1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. saran
  5. chhapra two children went for litchi were chased by caretakers died by falling in well while running

छपरा में लीची तोड़ने गए दो बच्चों को रखवाले ने खदेड़ा, भागते समय कुएं में गिरने से मासूमों की मौत

छपरा में पेड़ से लीची लेने के चक्कर में दो बच्चों की मौत हो गई है. दोनों बगीचे से भागने के दौरान कुएं में जा गिरे. कुएं से निकालने के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
कुएं में गिरने से मौत
कुएं में गिरने से मौत
Social Media

बिहार के सारण जिले में गुरुवार की शाम एक दर्दनाक हादसे में दो बच्चों की कुएं में गिरने से मौत हो गई. पुलिस ने दोनों शवों का कब्जे में लेकर पोस्‍टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया. दोनों बच्‍चे रिश्‍ते में चाचा-भतीजा लगते थे. दोनों मृत बच्चों की पहचान मोतीलाल महतो के पुत्र मुन्‍ना कुमार (13) और राकेश महतो के पुत्र रोहित कुमार (10) के रूप में हुई है. मौत से परिवार का माहौल गमगीन बना हुआ है.

लीची देख बगीचे में पहुचें बच्चे 

घटना के बारे में बताया जा रहा है की घर के पास में ही एक व्यक्ति के लीची के पेड़ में लाल-लाल लीचियों को देखकर दोनों बच्चे बगीचे में पहुंच गए. वह दोनों पेड़ से लीची तोड़ने का प्रयास कर ही रहे थे की पेड़ों की रखवाली करने वाले व्यक्ति की नजर उनपर पड़ गई.

रखवाले ने बच्चों को खदेड़ा 

रखवाली कर रहे व्यक्ति ने जब दोनों को खदेड़ा तो वह जान बचाकर वहां से भागने लगे और अफरातफरी में कुएं में जाकर गिर गए. जिससे उनकी जान चली गई. घटना की जानकारी जब परिवार को मिली तो उन्हें विश्वास ही नहीं हुआ.

ग्रामीणों की मदद से निकाल गया कुएं से 

घटना की जानकारी मिलते ही सभी दौड़ते-दौड़ते मौके पर पहुंचे जहां ग्रामीणों की मदद से दोनों बच्चों को बाहर निकाला गया. जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

पिता करते हैं मजदूरी 

मौत की खबर मिलते ही परिवार के लोग दहाड़ मार कर वहीं पर रोने लगे. यह दृश्य देखकर वहां मौजूद लोगों की भी आंखें नम हो गईं. पुलिस को घटना की जानकारी दी गई. जिसके बाद भेल्दी थानाध्यक्ष अरुण कुमार सिंह तत्काल मौके पर पहुंचे और उन्होंने शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया. दोनों बच्चों के पिता मजदूरी कर अपने परिवार का पेट पालते हैं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें