1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. garhwa
  5. jharkhand news potash store found on muskaini pahar of bhavnathpur garhwa revealed in the survey of geological survey of india grj

Jharkhand News :झारखंड के मुस्कैनी पहाड़ पर पोटाश का भंडार, जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के सर्वे में हुआ खुलासा

गढ़वा जिले के भवनाथपुर के मुसकैनिया पहाड़ पर मिले पोटाश के भंडार से जुड़ी रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंपी गयी है. जियोलॉजिकल विभाग के द्वारा भवनाथपुर के रपुरा, कवलदाग, करमाही, फुलवार, मुस्कैनिया पहाड़, मकरी, बरवारी आदि जगहों पर खनिज संपदा के लिए सर्वे कार्य चल रहा था.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News : मुस्कैनी पहाड़
Jharkhand News : मुस्कैनी पहाड़
फाइल फोटो

Jharkhand News, गढ़वा न्यूज (विजय सिंह) : झारखंड के गढ़वा जिले के भवनाथपुर के विभिन्न क्षेत्रों में जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया सर्वे कर रहा है. ड्रिलिंग के माध्यम से हो रहे इस सर्वे के बाद भवनाथपुर के मुस्कैनी पहाड़ में पोटाश के भंडार होने का पता चला है. जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने इसकी जानकारी राज्य सरकार को दी है. भूतत्व विभाग के निदेशक विजय ओझा ने इसकी पुष्टि की है.

पोटाश (पोटाशियम हाइड्रॉक्साइड) का उपयोग मुख्यतः कृषि कार्य में बतौर खाद के रूप में होता है. वहीं इसका थोड़ा बहुत इस्तेमाल साबुन या डिटर्जेंट पाउडर बनाने में भी किया जाता है. झारखंड के गढ़वा जिले के भवनाथपुर क्षेत्र के मकरी, मुसकैनिया पहाड़, सिंघिताली, बरवारी व गडेरियाडीह को चिह्नित कर 25 दिसंबर 2020 से इन क्षेत्रों में ड्रिलिंग का कार्य चल रहा था.

यह काम माइनिंग एसोसिएशन प्राइवेट आसनसोल (कोलकाता) ने किया जबकि सर्वे का कार्य जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने किया है. इन जगहों में करीब 20 प्वाइंट पर ड्रिलिंग किया गया था. ड्रिलिंग के दौरान कंपनी के अधिकारियों ने मुसकैनिया पहाड़ तथा इसके आसपास के क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर फॉस्फेट नामक खनिज के अकूत भंडार होने की संभावना जतायी थी, लेकिन सर्वे के बाद अधिकारियों ने यहां पोटाश होने की पुष्टि की है.

झारखंड के गढ़वा जिले के भवनाथपुर के मुसकैनिया पहाड़ पर मिले पोटाश के भंडार से जुड़ी रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंपी गयी है. जियोलॉजिकल विभाग के द्वारा भवनाथपुर के रपुरा, कवलदाग, करमाही, फुलवार, मुस्कैनिया पहाड़, मकरी, बरवारी आदि जगहों पर पिछले तीन वर्षों से खनिज संपदा के लिए सर्वे कार्य चल रहा था.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें