1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. corona again attacked 67 people in patna know what experts say asj

पटना में 67 लोगों पर कोरोना ने बोला दोबारा हमला, जानिये क्या कहते हैं एक्सपर्ट

पटना शहर में बीते तीन महीने के अंदर 67 ऐसे लोग हैं, जिनपर कोविड का दोबारा हमला हुआ है. यह पहली और दूसरी दोनों लहर में संक्रमित हुए. यानी किसी भी लहर में यह कोविड से बच नहीं पाये. अच्छी बात यह है कि इनकी संख्या अधिक नहीं है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
कोरोना का दोबारा हमला
कोरोना का दोबारा हमला
फाइल

पटना. पटना शहर में बीते तीन महीने के अंदर 67 ऐसे लोग हैं, जिनपर कोविड का दोबारा हमला हुआ है. यह पहली और दूसरी दोनों लहर में संक्रमित हुए. यानी किसी भी लहर में यह कोविड से बच नहीं पाये. अच्छी बात यह है कि इनकी संख्या अधिक नहीं है. इन लोगों में कुछ संक्रमित बिहार के अलग-अलग जिलों के निवासी हैं, जो शहर में किराये के मकान में रहते हैं. ऐसे लोगों को डॉक्टर हेल्दी व पौष्टिक खाना खाने व कोविड गाइड लाइन का पालन करते हुए सावधान रहने की सलाह दी है.

छह महीने तक बचाव करती है एंटीबॉडी

माना जाता है कि एक बार संक्रमित होने के बाद एंटीबाडी विकसित हो जाती है. उसे जल्द ही दोबारा संक्रमण लगने की आशंकाएं बेहद कम रहती हैं. एंटीबाडी बेहद मजबूती से करीब छह महीने तक बचाव करती हैं. जबकि मरीज की परिस्थितियों के मुताबिक यह अधिक समय तक भी काम कर सकती हैं. अधिकतम नौ महीने तक इससे बचाव हो सकता है. पटना जिले में करीब दूसरी लहर में करीब दो लाख लोग संक्रमित हुए थे. इनका पता करीब सात लाख से अधिक जांच नमूनों के बाद चलता था.

एंटीबाडी पर निर्भर है बचाव

हर संक्रमित में एक जैसी एंटीबाडी विकसित नहीं होती है. विशेषज्ञ डॉक्टरों के मुताबिक अब तक की गयी जांच में पता चला है कि एक से दो हजार एंटीबाडी बनने पर लगभग तीन महीने तक असर रहता है. जबकि पांच से छह हजार या अधिक एंटीबाडी बनने पर यह पांच से छह महीने चल सकती है. यह मरीजों की परिस्थितियों पर निर्भर करती है. किसी में पहले ही पर्याप्त एंटीबाडी होती है.

टीके के बाद एंटीबाडी बनी

सिविल सर्जन डॉ विभा कुमारी ने बताया कि अब तक अध्ययनों में सामने आया है कि सिर्फ संक्रमित होने के बाद शक्तिशाली एंटीबाडी नहीं बनती हैं. संक्रमित होने के बाद वैक्सीनेशन कराने वालों में 25000 तक एंटीबाडी बनी हैं. जबकि नान कोविड लोगों में सिर्फ वैक्सीनेशन के बाद दो हजार एंटीबाडी ही विकसित हो पायी है. यानी नान कोविड लोगों की अपेक्षा संक्रमित होने के बाद टीका लगने पर सबसे अच्छी एंटीबाडी बनती हैं.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट

पटना एम्स के कोरोना वार्ड के नोडल पदाधिकारी डॉ संजीव कुमार ने बताया कि एंटीबाडी किसी भी तरह कोविड से पूरा बचाव नहीं है. सिर्फ एक बार संक्रमित होने के बाद कोविड से बचाव के लिए एंटीबाडी बन जाएं, यह मुमकिन नहीं है. टीकाकरण व कोविड गाइड लाइन का पालन ही अभी एक मात्र बचाव हैै, लेकिन इसके बाद भी पूरी तरह से सावधान रहना होगा.

Posted by Ashish Jha

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें