : 17,981 क्विंटल अतिरिक्त धान (मूल्य 3.81 करोड़ रुपये)
- मजदूरी के नाम पर : 81.73 लाख रुपये
- बोरे के रूप में : 98.07 लाख रुपये

रिपोर्ट : पीयूष तिवारी, गढ़वा.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें