1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. chatra
  5. jharkhand news famous economist jean dreze reached chatra people speaking out against the land being taken away demand to implement land reform law lawfully grj

Jharkhand News : चतरा पहुंचे प्रसिद्ध अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज बोले, छीनी जा रही जमीन के खिलाफ मुखर हो रहे लोग

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News : चतरा पहुंचे प्रसिद्ध अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज धरना में हुए शामिल
Jharkhand News : चतरा पहुंचे प्रसिद्ध अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज धरना में हुए शामिल
प्रभात खबर

Jharkhand News, Chatra News, चतरा न्यूज (दीनबंधु) : भूमि सुधार व भू-हदबंदी कानूनों के तहत विधि सम्मत सरकारी पर्चा जारी करने में जिला प्रशासन की विफलता के खिलाफ आज गुरूवार को समाहरणालय के समक्ष धरना दिया गया. इसमें प्रसिद्ध अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज, चेतना भारती, महिला मुक्ति संघर्ष समिति समेत अन्य शामिल थे. धरना प्रदर्शन का नेतृत्व गांव गणराज्य के संस्थापक विनय सेंगर एवं ज्योति बहन ने की. प्रदर्शन के बाद चार सूत्री मांग पत्र उपायुक्त को सौंपा गया. ज्यां द्रेज ने कहा कि लोगों की जमीनें छीनी जा रही हैं, लोग मुखर होकर अब विरोध दर्ज करा रहे हैं. इसलिए भूमि सुधार कानून को विधि सम्मत लागू करने की जरूरत है.

चतरा पहुंचे प्रसिद्ध अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज ने कहा कि भूमि सुधार कानून को विधि सम्मत लागू कराने की मांग को लेकर लोग संगठित हो रहे हैं. उनकी जमीन छीनी जा रही है, जिसका विरोध किया जा रहा है. दिल्ली व पंजाब में किसान प्रदर्शन कर रहे हैं. यहां के किसान भी प्रेरणा लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. अपने हक के लिए सड़क पर उतरे हैं. लोगों के समर्थन में शामिल होने चतरा आया हूं. गरीबों, दलितों के आंदोलन में शामिल हुआ हूं.

गांव गणराज्य के संस्थापक विनय सेंगर ने कहा कि पूर्व जमींदार जोरीखुर्द पर हाईकोर्ट के निर्देशानुसार तत्काल कार्रवाई, खरीद-बिक्री व दाखिल खारिज पर रोक, दखलकार दलित खेतीहर मजूदर, काश्तकार सीमांत किसान, शहरीकरण की चपेट में आये कागजहीन दलित बसाहटों को भूमि सुधार एवं भू-हदबंदी कानून के तहत विधि सम्मत सरकारी पर्चा जारी कराने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया जा रहा है. यह प्रदर्शन 25 दिसंबर से एक मार्च तक चलेगा.

चतरा जिला प्रशासन की विफलता एवं पूर्व जमींदारों व भू-माफियाओं की मिलीभगत के कारण यहां के मूल वाशिंदे परेशान हैं. भुईयां समुदाय के अस्तित्व पर हमला शुरू हो गया है. भुईयां समाज के लोगों के पास जोत-कोड़ का कागज नहीं है. जमीन से बेदखल किया जा रहा है. कार्यक्रम में शिवरतन यादव, रेशमी देवी, जोहानी टुटी, राजा भारती, कल्लू भारती, संगीता देवी समेत कई शामिल थे.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें