1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. bihar chunav 2020 result live updates magadh gaya arwal jehanabad aurangabad and nawada vidhan sabha assembly election results voting percentage winning mla of bjp rjd jdu ljp congress candidates news smb

बिहार चुनाव 2020 परिणाम : मगध में दिखा महागठबंधन का दबदबा, जीतन राम मांझी और प्रेम कुमार जीते

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
नये सियासी समीकरण में राजद नीत महागठबंधन को एनडीए की चुनौती का सामना करना पड़ा.
नये सियासी समीकरण में राजद नीत महागठबंधन को एनडीए की चुनौती का सामना करना पड़ा.
File

Bihar Chunav 2020 Result News Updates बिहार विधानसभा 2020 के चुनाव में मगध प्रमंडल में इस बार महागठबंधन का पलड़ा भारी दिखा. गया को छोड़ दें, तो अरवल, जहानाबाद, औरंगाबाद और नवादा में महागठबंधन का दबदबा रहा. बता दें कि 2015 के चुनाव में मगध प्रमंडल में 26 सीटों में से 10 सीटें राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने जीतकर अपना दबदबा कायम किया था. वहीं, इस बार नये सियासी समीकरण में राजद नीत महागठबंधन को एनडीए की चुनौती का सामना करना पड़ा.

मगध प्रमंडल के पांच जिलों गया, अरवल, जहानाबाद, औरंगाबाद और नवादा में विधानसभा की कुल 26 सीटें हैं. पिछले चुनाव में यहां महागठबंधन ने 20 सीटें जीती थीं. इसमें 6 सीटें जदयू और 4 कांग्रेस के खाते में गयी थीं. जबकि, जनता दल यूनाइटेड (JDU) के खेमा बदलने से भारतीय जनता पार्टी (BJP) और उसके साथ जीतन राम मांझी के हिन्दुस्तान अवाम मोर्चा (सेक्यूलर) को महज 6 सीटें मिली थीं.

गौर हो कि 2010 में जब भाजपा और जदयू साथ थे, तब लालू प्रसाद की पार्टी (RJD) को बस एक सीट मिली थी. यह सीट सुरेन्द्र प्रसाद यादव ने जीती थी, जो उससे पहले पांच बार यहीं से चुने जा चुके थे. 2005 में दो बार चुनाव होने के कारण 1990 से 2015 तक उन्होंने सातवीं बार विधानसभा चुनाव, एक ही जगह बेलागंज से जीता था.

2015 में राजद ने अरवल की दो सीटों में एक, जहानाबाद की तीन सीटों में दो, औरंगाबाद की छह सीटों में एक, नवादा की पांच सीटों में दो और गया की 10 सीटों में चार सीटें जीती थीं. इसके पांच साल पहले आरजेडी को अरवल, जहानाबाद, औरंगाबाद और नवादा में जीरो पर आउट होना पड़ा था.

वहीं, 2010 के मुकाबले 2015 में आरजेडी के साथ-साथ कांग्रेस की भी स्थिति बेहतर हुई थी. कांग्रेस ने 2015 में औरंगबाद में दो और गया व नवादा में एक-एक सीट जीती थी. जबकि, इससे पहले मगध में उसका खाता नहीं खुला था. 2010 में भाजपा के आधार वोट के साथ जदयू ने जहानाबाद में सभी तीन सीटें, गया की आधी यानी पांच सीटें, नवादा की तीन सीटें, औरंगाबाद में चार और अरवल में एक सीट जीती थी.

गौर हो कि पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी पिछले चुनाव में महागठबंधन में नहीं थे, लेकिन तब महागठबंधन में जदयू शामिल था. 2015 में वे मगध की दो सीटों मखदूमपुर (जहानाबाद) और इमामगंज (गया) से लड़े, लेकिन उन्हें मखदूमपुर में अप्रत्याशित हार और इमामगंज में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष जदयू प्रत्याशी उदय नारायण चौधरी पर बड़ी जीत मिली थी.

2020 का चुनाव : गठबंधन (जीत)

गया : एनडीए
अरवल : महागठबंधन
जहानाबाद : महागठबंधन
औरंगाबाद : महागठबंधन
नवादा : महागठबंधन

दलों का प्रदर्शन 2010 2015

जदयू 16 06
राजद 01 10
भाजपा 08 05
कांग्रेस 00 04
अन्य 01 01 (हम)

Upload By Samir Kumar

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें