1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. deogarh
  5. people arrived from dumka dhanbad and jamui opd service started in deoghar aiims 200 patients got consultation see pics smj

देवघर एम्स में OPD सेवा शुरू, दुमका, धनबाद और जमुई से पहुंचे लोग, 200 मरीजों काे मिला परामर्श, देखें Pics

देवघर एम्स के ओपीडी सेवा के उद्घाटन के बाद पहले दिन काफी संख्या में मरीज यहां पहुंचे. पहले दिन करीब 200 मरीजों को परामर्श दिया गया. रजिस्ट्रेशन से लेकर डॉक्टरों को दिखाने तक में व्यवस्थित तरीके को देख मरीज भी काफी संतुष्ट दिखे.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
देवघर एम्स के ओपीडी में बच्चे का इलाज करती महिला डॉक्टर्स.
देवघर एम्स के ओपीडी में बच्चे का इलाज करती महिला डॉक्टर्स.
प्रभात खबर.

Jharkhand News (देवघर) : देवघर एम्स का ओपीडी सेवा के उदघाटन होने के बाद पहले दिन इलाज कराने आये मरीजों में बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था की एक संतुष्टि दिखी. पहले दिन सुबह 8:50 बजे एम्स का गेट खुलने के बाद ओपीडी में रजिस्ट्रेशन शुरू हुआ. रजिस्ट्रेशन के काउंटर में लंबी कतार लग गयी थी. एम्स के कार्यकारी निदेशक डॉ सौरभ वार्ष्णेय व चिकित्सा अधीक्षक डॉ एस पात्रा के निर्देश पर कतार को व्यवस्थित करते हुए सभी लोगों को संबंधित रोग के विभाग में भेजा गया.

डॉक्टर को दिखाने के लिए कतारबद्ध होकर रजिस्ट्रेशन करते मरीज के परिजन.
डॉक्टर को दिखाने के लिए कतारबद्ध होकर रजिस्ट्रेशन करते मरीज के परिजन.
प्रभात खबर.

रजिस्ट्रेशन के समय ही सुबह 8:30 बजे डॉक्टर अपने-अपने चेंबर में बैठ गये थे. नियमित रूप से डॉक्टर 8:30 बजे चेंबर में बैठेंगे. सभी विभाग में अलग-अलग रोगियों को डॉक्टरों ने देखकर परामर्श दिया. कई रोगियों का शारीरिक जांच भी कराया गया. जिन्हें दवाइयां लिखी वे लोग अमृत फॉर्मेसी के मेडिकल स्टोर से दवाइयां खरीदी. इस दौरान रजिस्ट्रेशन से डॉक्टरों के चेंबर व लैब तक रोगियों को नर्सिंग स्टॉफ द्वारा काफी आदरपूर्वक ले जाया गया, जिससे रोगी काफी प्रभावित हुए.

देवघर एम्स के ओपीडी में डॉक्टर्स को दिखाने का इंतजार करते मरीज.
देवघर एम्स के ओपीडी में डॉक्टर्स को दिखाने का इंतजार करते मरीज.
प्रभात खबर.

इस संबंध में कार्यकारी निदेशक डॉ सौरभ ने बताया कि पहले दिन ओपीडी में देवघर शहर व ग्रामीण क्षेत्र के साथ-साथ धनबाद, जमुई व दुमका से भी लोग डॉक्टर से परामर्श लेने पहुंचे. पहले दिन जांच में अधिकांश मेडिसिन, आंख, कान, नाक व हड्डी रोगों के मरीज पाये गये.

नगर निगम से मांगा गया ई-रिक्शा

निदेशक डॉ सौरभ ने बताया कि एम्स के मुख्य दरवाजे में वाहनें बेतरतीब ढंग से लगने पर मुख्य सड़क बाधित हो सकती है. इसलिए मुख्य सड़क के किनारे खाली मैदान में वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था की जायेगी. साथ ही जो व्यक्ति अपना वाहन लेकर कैंपस के पार्किंग में आना चाहते हैं वे आ सकते हैं. डॉ साैरभ ने बताया कि नगर आयुक्त से वार्ता हुई. कुल 10 ई-रिक्शा एम्स परिसर में चलाने का आग्रह किया गया है, ताकि ई-रिक्शा से बुजुर्ग व जरूरतमंदों को ओपीडी तक लाया जा सके.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें