1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. purnea
  5. dead body of gulabbaghs missing businessman found 24 hours later in saura river

गुलाबबाग के गायब व्यवसायी पुत्र की लाश 24 घंटे बाद सौरा नदी में मिली, हत्या की आशंका

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
सांकेतिक फोटो
सांकेतिक फोटो
Twitter

पूर्णिया. गुलाबबाग के गल्ला व्यवसायी विजय सिंह के गायब 21 वर्षीय पुत्र नीतीश कुमार उर्फ शानू की लाश 24 घंटे बाद रविवार की सुबह सौरा नदी में मिली. पीड़ित पिता ने हत्या की आशंका जतायी है. मृतक नीतीश इंटर पास कर पटना में बीबीए की तैयारी कर रहा था. लॉकडाउन के चलते वह पिछले चार माह से यहीं था. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. सदर थाना के प्रभारी थानाध्यक्ष विपिन कुमार ने बताया कि मृतक के परिजनों द्वारा लगाये गयी हत्या के आरोप की पड़ताल की जा रही है. वैसे पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट हो पाऐगा कि नीतीश की हत्या की गयी या फिर अन्य कारणों से उसकी मौत हुई. उसका मोबाइल जब्त कर अनुसंधान प्रारंभ कर दिया गया है.

गौरतलब है कि शनिवार की सुबह नीतीश 3:00 बजे हाफ पैंट, टी-शर्ट और जूता पहन कर घर से मॉर्निंग वॉक के लिए निकला था. नीतीश के पिता ने बताया कि सुबह 8:00 बजे तक जब वह घर नहीं पहुंचा, तो खोजबीन की गयी लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला. थकहार कर शाम में सदर थाने में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करायी गयी. रविवार की सुबह उन्हें सूचना मिली कि नदी किनारे किसी युवक की लाश पड़ी हुई है. वहां पहुंचने पर पता चला की वह नीतीश की लाश है. पानी में शव पूरी तरह फूल गया था. अनुमान है कि शव बह कर किनारे जाकर लग गया होगा. लाश कप्तान पुल से 200 मीटर दूर दक्षिण संत कपरिया के पास सौरा नदी में मिली.

पीड़ित पिता ने कहा : छह माह पूर्व हुआ था विवाद, दोस्तों ने मिल दी बेटे की हत्यापूर्णिया. गुलाबबाग के गल्ला व्यवसायी विजय सिंह के गायब 21 वर्षीय पुत्र नीतीश कुमार उर्फ शानू की लाश 24 घंटे बाद रविवार की सुबह सौरा नदी में मिलने के बाद मृतक के पिता विजय सिंह का आरोप है कि जिस तरह शव पर जख्म के निशान पाये गये हैं उससे साफ प्रतीत होता है कि उसकी हत्या कर लाश को सौरा नदी में फेंक दिया गया. उन्होंने आशंका जतायी है कि गुलाबबाग में उनके बेटे के तीन-चार दोस्त हैं. छह माह पूर्व नीतीश और उसके एक दोस्त के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ था. विवाद किस बात को लेकर हुआ और किससे हुआ, यह अभी उन्होंने नहीं बताया पर उन्होंने आशंका व्यक्त की है कि उसी विवाद को लेकर उनके पुत्र की हत्या कर दी गयी है.

पिता के अनुसार लॉकडाउन के कारण नीतीश 23 मार्च को पटना से पूर्णिया पहुंचा था. तब से वह यहीं घर पर ही रह रहा था. उन्होंने बताया कि वह अक्सर सुबह घर से मॉर्निंग वॉक के लिए निकलता था. यह जानकारी उसके दोस्तों को भी थी. उन्होंने बताया कि घर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में स्पष्ट देखा गया है कि नीतीश घर से मॉर्निंग वॉक के लिए निकला तो थोड़ी दूर जाकर वापस लौटा और फिर चला गया गया. इससे जाहिर होता है कि उसे किसी अनहोनी की आशंका लग रही थी. अंतिम बार वह कालीबाड़ी मंदिर में देखा गया थाशनिवार की शाम तक जब नीतीश घर नहीं लौटा तो परिजनों ने उसकी काफी खोजबीनकी. उसके घर से मॉनिंग वॉक जाने वाले रास्ते में लगे सीसीटीवी को भी खंगाला गया. उस दौरान गली में एक चार चक्का वाहन भी लगा हुआ था.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें