1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. bihar vidhan sabha election 2020 income tax department radar millionaire and suspected candidate list avh

Bihar Election 2020 : चुनाव को लेकर एक्शन में आयकर विभाग! इन उम्मीदवारों की धनसंपत्ति को लेकर करेगी जांच

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
सांकेतिक फोटो
सांकेतिक फोटो
Prabhat Khabar Graphics

Bihar Election 2020 : आयकर विभाग ने बिहार विस चुनाव में नामांकन करने वाले सभी प्रमुख प्रत्याशियों की तरफ से दायर संपत्ति ब्योरा की जांच शुरू कर दी है. इस बार संपत्ति की जांच में कई आयामों पर ध्यान दिया जा रहा है. आयकर रिटर्न के अलावा उनकी चल व अचल संपत्ति के अलावा आय के सभी स्रोत, पारिवारिक स्थिति, निवेश से जुड़े सभी मामलों व बैंक खातों से हुए लेन-देन के तमाम ब्योरा की भी जांच की जा रही है.

इस बार संपत्ति की जांच के तहत आयकर महकमा ने खासतौर से वैसे प्रत्याशियों के संपत्ति की जांच शुरू कर दी है, जो करोड़पति या संदिग्ध हैं. इस बार संपत्ति ब्योरा की जांच में खासतौर से कुछ बातों का ध्यान रखा जा रहा है. जिन लोगों ने अपने आयकर रिटर्न में पिछले साल या पिछले तीन-चार वित्तीय वर्ष की तुलना में इस बार कम आय दिखायी है.

वैद्य कारण बताना पड़ेगा- साथ ही जिन लोगों ने आय का स्रोत अनुपातिक तौर पर अधिक दिखाया है, उनकी संपत्ति की जांच विशेषतौर पर की जायेगी. जिन लोगों ने संपत्ति का ब्योरा पिछले बार की तुलना में कम या ज्यादा दिखाया है. इसकी भी सघन जांच होगी. पिछले चुनावों में कुछ जनप्रतिनिधियों की संपत्ति की जांच में यह बात सामने आयी थी कि उन्होंने अपनी संपत्ति का आकलन कम कर दिया था.

ऐसे मामलों पर भी खासतौर से ध्यान दिया जा रहा है. यह जांच की जायेगी कि अगर किसी ने प्राइम लोकेशन पर मौजूद अपनी जमीन, मकान या फ्लैट का मूल्य काफी कम दिखाया है, तो उन्हें इसका वैद्य कारण बताना पड़ेगा. जिन-जिन जन-प्रतिनिधियों को पिछले चुनावों में संपत्ति के मामले को लेकर नोटिस भेजा गया था. इस बार उनकी संपत्ति के ब्योरा पर खासतौर से नजर रहेगी. इस बार आयकर नकदी या अन्य किसी बहुमूल्य सामानों के लेन-देन के अलावा जमीन-जायदाद की खरीद-बिक्री पर भी खासतौर से नजर रखेगा. इन मामलों में अगर चुनाव से जुड़ी कोई बात या मामला सामने आता है, तो उसकी जांच भी की जायेगी. प्रत्येक प्रत्याशी की संपत्ति की गहन स्कैनिंग की जा रही है. ताकि, किसी की ब्लैकमनी नहीं छिपे और इसका गलत तरीके से दुरुपयोग नहीं हो सके.

Posted By : Avinish Kumar Mishra

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें