1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. dumka
  5. jharkhand news questions raised on the construction of q complex in basukinath at dumka work is not being done as per dpr smj

Jharkhand News : दुमका के बासुकिनाथ में क्यू कॉम्प्लेक्स के निर्माण पर उठे सवाल, DPR के अनुसार नहीं हो रहा काम

दुमका के बासुकिनाथ मंदिर में क्यू कॉम्प्लेक्स निर्माण को लेकर सवाल उठने लगे हैं. DPR के तय मानकों के अनुसार कार्य नहीं होने के साथ-साथ निर्माण में गुणवत्ता का ध्यान नहीं रखने का आरोप लग रहा है. 10.78 करोड़ की लागत से इस क्यू कॉम्प्लेक्स का निर्माण हो रहा है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
बासुकिनाथ के नवनिर्मित क्यू कॉम्प्लेक्स भवन, जिसके निर्माण पर उठने लगे सवाल.
बासुकिनाथ के नवनिर्मित क्यू कॉम्प्लेक्स भवन, जिसके निर्माण पर उठने लगे सवाल.
प्रभात खबर.

Jharkhand News (बासुकिनाथ, दुमका) : दुमका के बासुकिनाथ मंदिर क्यू कॉम्प्लेक्स निर्माण DPR के तय मानको के अनुसार नहीं किया गया. सही तरीके से काम नहीं होने पर स्थानीय लोगों ने सवाल उठाया है. लोगों के अनुसार, इसके निर्माण में गुणवत्ता का भी ध्यान नहीं रखा गया है. 10.78 करोड़ की लागत से जुड़को द्वारा निर्माण कराया जा रहा है. अधूरे निर्माण कर ठेकेदार भवन को हैंडओवर करने की तैयारी में जुट गया है.

DPR के अनुसार, संस्कार भवन के ऊपर से क्यू कॉम्प्लेक्स को मंदिर परिसर में लैंडिंग कराना है, ताकि कांवरिया क्यू कॉम्प्लेक्स से सीधे मंदिर प्रांगण में उतर कर गर्भगृह में भोलेनाथ को जलार्पण कर सकें. लेकिन, केवल भवन बना कर ठेकेदार कार्य पूरा दिखा रहा है. कांवरियों को कतारबद्ध तरीके से जलापर्ण के लिए फुट ओवरब्रिज के माध्यम से बाबा मंदिर परिसर में उतरने की व्यवस्था DPR में बनी है.

इस संबंध में ठेकेदार का कहना है कि संस्कार भवन के ऊपर लोड नहीं दिया जा सकता है. अलग से बनाने के लिए फंड कम पड़ जायेगा. ठेकेदार ने बताया कि 10.78 करोड़ के आवंटन में से 9.70 करोड़ रुपये खर्च कर कार्य पूरा कर लिया गया है.

मालूम हो कि क्यू कॉम्प्लेक्स से सीधे मंदिर तक पहुंच के लिए ओवरब्रिज नहीं बनाया गया, तो श्रद्धालुओं को क्यू कॉम्प्लेक्स की सुविधा नहीं मिल सकेगी. इस संबंध में डीसी रविशंकर शुक्ला ने मंदिर के बैठक में संबंधित ठेकेदार को कार्य पूरा कराने का निर्देश दिया था.

कौन-कौन से काम हैं अधूरे

महिला श्रद्धालु क्यू कार पड़ाव से शुरू होकर संस्कार मंडप के ऊपर छत पर से मंदिर पूर्वी गेट ओवरब्रिज के माध्यम से मंदिर प्रांगण में उतरेगी, जबकि पुरुष कांवरियों को कार पड़ाव से संस्कार मंडप तक वन विभाग के सामने रास्ते से फुटओवर ब्रिज के माध्यम से संस्कार मंडप में प्रवेश कराया जायेगा. संस्कार मंडप में कांवरियों की कतार लगते हुए मंदिर प्रांगण में सीधे उतरेगा. ठेकेदार द्वारा यह कार्य नहीं किया गया है.

20 हजार कांवरियों के ठहरने की है व्यवस्था

नवनिर्मित क्यू कॉम्प्लेक्स में एक साथ 20 हजार कांवरियों के ठहरने की क्षमता होगी. क्यू कॉम्प्लेक्स को लेकर मंदिर के पंडा व पुरोहित उत्साहित हैं. उन्हें उम्मीद है कि वर्ष 2022 के श्रावणी महीने में आनेवाले श्रद्धालुओं की भीड़ का का इस क्यू कॉम्प्लेक्स से नियंत्रित किया जायेगा.

श्रावणी मेला में कांवरियों की कतार निर्माणाधीन क्यू कॉम्प्लेक्स में लगायी जायेगी, ताकि कांवरियों की भीड़ को नियंत्रित रखा जा सके. भवन में कांवरियों के लिए विश्राम की व्यवस्था के साथ-साथ पानी, बिजली आदि की सुविधा उपलब्ध रहेगी. इसमें महिलाएं एवं पुरुषों की अलग-अलग व्यवस्था रखी गयी है.

DPR के अनुसार कार्य पूरा कराया जायेगा : नगर पंचायत

इस संबंध में नगर पंचायत अध्यक्ष पूनम देवी ने कहा कि DPR के अनुसार कार्य पूरा कराया जायेगा. भीड़ नियंत्रित करने के लिए नवनिर्मित क्यू कॉम्प्लेक्स का उपयोग वर्ष 2022 के सावन महीने में शुरू होने की संभावना है. करोड़ों की लागत से बन रहे इस क्यू कॉम्प्लेक्स में बासुकिनाथ पहुंचने वाले शिवभक्तों को सुविधा मिलेगी. हजारों भक्त एक साथ नये भवन में कतारबद्ध हो सकेंगे.

क्यू कॉम्प्लेक्स भवन निर्माण खर्च की मांगी गयी है रिपोर्ट : कार्यपालक पदाधिकारी

वहीं, कार्यपालक पदाधिकारी आशुतोष ओझा ने कहा कि क्यू कॉम्प्लेक्स भवन का जो निर्माण हुआ है, उसमें किये गये खर्च की रिपोर्ट मांगी गयी है. संबंधित ठेकेदार के रिपोर्ट देने के बाद डीसी से मिलकर DPR के अनुसार कार्य पूरा कराने को लेकर आवश्यक कार्रवाई की जायेगी, ताकि श्रद्धालुओं को बेहतर सुविधा उपलब्ध कराया जा सके.

DPR के अनुसार ही होगा क्यू कॉम्प्लेक्स भवन का निर्माण : मंत्री

झारखंड के कृषि, पशुपालन सह सहकारिता मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि क्यू कॉम्प्लेक्स DPR के अनुसार ही बनेगा, ताकि श्रद्धालुओं को सुविधा मिल सके. संबंधित विभाग के अधिकारी से बात की जायेगी. मंदिर पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को अनेक सुविधा मिलेगी. श्रावणी मेले में हजारों श्रद्धालुओं के भीड़ को एक ही जगह नियंत्रित किया जा सकेगा. भवन में बिजली, पानी, शौचालय आदि की सुविधा रहेगी.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें