1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. gandak and kosi river above danger mark just three more days of rain asj

खतरे के निशान से ऊपर गंडक और कोसी नदी, अभी तीन दिन और बारिश

प्रदेश में मॉनसून की अति सक्रियता जारी है़ विभिन्न चक्रवाती सिस्टम से बिहार कम दबाव का केंद्र बना हुआ है़ लिहाजा बादल उमड़-उमड़ कर बरस रहे हैं. कपासी बादलों की आवाजाही मौसम विज्ञानियों के लिए भी चौंका रही है़

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
कोसी व गंडक खतरे के निशान से बह रही हैं ऊपर
कोसी व गंडक खतरे के निशान से बह रही हैं ऊपर
प्रभात खबर

पटना. प्रदेश में मॉनसून की अति सक्रियता जारी है़ विभिन्न चक्रवाती सिस्टम से बिहार कम दबाव का केंद्र बना हुआ है़ लिहाजा बादल उमड़-उमड़ कर बरस रहे हैं. कपासी बादलों की आवाजाही मौसम विज्ञानियों के लिए भी चौंका रही है़ ऐसी परिस्थिति में अगले 72 घंटे यानी तीन दिन पूरे प्रदेश में मध्यम से भारी बारिश के आसार बने हुए हैं.

प्रदेश में अब तक सामान्य से 176% अधिक 239.6 मिलीमीटर बारिश दर्ज हो चुकी है़ इसके कारण गंडक और कोसी नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. गंगा, घाघरा और उनकी अन्य सहायक नदियों का जल स्तर भी लगातार बढ़ रहा है़ वहीं, प्रदेश में अधिकतम तामपान सामान्य से चार से आठ डिग्री सेल्सियस तक नीचे चल रहा है़

गंगा समेत कई नदियों के जल स्तर में लगातार हो रही बढ़ोतरी

राज्य में लगातार बारिश से रविवार को कई स्थानों पर गंडक और कोसी नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. वहीं गंगा, घाघरा, बूढ़ी गंडक और महानंदा नदी के जल स्तर में भी बढ़ोतरी जारी है. नदियों के निचले इलाकों में बाढ़ से जनजीवन अस्त-व्यस्त है. केंद्रीय जल आयोग के अनुसार गंडक नदी मुजफ्फरपुर जिले के रेवाघाट में खतरे के निशान से 40 सेंमी और गोपालगंज जिले के डुमरियाघाट में 1.29 सेंमी ऊपर बह रही थी.

कोसी नदी का जल स्तर वीरपुर में खतरे के निशान से करीब 31 सेंमी ऊपर था. हालांकि, दोनों नदियों के जल स्तर में कमी का रुख है. गंगा नदी का जल स्तर पटना के दीघा घाट पर खतरे के निशान से 1.05 मीटर, गांधी घाट पर 1.63 मीटर और 2.57 मीटर नीचे बह रही है. इसमें बढ़ोतरी की संभावना है. वहीं पुनपुन नदी पटना के पास श्रीपालपुर में खतरे के निशान से 1.70 मीटर नीचे बह रही है. इसमें भी बढ़ोतरी का रुख है.

रविवार को शाम तक औसतन 38 मिलीमीटर बारिश

20 जून को सुबह से लेकर शाम तक प्रदेश में औसतन 38 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी. मौसम विज्ञानियों का मानना है कि जिस तरह कम दबाव का केंद्र गहराता जा रहा है, उससे अगले 72 घंटे प्रदेश के लिए काफी संवेदनशील हैं. हालांकि, जल संसाधन विभाग ने अपने सभी तटबंधों को सुरक्षित होने का दावा किया है. मौसम विज्ञान विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक गंडक और कोसी नदियों के कैचमेंट क्षेत्र में सामान्य से 60% अधिक बारिश दर्ज की गयी है़

इधर रविवार को कटिहार में 150 मिलीमीटर, सिसावन मे 140 मिलीमीटर, गोगरी और मुंगेर में 130, कुरसेला में 110, कहलगांव,कदवा और छपरा में 100-100 मिलीमीटर से अधिक बारिश दर्ज की गयी है़ इसके अलावा पटना में पिछले 36 घंटे में 45 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी है़

इन जिलों में सामान्य से 200% अधिक बारिश

जिला बारिश (मिमी)

पश्चिमी चंपारण 520

कैमूर 307

नवादा 282

गोपालगंज 280

जमुई 274

मुंगेर 270

भागलपुर 265

बेगूसराय 245

दरभंगा 236

जहानाबाद 214

बक्सर 213

नालंदा 209

पटना 206

लखीसराय 205

बांका 201

रोहतास 199

गया 194

भोजपुर 192

औरंगाबाद 183

अरवल 155

Posted by Ashish Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें