1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. chatra
  5. jharkhand news the agitation of the ryots sitting on hunger strike stalled all the works of ntpc in chatra the anger of the agitators due to deteriorating health grj

Jharkhand News : जोर पकड़ने लगा अनशन पर बैठे रैयतों का आंदोलन, चतरा में एनटीपीसी के सभी कार्यों को कराया ठप, तबीयत बिगड़ने पर अनशनकारियों में आक्रोश

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News : अनशन पर बैठे रैयत अपनी मांगों पर अड़े
Jharkhand News : अनशन पर बैठे रैयत अपनी मांगों पर अड़े
प्रभात खबर

Jharkhand News, Chatra News, चतरा न्यूज (दीनबंधु) : एनटीपीसी से अपनी मांगों को लेकर अनशन पर बैठे रैयतों का आंदोलन जोर पकड़ने लगा है. रैयतों ने आंदोलन को लेकर अपनी पूरी ताकत झोंक दी है. आज मंगलवार को आंदोलित रैयतों ने अपनी एकजुटता दिखाते हुए एनटीपीसी निर्माणाधीन परियोजना अंतर्गत चल रहे सभी कार्य को ठप करा दिया. पूर्व घोषित कार्यक्रम के दौरान रैयत अहले सुबह प्लांट के मुख्य द्वार पर पहुंचे और मजदूरों के प्रवेश पर रोक लगा दी. मजदूरों के प्लांट में प्रवेश नहीं करने से प्लांट का कार्य ठप हो गया. अनशनकारियों में रेखा देवी, रूबी देवी, प्रकाश पासवान की स्थिति बिगड़ गई है, पर अभी तक इनकी सुध किसी ने नहीं ली है, जिससे रैयतों में आक्रोश है.

एनटीपीसी प्लांट के अलावा एनटीपीसी रिजर्व वायर का काम भी ठप हो गया. आठ वर्षों में यह पहला मौका है कि जब एनटीपीसी का संपूर्ण कार्य बंद हुआ है. पूर्व में भी एनटीपीसी का कार्य बंद हुआ है, पर किसी एक भाग में, पर यह पहला मौका है जब परियोजना के सभी कार्य बंद हैं. इधर काम बंद होने से एनटीपीसी प्रबन्धन की मुश्किलें बढ़ गई हैं. रैयत इस बार पूरी तरह आर-पार की लड़ाई के मूड में हैं. गौरतलब है कि रैयत तीन सूत्री मांगों को लेकर पिछले चौवालीस दिनों से धरने पर बैठे हुए हैं. पिछले तीन दिनों से रैयत अनशन पर बैठे हुए हैं. अनशन के बाद भी कोई पहल नहीं होने के बाद रैयतों ने काम बंद कर दिया.

इधर आंदोलन के बीच एसडीओ सिमरिया ने एनटीपीसी से जुड़ी ग्राम विकास सलाहकार समिति की बैठक बुलाई. एसडीओ की अध्यक्षता में हुई बैठक में विस्थापित छह गांवों के ग्राम विकास सलाहकार समिति के लोगों ने भाग लिया. बैठक में इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी ने भी भाग लिया. के एन त्रिपाठी ने कहा कि रैयतों की मांगें जायज हैं. उन्होंने एसडीओ सिमरिया से कहा कि रैयतों की तीन सूत्री मांगों के प्रस्ताव को बैठक में पारित कर भेजें. सरकार अपना कार्य ईमानदारी से करेगी.

बैठक में मुआवजा पंद्रह लाख एवं सरकारी आदेश मिलने के बाद भी लंबित मुआवजा का भुगतान करने, गांवों में मुफ्त शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली समेत मूलभूत सुविधाएं बहाल करने का प्रस्ताव पारित किया गया. उपस्थित छह गांवों के ग्राम विकास सलाहकार के लोगों ने एनटीपीसी द्वारा गांव में विकास कार्यों में अनदेखी का आरोप लगाया. कहा कि एनटीपीसी द्वारा किए गए कई कार्य हाथी के दांत साबित हो रहे हैं. बैठक में एनटीपीसी के भाग नहीं लेने पर निंदा प्रस्ताव पारित किया गया. मौके पर एसडीपीओ विकास पांडे, सीओ अनूप कच्छप, थाना प्रभारी प्रमोद पांडे, प्रमुख सीताराम साहू, जागेश्वर दास, सुभाष दास, अक्षयवट पांडे, मनोज चंद्रा, धनंजय सोनी, कृष्णा साव, रंजीत गुप्ता, अरबिंद पांडे, अफानुल्लाह, मनिर आलम समेत कई उपस्थित थे.

टंडवा में मांगों को लेकर पिछले तीन दिनों से ग्यारह रैयत अनशन पर बैठे हुए हैं. अनशन में पहली बार पुरुषों के साथ महिलाएं भी बैठी हुई हैं. अनशन में रैयत तिलेश्वर साहू, जतु गोप, प्रकाश पासवान, विशेश्वर यादव, अजित नायक, किरण देवी, रूबी देवी, रेखा देवी, मुनिया देवी, राधा देवी, फोटोइया देवी का नाम शामिल है. अनशनकारियों में रेखा देवी, रूबी देवी, प्रकाश पासवान की स्थिति बिगड़ गई है, पर अभी तक इनकी सुध किसी ने नहीं ली है, जिससे रैयतों में आक्रोश है.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें