1. home Hindi News
  2. state
  3. delhi ncr
  4. up government punjab govt latest updates plea against mukhtar ansari in supreme court yogi government try to bring back uttar pradesh prt

बाहुबली मुख्तार अंसारी को कौन बचा रहा है? यूपी सरकार ने इस राज्य पर लगाया यह गंभीर आरोप

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
मुख्तार अंसारी को लेकर दो राज्यों में ठनी
मुख्तार अंसारी को लेकर दो राज्यों में ठनी
Twitter
  • मुख्तार अंसारी को लेकर दो राज्यों में ठनी

  • यूपी सरकार ने पंजाब सरकार पर लगाया बचाने का आरोप

  • उगाही के एक मामले में पंजाब की रूपनगर जिला जेल में बंद अंसारी

UP Government, Punjab Government, Mukhtar Ansari, Latest Updates: उत्तर प्रदेश सरकार (Utter Pradesh Government) ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से कहा कि पंजाब सरकार (Punjab Government) गैंगस्टर से नेता बने मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) का खुल्लमखुल्ला बचाव कर रही है और विभिन्न मामलों में मुकदमों की सुनवाई का सामना करने के लिए उसे उत्तर प्रदेश नहीं भेज रही है. अंसारी धमकी देकर उगाही के एक मामले में पंजाब की रूपनगर जिला जेल में बंद है.

जस्टिस अशोक भूषण व आरएस रेड्डी की पीठ ने पंजाब सरकार की ओर से पेश वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे के अनुरोध पर सुनवाई दो मार्च तक स्थगित कर दी. अंसारी की ओर से पेश हुए वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि मुख्तार एक ‘छोटी मछली है’ जिसे राज्य (सरकार) ने चारों ओर से घेर लिया है. इस पर यूपी की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि आप एक मामूली व्यक्ति हैं, जिसे राज्य (पंजाब) बेशर्मी से बचा रहा है. अंसारी जनवरी 2019 से पंजाब में रूपनगर जिला जेल में बंद है.

यूपी सरकार ने अर्जी में आरोप लगाया कि अंसारी की हिरासत का हस्तांतरण एक योजना के तहत कराया गया. उसने संदेह जताया है कि इलाहाबाद के विशेष अदालत के जज के समक्ष अंसारी के खिलाफ सुनवाई में देरी की साजिश की जा रही है. राज्य सरकार ने कहा कि उसे मोहाली के न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष लंबित मामले को इलाहाबाद के विशेष अदालत में स्थानांतरित करवाने का अधिकार है.

अंसारी की झूठी अर्जी कि वह यूपी इसलिए नहीं जाना चाहते हैं, क्योंकि उनकी जान को खतरा है, पंजाब सरकार की अर्जी से बिलकुल अलग है, जिसमें कहा गया है कि वह मेडिकल कारणों से यात्रा नहीं कर सकते. यूपी सरकार ने कहा कि पंजाब सरकार का व्यवहार स्पष्ट है, क्योंकि पिछले दो साल में न तो अंसारी ने जमानत की कोई अर्जी दी है और ना ही पंजाब पुलिस ने आरोपपत्र दाखिल किया है.

Posted by: Pritish Sahay

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें