1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. nitish kumar inaugurated four state highways said engineers should do maintenance work instead of contractors asj

नीतीश कुमार ने किया चार स्टेट हाइवे का लोकार्पण, बोले- मेंटेनेंस का काम ठेकेदारों की जगह इंजीनियर करें

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य की सड़कों, पुलों और सरकारी भवनों के मेंटेनेंस का काम ठेकेदारों की जगह अब विभागीय स्तर पर ही उनके इंजीनियरों और कर्मियों के माध्यम से होना चाहिए. यदि इस काम के लिए विभागों में कर्मियों और इंजीनियरों की कमी हो, तो उनकी नियुक्ति की जाये.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री, बिहार
नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री, बिहार
सोशल मीडिया

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य की सड़कों, पुलों और सरकारी भवनों के मेंटेनेंस का काम ठेकेदारों की जगह अब विभागीय स्तर पर ही उनके इंजीनियरों और कर्मियों के माध्यम से होना चाहिए. यदि इस काम के लिए विभागों में कर्मियों और इंजीनियरों की कमी हो, तो उनकी नियुक्ति की जाये. इस संबंध में उन्होंने पथ निर्माण और भवन निर्माण विभाग को व्यवस्था करने का निर्देश दिया.

मुख्यमंत्री बुधवार को 1 अणे मार्ग स्थित संकल्प में वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चार स्टेट हाइवे के लोकार्पण के बाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. इन स्टेट हाइवे में बिहिया-जगदीशपुर पीरो-बिहटा एसएच-102, अमरपुर-अकबरनगर एसएच-85, घोघा-पंजवारा एसएच-84 और बिहारीगंज बाइपास शामिल हैं.

इनके निर्माण पर करीब 1121 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं और इनकी लंबाई करीब 130 किमी है. मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहटा-सरमेरा सड़क बहुत दिनों से बन रही है. इसमें डुमरी से सरमेरा तक सड़क बहुत पहले ही बन चुकी है. ऐसे में बिहटा से डुमरी तक सड़क बनाने के काम में तेजी लाने की जरूरत है. इससे पटना जिले के पश्चिम से पूरब पहुंचने में सुविधा हो जायेगी.

इससे पहले अटल पथ और पाटलि पथ बन जाने से बेहतर सुविधा हुई है. उन्होंने कहा कि ग्रामीण सड़कों की मेंटेनेंस की व्यवस्था हो चुकी है और इसे लोक शिकायत निवारण कानून के तहत भी लाया गया है. ऐसे में सड़क के संबंध में गड़बड़ी पर जिम्मेदारी तय कर दोषियों पर कार्रवाई की जायेगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार बनने के बाद सड़कों के विकास का काम शुरू हुआ. उन्होंने कहा कि सात निश्चय-2 में सुलभ संपर्कता के तहत बाइपास बनाने का निर्णय लिया गया है. जहां बाइपास के लिए जमीन की समस्या होगी, वहां फ्लाइओवर बनाये जायेंगे. राज्य में 120 स्थानों पर बाइपास बनाने का निर्णय लिया गया है. जल-जीवन-हरियाली अभियान की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि सड़क की दोनों तरफ दो-दो पौधे लगाने चाहिए.

इंजीनियरों से प्रार्थना है कि मेंटेनेंस का काम करें

मुख्यमंत्री ने विभागीय इंजीनियरों से प्रार्थना है कि वे सभी मेंटेनेंस का काम भी करें. उन्होंने कहा कि विभागीय इंजीनियरों के पास इन दिनों केवल परियोजनाओं की सहमति या सेंक्शन का काम होता है. ऐसे में यदि वे मेंटेनेंस का काम भी करेंगे, तो उनके पास काम भी रहेगा और मेंटेनेंस का काम ठेकेदारों द्वारा किये गये काम से अच्छा होगा.

मुख्यमंत्री ने कहा, मैंने भी इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है. मेरे साथ के लोग इंजीनियर इन चीफ तक के पद से रिटायर हो चुके हैं. ऐसे में साथियों से भी बातचीत में बेहतर कामों के बारे में जानकारी मिलती रहती है. अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में रेल मंत्री रहते हुए मैंने देखा कि रेल पुलों का मेंटेनेंस इंजीनियरों के समूह द्वारा किया जाता है. उन्होंने कहा कि पुलों के मेंटेनेंस के बारे में बहुत दिनोें से कह रहे हैं. इसे करना चाहिए.

अमृत लाल मीणा से कहा-कुछ करके जाइए

मुख्यमंत्री ने पथ निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा के बारे में कहा कि उन्होंने विभाग के लिए बहुत दिन काम किया है. अब वह (केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर ) जाने वाले हैं. ऐसे में कुछ करके जाएं. ऐसे में ठेकेदारों की जगह विभागीय स्तर पर ही इंजीनियरों द्वारा मेंटेनेंस करवाने की व्यवस्था के संबंध में काम करें.

ये रहे मौजूद

कार्यक्रम की अध्यक्षता पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने की, जबकि समारोह को उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद व रेणु देवी और पथ निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा ने भी वर्चुअल माध्यम से संबोधित किया. इस दौरान मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार व चंचल कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार और मुख्यमंत्री के विशेष कार्यपदाधिकारी उपस्थित थे.

वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, ग्रामीण कार्य मंत्री जयंत राज, सांसद दिनेश चंद्र यादव व गिरधारी यादव, विधायक रामनारायण मंडल, भूदेव चौधरी, राम विशुन सिंह व सुदामा प्रसाद, मुख्य सचिव त्रिपुरारि शरण, विकास आयुक्त आमिर सुबहानी, बीएसआरडीसीएल के प्रबंध निदेशक पंकज कुमार, संबद्ध जिलों के डीएम सहित पथ निर्माण विभाग के अन्य अधिकारी, अभियंता और अन्य व्यक्ति जुड़े हुए थे.

Posted by Ashish Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें