1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. survey of land in 18 districts start in bihar from next week list of khatians being made asj

बिहार में अगले सप्ताह से शुरू होगा 18 जिलों में जमीन का सर्वे, बन रही खतियानों की सूची

राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने प्रत्येक जिले को चार लाख रुपये के हिसाब से 72 लाख रुपये का बजट भी जारी कर दिया है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
बिहार में जमीन सर्वे की तैयारी पूरी
बिहार में जमीन सर्वे की तैयारी पूरी
प्रभात खबर

पटना. जनवरी के अंतिम सप्ताह तक बिहार के 18 जिलों में विशेष सर्वेक्षण एवं बंदोबस्त का कार्य शुरू कर दिया जायेगा. भू अभिलेख एवं परिमाप निदेशालय ने इसकी तैयारी कर ली है. निदेशक जय सिंह ने संबंधित जिलों के डीएम सह बंदोबस्त पदाधिकारियों को भी अपने- अपने जिले में सर्वे पूर्व होने वाले कार्य पूरे कर लेने के निर्देश दिये हैं. इसके साथ ही शिविर आदि को लेकर तैयारी रखने के दिशा- निर्देश जारी कर दिये दिये हैं. जिन क्षेत्रों में कार्य किया जाना है, उनके चयन के लिए अंचल एवं गठित होने वाले शिविरों का निर्धारण भू अभिलेख एवं निदेशालय के नोडल पदाधिकारी की सलाह पर किया जायेगा.

इन जिलों में होना है सर्वे

पहले चरण में 20 जिलों में सर्वे का कार्य शुरू किया गया था. इन जिलों में सर्वे का कार्य मंजिल के करीब पहुंचते ही सरकार ने बचे हुए 18 जिला पटना, मुजफ्फरपुर, गया, भागलपुर, भोजपुर, सारण, दरभंगा, औरंगाबाद, कैमूर, बक्सर, वैशाली, रोहतास, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, समस्तीपुर, सीवान, गोपालगंज व नवादा में भी विशेष सर्वेक्षण एवं बंदोबस्त शुरू करने की घोषणा कर दी है.

शिविर आयोजन के लिए दिये गये 4 लाख रुपये

18 जिलों के डीएम को कहा गया है कि जिले में बंदोबस्त कार्यालय स्वतंत्र रूप से चार कमरे और एक हॉल वाला बंदोबस्त कार्यालय बना लिया जाए. राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने प्रत्येक जिले को चार लाख रुपये के हिसाब से 72 लाख रुपये का बजट भी जारी कर दिया है. इस पैसे से जिलों को बंदोबस्त कार्यालय के लिए तीन लाख रुपये में मशीन और उपकरण खरीदने होंगे. एक लाख रुपये सर्वे के विज्ञापन आदि पर खर्च होंगे.

खोजा जा रहा है खतियान

कई अंचल में कुल राजस्व ग्रामों की संख्या, कितने गांवों का खतियान उपलब्ध है, इसकी सूची नहीं है.बंदोबस्त कार्यालय में ऐसे आंकड़ों को एकत्रित करने का काम शुरू कर दिया गया है. इन जिलों में कई गांव का तो खतियान उपलब्ध नहीं है, कितने गांव का मानचित्र उपलब्ध नहीं है. जिन गांवों में कैडेस्ट्रल सर्वे के आधार पर राजस्व कार्य हो रहे हैं तथा जिन ग्राम में राजस्व कार्य का आधार रिविजनल सर्वे अथवा चकबंदी सर्वे है, उनके नामों की सूची तैयार की जा रही है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें