1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. were giving the deled exam instead of the other nine solvers including four girls were caught the center was managed in 50 thousand asj

दूसरे की जगह दे रहे थे डीएलएड की परीक्षा, चार लड़कियों समेत नौ सॉल्वर पकड़े गये, 50 हजार में मैनेज था सेंटर

कंकड़बाग थाना क्षेत्र के रघुनाथ गर्ल्स हाइस्कूल में मंगलवार को डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजुकेशन (डीएलएड) की परीक्षा में दूसरे के बदले परीक्षा देते हुए चार लड़कियों समेत नौ सॉल्वर को पकड़ा गया.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
सॉल्वर
सॉल्वर
प्रभात खबर

पटना. कंकड़बाग थाना क्षेत्र के रघुनाथ गर्ल्स हाइस्कूल में मंगलवार को डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजुकेशन (डीएलएड) की परीक्षा में दूसरे के बदले परीक्षा देते हुए चार लड़कियों समेत नौ सॉल्वर को पकड़ा गया. इन सभी को कंकड़बाग थाना पुलिस के हवाले कर दिया गया है. साथ ही इन सभी सॉल्वर के साथ ही मूल परीक्षार्थियों के खिलाफ कंकड़बाग थाने में प्राथमिकी दर्ज की गयी है.

कंकड़बाग थानाध्यक्ष रविशंकर सिंह ने बताया कि मामला दर्ज कर लिया गया है और सभी को जेल भेजा जायेगा. ये सभी मूल परीक्षार्थियों के करीबी रिश्तेदार हैं और परीक्षा पास कराने के लिए उनकी जगह पर बैठे थे.

फोटो मिलान नहीं होने से पकड़े गये

कोई मूल परीक्षार्थी की बहन तो कोई भाई बता रहा है. उन्होंने बताया कि इन सभी को मूल परीक्षार्थियों के एडमिट कार्ड में लगे फोटो से मिलान नहीं होने के कारण पकड़ा गया है.

चेहरे का मिलान नहीं होने पर पकड़े गये

जानकारी के अनुसार रघुनाथ गर्ल्स हाइस्कूल स्थित परीक्षा केंद्र पर वीक्षक को पहली पाली में एक लड़की पर शक हुआ और उसने पूछताछ भी की. हालांकि, उस समय वीक्षक व्यस्त हो गये. लेकिन, परीक्षा दे रही लड़की को पकड़े जाने का भय हुआ. इसके बाद वह बाथरूम जाने का बहाना बना कर बाहर निकली और वापस नहीं आयी. इसके बाद वीक्षक को शक पुख्ता हो गया और उन्होंने परीक्षा केंद्र पर मौजूद मजिस्ट्रेट को जानकारी दी.

इसके बाद तमाम परीक्षार्थियों के एडमिट कार्ड की जांच शुरू हो गयी. इसके बाद परीक्षा हॉल में बैठे फर्जी परीक्षार्थी को पकड़ लिया गया. इन दोनों के एडमिट कार्ड में लगे फोटो से उनके चेहरे का मिलान नहीं होने पर कार्रवाई की गयी. इसके बाद यह स्पष्ट हो गया कि परीक्षा हॉल में सॉल्वर भी परीक्षा दे रहे हैं. इसके बाद दूसरी पाली में भी चेकिंग हुई और पांच अन्य सॉल्वर को पकड़ लिया गया.

सॉल्वर की सूची

मूल परीक्षार्थी गिरफ्तार सॉल्वर

  1. रिंकू कुमारी गुड़िया कुमारी, राजनगर, मधुबनी

  2. शैलेंद्र कुमार अनीश कुमार, श्रीपुर, मधेपुरा

  3. सुरुचि कुमारी अर्चना कुमारी, सिलाव, नालंदा

  4. वीरेंद्र कु यादव उमेश कुमार, फुलपरास, मधुबनी

  5. रंजीत कुमार मनोज कुमार मंडल, निर्मली, सुपौल

  6. विनोद कु मंडल जीतेंद्र कुमार मंडल, मरूना, सुपौल

  7. शिवम सौरभ रंजीत कुमार, फुलपरास, मधुबनी

  8. गुड़िया कुमारी मनीषा कुमारी उर्फ अमृता कुमारी, बेन, नालंदा

  9. गुंजन कुमारी अंजली कुमारी, गवालपारा, मधेपुरा

जानकारी के अनुसार असली परीक्षार्थी रिंकू कुमारी थी जबकि उनके बदले में छपा ही राजनगर मधुबनी की गुड़िया कुमारी परीक्षा में बैठी थी. शैलेंद्र कुमार असली परीक्षार्थी थे जबकि उसके बदले अनीश कुमार मधेपुरा श्रीपुर के रहने वाले बैठे थे. सुरुचि कुमारी असली अभ्यर्थी थी जबकि उसके बदले अर्चना कुमारी धराहरा सिवान नालंदा की रहने वाली परीक्षा में बैठी हुई थी. वीरेंद्र कुमार यादव के बदले फुलपरास मधुबनी के उमेश कुमार बैठे हुए थे.

इसी तरह रंजीत कुमार के बदले निर्मली सुपौल के मनोज कुमार, विनोद कुमार मंडल के बदले मरौना सुपौल के जितेंद्र कुमार, शिवम सौरव के बदले फुलपरास मधुबनी के रंजीत कुमार, गुड़िया कुमारी के बदले मनीषा कुमारी उर्फ अमिता कुमारी बेन नालंदा की रहने वाली वह बैठी हुई थी. गुंजन करा कुमारी के बदले अंजली कुमारी मधेपुरा ग्वालपाड़ा की रहने वाली फर्जी अभ्यर्थी परीक्षा में बैठी हुई थी.

परीक्षार्थी रिश्तेदार व जान-पहचान वाले

परीक्षा को पास कराने के लिए परीक्षा केंद्र पर पहुंचे अधिकतर सॉल्वर मूल परीक्षार्थियों के करीबी रिश्तेदार व जान-पहचान वाले हैं. हालांकि, इनमें से दो ऐसे हैं, जिन्होंने परीक्षा पास कराने के लिए 10 से 20 हजार रुपये लिये थे. पुलिस इस मामले में यह जांच कर रही है कि ये लोग किसी सेटर गिरोह से तो जुड़े हुए नहीं हैं, जिसने परीक्षा पास कराने का ठेका ले रखा था.

कंकड़बाग थाना के अध्यक्ष के अनुसार पकड़े गए स्कॉलरों से पूछताछ के दौरान कई राज खोले हैं. इन सभी के पास से पुलिस ने मोबाइल भी बरामद किए हैं मोबाइल की कॉल डिटेल्स के जरिए पुलिस यह पता लगा रही है कि परीक्षा के पहले आरोपितों की बातचीत किन-किन लोगों से हुई थी.

जानकारी के अनुसार 50 रुपये में सेंटर ने 4 महिलाओं और 5 पुरुषों को दूसरे की जगह परीक्षा में बैठने का सौदा तय किया था. एडवांस के तौर पर कुछ पैसे पहले दिए जा चुके थे जबकि बाकी के रूप में परीक्षा के बाद मिलते. लेकिन, उससे पहले ही सभी पकड़े गए.

Posted by Ashish Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें