1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. brother mother woke up with sister dolly in patna people cried seeing the heart breaking sight shadow mourning in the village rdy

पटना में बहन की डोली के साथ उठी भाई की अर्थी, ह्दय विदारक नजारा देख रो पड़े लोग, गांव में छाया मातम

बिहार की राजधानी पटना के दुल्हिनबाजार थाना क्षेत्र के भरतपुरा गांव से दिल दहला देने वाली खबर सामने आ रही है. बुधवार को एक तरफ बहन की डोली उठी तो दूसरी तरफ भाई की अर्थी. यह ह्दय विदारक नजारा देख हर किसी के आंखें नम हो गयी.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
बहन की डोली के साथ उठी भाई की अर्थी
बहन की डोली के साथ उठी भाई की अर्थी
प्रभात खबर

पटना के दुल्हिनबाजार थाना क्षेत्र के भरतपुरा गांव बुधवार को एक तरफ बहन की डोली उठी तो दूसरी तरफ भाई की अर्थी. यह ह्दय विदारक नजारा देख हर किसी के आंखें नम हो गयीं. हर कोई बस यही कह रहा था यह दिन भगवान किसी को न दिखाये. बताया जाता है कि भरतपुरा गांव में मंगलवार को राजकुमार राम की बेटी दीपरानी की बरात बिक्रम थाने के दादोपुर गांव से आयी थी. सभी लोग बरातियों के स्वागत की तैयारी में लगे थे. इसी बीच राजकुमार का बेटा रितेश कुमार (18वर्ष) किसी काम से स्कूटी से दुल्हिनबाजार गया था. जहां से लौटते समय दुर्घटना में वह गंभीर रूप से घायल हो गया था. परिजनों ने रितेश का ग्रामीण चिकित्सक से इलाज कराया.

इधर, बुधवार सुबह बहन की डोली उठने के बाद रितेश की हालत बिगड़ने लगे परिजन उसे पालीगंज अनुमंडल अस्पताल ले गये जहां उसकी गंभीर हालत देख डॉक्टरों ने पीएमसीएच रेफर कर दिया. परिजन उसे पीएमसीएच न ले जाकर पालीगंज में ही एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया जहां उसकी मौत हो गयी. रितेश की मौत की खबर जैसे उसके घर पहुंची शादी वाले घर में कोहराम मच गया. परिजनों की चीख पुकार सुन आस पास के ग्रामीणों की भीड़ जुट गयी. ग्रमीणों के अनुसार रितेश दो भाई व एक बहन में सबसे छोटा था. वह बीए में पढ़ता था.

एंबुलेंस के अभाव में घायल व्यक्ति ने तोड़ा दाम

बाढ़. बाढ़ अनुमंडल के बेलछी व सकसोहरा के बीच एनएच पर जा रही बोलेरो गाड़ी के टायर फटने से गाड़ी पलट गयी. हादसे में ड्राइवर सहित तीन लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गये. तीनों को बाढ़ के अनुमंडल अस्पताल में भर्ती कराया गया. घायल धीरेंद्र कुमार को डॉक्टरों ने पीएमसीएच रेफर कर दिया. लेकिन उस वक्त कोई भी एंबुलेंस मौजूद नहीं था. एंबुलेंस सेवा 102 पर जब कॉल किया गया, तो एंबुलेंस के ड्राइवर ने बताया कि एंबुलेंस गाड़ी में तेल नहीं है. उसे तेल भराने का वास्ता भी दिया गया, लेकिन घंटों इंतजार करने के बाद भी एंबुलेंस नहीं पहुंच पाया. इस कारण गंभीर रूप से जख्मी धीरेंद्र कुमार की मौत हो गयी. मृतक बख्तियारपुर का निवासी बताया जाता है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें