1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. dhanbad
  5. dhanbad gold merchants murder case update it took 39 hours for the post mortem of the gold businessmans body why did it take so long read full report srn

Gold businessman murder case update : स्वर्ण व्यवसायी के शव को पोस्टमार्टम कराने में लग गये 39 घंटे, आखिर क्यों लगी इतनी देर ? पढ़ें पूरी रिपोर्ट

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
स्वर्ण व्यवसायी के शव को पोस्टमार्टम कराने में लग गये 39 घंटे
स्वर्ण व्यवसायी के शव को पोस्टमार्टम कराने में लग गये 39 घंटे
सांकेतिक तस्वीर

Dhanbad News, letest news update about dhanbad Gold merchants murder case धनबाद : नवादा के स्वर्ण व्यवसायी अभय वर्मा के शव का धनबाद के एसएनएमएमसीएच में सोमवार को देर शाम पोस्टमार्टम किया गया. फिर हत्या के 39 घंटे बाद परिजनाें काे शव साैंपा गया. 18.30 घंटे तो शव धनबाद में ही पड़ा रहा. यह हुआ गिरिडीह सदर अस्पताल की लापरवाही और लंबी कानूनी प्रक्रिया की वजह से. इधर अभय वर्मा के परिजन परेशान थे. उनके परिवार का चिराग चला गया था और डॉक्टर-अधिकारी कानूनी प्रक्रिया और तेरा-मेरा क्षेत्र बता कर फेंका-फेंकी कर रहे थे.

पोस्टमार्टम की इस पूरी प्रक्रिया में 39 घंटे तब लगे, जब राज्य के एक बड़े अधिकारी ने सुबह इस मामले में दखल दी. दरअसल घटना के बाद गिरिडीह भेजे गये शव का अधूरा पोस्टमार्टम कर उसे एसएनएमएमसीएच, धनबाद भेज दिया गया. यहां आने पर पूरे कागजात नहीं होने के कारण डॉक्टरों ने शव का पोस्टमार्टम शुरू ही नहीं किया. रविवार तड़के सुबह 3.30 बजे घटना हुई और सोमवार की शाम करीब 4.30 बजे से पोस्टमार्टम शुरू हुआ. 6.20 बजे तक प्रक्रिया पूरी कर शव परिजनों को सौपा गया. इसके बाद शव को लेकर परिजन नवादा रवाना हुए.

पीठ में गोली फंसी मिली :

पोस्टमार्टम में पता चला : अभय वर्मा को सामने से गोली मारी गयी थी. सीने के दाहिने हिस्से से घुसते हुए गोली पीठ में जाकर फंस गयी थी. पोस्टमार्टम के दौरान गोली को निकालने के लिए एक्स-रे भी किया गया. एक्स-रे की मदद से गोली को खोज कर निकाला गया.

शरीर में दूसरी जगह चोट के कोई निशान नहीं मिले हैं.

कैसे हुई परेशानी : कोलकाता से नवादा जा रहे अभय को बस में ही गोली मारी गयी थी. इस दौरान तोपचांची के भवंरदाहा में घटना के बाद बस चालक ने उसे डुमरी के मीणा जनरल अस्पताल में भर्ती कराया था. इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी थी. इसके बाद सीमा विवाद शुरू हो गया था. निमियाघाट व तोपचांची थाना की पुलिस ने पल्ला झाड़ लिया. बाद में तोपचांची थाना में मामला दर्ज हुआ. वहीं स्थानीय पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल गिरिडीह भेज दिया.

यहां पहुंचने के बाद रविवार को पोस्टमार्टम किया गया. पांच घंटे तक पोस्टमार्टम चलने के बाद भी टीम गोली नहीं निकाल पायी. इसके बाद शव को एसएनएमएमसीएच, धनबाद भेज दिया गया. परिजन रविवार की रात में शव लेकर धनबाद पहुंच गये थे. सुबह करीब छह बजे शव को एसएनएमएमसीएच के पोस्टमार्टम हाउस भेजा गया. टीम पोस्टमार्टम हाउस पहुंची, तो पता चला कि दूसरे जिले से शव को पोस्टमार्टम कर भेजा गया है. इस पर पोस्टमार्टम की प्रक्रिया शुरू करने के लिए सीजेएम का आदेश मांगा गया. पुलिस बिना आदेश लिये ही धनबाद आ गयी थी. बाद में पुलिस सीजेएम का आदेश लाने के लिए गिरिडीह रवाना हुई. वहां से आदेश की कॉपी लाकर जमा किया गया. इसके बाद पोस्टमार्टम की प्रक्रिया पूरी हुई.

शव में गोली फंसी हुई थी. बहुत कोशिश के बाद भी गोली नहीं निकल रही थी. यहीं कारण है कि शव को एसएनएमएमसीएच, धनबाद भेजा गया.

डॉ सिद्धार्थ सान्याल, प्रभारी सिविल सर्जन, गिरिडीह

गिरिडीह में आधा पोस्टमार्टम कर शव भेज दिया गया धनबाद

धनबाद में डॉक्टराें ने कहा, जब तक सीजेएम का आदेश नहीं मिलेगा, हाथ नहीं लगायेंगे

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें