1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. deogarh
  5. jharkhand cyber crime news 10 cyber criminal deoghars arrested in case of cheating of 25 lakh from bengal doctor know how fraudulent smj

Jharkhand Cyber Crime News : बंगाल के डॉक्टर से 25 लाख की ठगी मामले में 10 साइबर क्रिमिनल देवघर से गिरफ्तार, जानें कैसे किया फर्जीवाड़ा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
बंगाल के डॉक्टर से 25 लाख की ठगी मामले में 10 साइबर क्रिमिनल गिरफ्तार. देवघर एसपी ने दी जानकारी.
बंगाल के डॉक्टर से 25 लाख की ठगी मामले में 10 साइबर क्रिमिनल गिरफ्तार. देवघर एसपी ने दी जानकारी.
प्रभात खबर.

Jharkhand Cyber Crime News, Deoghar news, देवघर (आशीष कुंदन) : पश्चिम बंगाल के मिदनापुर मेडिकल कॉलेज (Midnapore Medical College) के डॉ स्वरूप चटर्जी के एकाउंट से 25 लाख रुपये उड़ाने वाले 10 साइबर क्रिमिनल को देवघर की पुलिस ने गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इन साइबर क्रिमिनल के पास से 14 मोबाइल सहित 20 सिम कार्ड, 4 पासबुक, 1 चेकबुक, 6 एटीएम, एक लैपटॉप, एक बाइक, एक स्कोर्पियो और एक डिजायर गाड़ी बरामद किया है. इस बात की जानकारी एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा ने पत्रकारों को दी.

देवघर एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा को मिली गुप्त सूचना के आधार पर मिली साइबर थाने की पुलिस ने जिले के करौं थाने के नागादरी, मारगोमुंडा थाने के पंचरुखी व केसवा, मोहनपुर थाने के बांक व आमगाछी, जसीडीह थाने के शंकरी कोठियामोड़ क्षेत्र और पथरड्डा ओपी क्षेत्र के करहैया गांव में छापेमारी कर 10 साइबर क्रिमिनल को गिरफ्तार किया है.

स संबंध में एसपी श्री सिन्हा ने बताया कि गिरफ्तार साइबर अपराधियों में करौं थाना क्षेत्र के नागादरी गांव निवासी रकीब अंसारी, अमीर अंसारी, मारगोमुंडा थाना क्षेत्र के पंचरुखी गांव निवासी मुरसलीम अंसारी, केसवा गांव निवासी इस्माइल अंसारी, जसीडीह थाना क्षेत्र के रोहिणी नवाडीह गांव निवासी सूरज दास, देवीपुर थाना क्षेत्र के खैरबनी गांव निवासी करुण कुमार दास, पाथरौल थाना क्षेत्र के कुसाहा गांव निवासी दिलीप कुमार दास, गोनैया गांव निवासी राजकिशोर दास, मोहनपुर थाना क्षेत्र के बांक निवासी फाल्गुनी मंडल व आमगाछी गांव निवासी पवन तुरी शामिल है. वहीं, गिरफ्तार फाल्गुनी की संलिप्तता साइबर थाना कांड संख्या 90/20 में पायी गयी है. यह मामला पश्चिम बंगाल के मिदनापुर मेडिकल कॉलेज के डॉ स्वरुप चटर्जी की शिकायत पर दर्ज है. उन्होंने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ एकाउंट से 25 लाख रुपये की निकासी का आरोप लगाया था.

गूगल डॉक्यूमेंट का लिंक भरवा कर डॉ स्वरूप से की गयी ठगी

देवघर के साइबर ठग ने कोलकाता नेशनल मेडिकल कॉलेज के एसोसिएट प्रोफेसर सीएनआरटीसी कोलकाता निवासी डॉ स्वरुप मुखर्जी के एकाउंट से 25 लाख रुपये की निकासी दिसंबर 2020 में की थी. डॉ स्वरूप की शिकायत पर साइबर थाने में प्राथमिकी दर्ज की गयी. शिकायत में बताया गया कि वे किसी सर्जरी के लिए 13 दिसंबर को देवघर स्थित सत्संग पहुंचे थे. उसी बीच 16 दिसंबर को अज्ञात लोगों ने उन्हें SBI पदाधिकारी बनकर कॉल किया था. KYC Update का झांसा देकर उनसे Google document का एक लिंक भरवाया गया था. लॉगिन, पासवर्ड, प्रोफाइल पासवर्ड सहित सारा एकाउंट डिटेल्स उक्त लिंक से जानकारी लेकर उनके एकाउंट का फोन नंबर व इ-मेल आइडी ही बदल दिया था और डॉ स्वरुप के एकाउंट से 25 लाख रुपये अन्य एकाउंट में ट्रांसफर कर निकासी कर लिया था. मैसेज आने पर उन्हें एकाउंट से निकासी की जानकारी हुई थी. इसके बाद उन्होंने देवघर साइबर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी.

अलग- अलग तरीके से ठगी करते हैं साइबर क्रिमिनल

एसपी ने जानकारी देते हुए कहा कि साइबर क्रिमिनल अलग- अलग तरीके से झांसे देकर लोगों की गाढ़ी कमाई उड़ा ले रहे हैं. पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि विभिन्न बैंकों के अधिकारी बनकर लोगों को कॉल कर वे लोग ठगी करते हैं. KYC Update का झांसा देकर बैंक की सारी जानकारी हासिल कर लोगों के खाते में रखे रकम को मिनटों में खाली कर देते हैं. Phone-Pay, Paytm Money Request भेजकर झांसे से OTP लेने के बाद ठगी करते हैं.

इतना ही नहीं, ये लोग गूगल सर्च इंजन पर विभिन्न इलेक्ट्रोनिक एप के साइट पर जाकर उसमें भी अपना मोबाइल नंबर को ग्राहक अधिकारी के नंबर की जगह डाल देते हैं. कोई ग्राहक उस नंबर को ग्राहक सेवा अधिकारी का नंबर समझ कर डायल करते हैं और झांसे में आकर सभी जानकारी आधार नंबर आदि साझा कर देते हैं. इसके बाद उन नंबरों के लिंक खाते को वे लोग मिनटों में साफ कर देते हैं.

Team Viewer, Quick Support जैसे रिमोट एक्सेस एप (Remote access app) इंस्टॉल कराकर गूगल पर मोबाइल का पहला 4 डिजिट नंबर सर्च करते हैं और खुद से 6 डिजिट जोड़कर रेंडमली साइबर ठगी करते हैं. UPI Wallet से ठगी किये ग्राहकों को दोबारा एकाउंट में रिफंड का झांसा देकर पीड़ित के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर में कुछ जोड़कर वर्चुअल फर्जी एकाउंट बनाने के बाद UPI Pin लॉगिन कराकर भी ठगी कर रहे हैं. बंगाल के डॉक्टर से 25 लाख की ठगी तथा Hindi News से अपडेट के लिए बने रहें हमारे साथ.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें