सड़क निर्माण में लेट लतीफी से मधुबनी में चौपट हुई दशहरा की दुकानदारी, लाखों की लगेगी चपत

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पूर्णिया : शहर के मधुबनी में कारोबार करने वाले लोग सड़क निर्माण में लेट लतीफी का खामियाजा भुगत रहे हैं. एक तो दशहरा और जीतीया की दुकानदारी चौपट हो गयी और घर से निकलना भी मुहाल हो गया. मधुबनी के दुकानदारों की मानें तो लाखों की चपत लग गयी है जबकि पूंजी अलग से फंस गयी. मधुबनी चौक से सिपाही टोला जाने वाली सड़क में बसे बाजार के सभी दुकानदार विभाग की कार्यशैली से हलकान हैं.

दरअसल, मधुबनी चौक से सिपाही टोला होते हुए डॅालर हाउस चौक तक सड़क का निर्माण कार्य शुरू किया गया है. इसके लिए मधुबनी चौक से सिपाही टोला तक सड़क बनाने के लिए करीब तीन से चार फीट तक गड्ढा कर दिया गया है.
इस गड्ढे में कंकरीट, बेडमिसाली आदि डालने के बाद सड़क का निर्माण किया जाएगा. मगर चार दिनों से काम ठप पड़ा है. हालांकि ठेकेदार ने निश्चित रुप से सड़क की मजबूती के लिए यह काम शुरू किया है पर दुकानदारों की जो परेशानी बढ़ गयी है उससे किसी को कोई सरोकार नहीं रह गया है.
दुकानदारों का कहना है कि इस सड़क को छह माह पहले ही बन जाना चाहिए था पर इसमें ढिलाई बरती गयी और देर से काम शुरू किया जा रहा है. दुकानदार कहते हैं कि अगर सड़क ही बनाना था तो या तो पन्द्रह दिन पहले बनाया जाता अथवा दशहरा के बाद इसमें हाथ लगाया जाता. अभी एेसे समय में सड़क का काम शुरू किया गया जब दुकानदारी का माकूल मौसम है.
दुकानदारों की पूंजी का डूबना तय
इस रोड में दो सौ से अधिक दुकानें हैं. इसमें रेडिमेड कपड़ों की दुकानें अधिक हैं. दुकानदारों की समस्या है कि इस बार दशहरा को लेकर अच्छी बिक्री की संभावना को देखते हुए बड़ी पूंजी लगा कर माल खरीद कर स्टॉक कर लिया. खरीददारी भी शुरू हो गयी पर दिक्कत यह है कि दुकानों तक ग्राहक ही नहीं पहुंच रहे क्योंकि आने-जाने के लिए रास्ता ही नहीं बचा है.
दुकानदार खुद किसी तरह नाले के ढक्कन पर चल कर आते हैं और दुकान खोल कर बैठ जाते हैं. दुकानदारों ने बताया कि यहां की स्थिति देख ग्राहक भट्ठा बाजार की ओर डायवर्ट होने लगे हैं. दुकानदारों ने बताया कि सड़क की जो स्थिति है वह दशहरा तक ठीक होने वाली नहीं जिससे इस बार उनकी पूंजी का डूबना तय है.
घर-बाजार जाना-आना भी मुश्किल
सड़क पर जिस तरह गड्ढा कर दिया गया है उससे लोगों का घर से बाजार और बाजार से घर आना-जाना भी मुश्किल हो गया है. महिलाएं कहती हैं कि पहले चौक से सब्जी खरीद कर ले आती थी पर अब इस पर भी आफत है. एक तो गड्ढा और उसमें बारिश के कारण जमा पानी उनकी परेशानी का सबब बन गया है.
कई लोगों ने इधर से गुजरने का दुस्साहस किया पर गिर कर जख्मी हो गये. यही स्थिति बच्चों की है जिनका स्कूल आना-जाना भी बंद हो गया है. यहां सड़क के किनारे दोनों तरफ मुहल्ले आबाद हैं और इससे सभी परेशान हैं.
पिछले चार दिनों से नहीं हो रहा है सड़क का काम
हलकान हैं मधुबनी की दुकानदार, बहुनी पर भी आफत
दुकानदारों को है कपड़े में लगी पूंजी डूबने की आशंका
बढ़ गयी है यहां के मुहल्ले में रहने वाले लोगों परेशानी
कहते हैं स्थानीय नागरिक
सड़क बनना बहुत ही जरूरी था लेकिन इसका यह मतलब तो नहीं कि स्थानीय दुकानदारों से लेकर स्थानीय लोगों के लिए परेशानी उत्पन्न कर दी जाए. चार रोज से सड़क निर्माण के नाम पर गड्ढा खोद कर छोड़ दिया गया है. दुकान की बिक्री बिल्कुल ठप हो गयी है. दशहरा फीका गुजरेगा.
विजय केसरी, दुकानदार
चार दिनों से सड़क का काम बंद है. गड्ढे के कारण ग्राहक नहीं आ रहे हैं. इससे रोजाना लॉस हो रहा है. दुर्गा पूजा का बाजार सज गया है पर सड़क बनाने के नाम पर जिस तरह गड्ढा कर छोड़ दिया गया है उससे 90 फीसदी बिक्री ठप हो गयी है. यदि सड़क का निर्माण ही करना था तो दुर्गा पूजा के बाद करते. यदि यही हाल रहा तो दुकानदारों को लाखों का घटा लग सकता है.
दीनानाथ केसरी, दुकानदार
सड़क का निर्माण होने से सभी को काफी सहूलियत होगी. लेकिन काम में लापरवाही बरते जाने से सबकी परेशानी बढ़ गयी है. सड़क पर गड्ढा होने से कल एक गर्भवती महिला गिरते-गिरते बच गयी. दुकानदारों को तो लॉस हो ही रहा है लेकिन स्थानीय लोगों को आवाजाही में काफी परेशानी हो रही है क्योंकि सड़क का काम चार दिनों से बंद है.
रोहित कुमार, दुकानदार
सड़क पर गड्ढा किए चार रोज बीत गये पर काम शुरू नहीं हुआ. सड़क के दोनों किनारे नाला के ढक्कन पर लोग जैसे-तैसे आवाजाही करते हैं. दुकान खोलने में हम खुद फिसल गए जिससे पैर में मोच आ गया. दुकानदारों के साथ ग्राहकी की भी परेशानी है जबकि आम लोगों की आवाजाही में मुश्किलें बढ़ गयीं हैं. सड़क पर गड्ढा होने से जलजमाव हो गया है.
अमित कुमार, दुकानदार
सड़क निर्माण के लिए जिस समय गड्ढा खोदा गया था उस समय यह आश्वासन दिया गया था कि 18 सितंबर को निर्माण हो जाएगा. लेकिन गड्ढा खोदे जाने के बाद से काम बंद है. नतीजतन रास्ता ही अवरुद्ध हो गया है. सामने दुर्गा पूजा है और गड्ढा के कारण ग्राहक ही नहीं आ रहे है. पूजा की बिक्री अभी से ठप हो गयी है. लगता है कि इस बार पूंजी निकालना भी मुश्किल होगा.
दिलीप केसरी, दुकानदार
शहर में यह व्यस्ततम बाजार है और इस नजरिये से यहां सड़क निर्माण का काम रातोंरात किया जाना लाजिमी था. मगर, लापरवाही उन लोगों की है और खामियाजा हम दुकानदारों को भुगतना पड़ रहा है. दुकान की बिक्री मारी गयी है. बिक्री नहीं होने से महाजन से लिए गए रुपये की वापसी की चिन्ता सताने लगी है. सड़क पर गड्ढा छोड़ देने से मुहल्ले वालों की भी परेशानी बढ़ गयी है.
प्रकाश राय, दुकानदार
सड़क निर्माण के लिए इस तरह चार दिनों से गड्ढा छोड़ देना लापरवाही तो है ही,आम जनता के साथ अन्याय भी है. इससे आवाजाही में काफी परेशानी हो रही है. मधुबनी चौक पर गाड़ी कर हम किसी तरह दुकान पहुंचे हैं. दुकान आने के क्रम में एक जगह पैर फिसल रहा था लेकिन किसी तरह संभल गये. मुख्य बाजार की सड़क को इस तरह नहीं छोड़ना चाहिए. घर से महिलाएं नहीं निकल पा रही है.
श्रीकांत सिन्हा, मंझली चौक
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें