करंट से पत्रकार की मौत, शोक की लहर

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

धनबाद: एक लोकल चैनल न्यूज के पत्रकार रामजी यादव (38 वर्ष) की मौत सोमवार को करंट लगने से हो गयी. इस घटना से पत्रकार जगत में शोक की लहर है. रामजी मटकुरिया रेलवे कॉलोनी (कुसुंडा) में रहते थे. सोमवार की दोपहर अचानक से तेज बारिश होने लगी.

रामजी के घर के पीछे कुएं में पानी का मोटर लगा हुआ था. पानी से बचाने के लिए रामजी एक प्लास्टिक लेकर मोटर को ढंकने पहुंचे थे. वहां घुटने भर पानी था. मोटर में पहले से करंट प्रवाहित हो रहा था. उनका हाथ मोटर से सट गया. वह गिर गये. बारिश होने के कारण आस-पास कोई नहीं था.

करीब छह से आठ मिनट तक करंट से सटे रहे, उनका पूरा शरीर पानी में डूब गया था. थोड़ी देर बाद एक पड़ोसी की नजर उन पर पड़ी. हो-हल्ला करने के बाद बिजली काट कर उन्हें बाहर निकाला गया. अस्पताल ले जाने पर चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. शव को पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंप दिया गया. इधर, मौत की सूचना पा कर पत्रकार जगत में शोक की लहर दौड़ गयी है. पीएमसीएच से लेकर पोस्टमार्टम हाउस तक लोगों व शुभ चिंतकों की भीड़ जुटी रही. पोस्टमार्टम के बाद शव को प्रेस क्लब ले जाया गया, जहां पत्रकारों ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. रात में शव का मटकुरिया श्मशान घाट में अंतिम संस्कार किया गया.

मिलनसार और हंसमुख थे रामजी
रामजी काफी मिलनसार व हंसमुख इनसान थे. रामजी तीन भाइयों में सबसे बड़े थे. दो बहने हैं. एक छोटा भाई व एक बहन की शादी नहीं हुई है. पिता बद्री यादव उर्फ नारायण यादव बीसीसीएल के सेवानिवृत्त कर्मचारी हैं. रामजी के दो पुत्र रोहित आर्यन (आठ) व गोलू(4) है. परिजनों ने बताया कि कुछ दिन पहले मोटर खराब हो गया था. हाल ही में नया मोटर खरीदा गया था. लेकिन इसी मोटर ने जान ने ली.

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें