1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. bihar assembly election 2020 pm narendra modi praises cm nitish kumar development work and attack on rjd over lalu prasad jangal raj in bihar smb

Bihar Election 2020 : PM मोदी बोले- सरकारी नौकरी तो छोड़िए, महागठबंधन के सत्ता में आते ही नौकरी देने वाली प्राइवेट कंपनियां भी बिहार से भाग जाएंगी

By Agency
Updated Date
बिहार की जनता के समक्ष प्रदेश को ‘बीमार करने वाली ताकतों' से निपटने की चुनौती: PM मोदी
बिहार की जनता के समक्ष प्रदेश को ‘बीमार करने वाली ताकतों' से निपटने की चुनौती: PM मोदी
प्रभात खबर

PM Modi Rally In Bihar News Update प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार में दूसरे चरण के चुनाव के लिये प्रचार के दौरान बुधवार को एक रैली में विपक्षी महागठबंधन पर प्रहार करते हुए उस पर विकास के कोष में हेराफेरी करने और बड़ी-बड़ी बातें करके लोगों को भ्रमित करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि आज बिहार के सामने कोरोना वायरस महामारी से निपटने और बिहार को ‘बीमार' करने वाली ताकतों से निपटने की दोहरी चुनौती है तथा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के पक्ष में एक-एक वोट जरूरी है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘‘जैसे कोरोना से निपटने के लिये मास्क और दो गज की दूरी जरूरी है, वैसे ही बिहार को बीमार करने वाली ताकतों से निपटने के लिये राजग के पक्ष में एक-एक वोट जरूरी है.'' दरभंगा, मुजफ्फरपुर और पटना में राजग (एनडीए) की चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने बिहार में विपक्षी महागठबंधन के घटक दलों पर विकास विरोधी होने का आरोप लगाया.

विपक्ष पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘‘जिन लोगों ने सिर्फ अपने परिवार के बारे में सोचा, बिहार के एक-एक व्यक्ति के साथ अन्याय किया, दलितों-पिछड़ों-वंचितों का हक भी हड़प लिया, क्या वे लोग बिहार की उम्मीदों को समझ पाएंगे?''

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) नेता एवं पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद के पुत्र तेजस्वी यादव का नाम लिये बिना प्रधानमंत्री ने कहा, ‘जंगलराज के युवराज' से बिहार की जनता पुराने ट्रैक रिकॉर्ड के आधार पर और क्या अपेक्षा कर सकती है? जंगलराज के युवराज से क्या उम्मीद कर सकते हैं कि बिहार आईटी (सूचना प्रौद्योगिकी) का केंद्र बनेगा, या क्या वह आधुनिकता के किसी क्षेत्र में प्रदेश को आगे ले जा सकते हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि ये समय बड़ी बातें करने वालों को नहीं, बल्कि जिनके पास अनुभव है, जो बिहार को गहरे अंधेरे से निकाल कर यहां लाये हैं, उन्हें दोबारा चुनने का है. नरेंद्र मोदी ने कहा, ''यह चुनाव आने वाले दशक में, इस सदी में बिहार के भविष्य को तय करेगा. आपका एक वोट यह तय करेगा कि आत्मनिर्भरता का संकल्प लेकर निकले भारत में बिहार की भूमिका क्या होगी? आपका एक वोट तय करेगा कि आत्मनिर्भर बिहार का लक्ष्य कितनी तेजी से हम पूरा कर पाएंगे.''

विपक्ष पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ''अपना काम, अपना कारोबार करने वालों के साथ इन लोगों का जो बर्ताव रहा है, उसे तो बिहार के लोग कभी नहीं भूल सकते. रंगदारी दी तो बचेंगे, नहीं तो किडनैपिंग इंडस्ट्री (अपहरण उद्योग) का कॉपीराइट तो उन लोगों के पास ही है. इसलिए, इनसे सावधान रहना है.'' उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्व की सरकारों का मंत्र ‘पैसा हजम परियोजना खत्म' था और उन्हें ‘कमीशन' शब्द से इतना प्रेम था कि ‘कनेक्टिविटी' (संपर्क) पर कभी ध्यान ही नहीं दिया और ऐसे लोग बिहार के हित के बारे में नहीं सोच सकते.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दावा किया, ‘‘सरकारी नौकरी तो छोड़िए, इन लोगों के आने का मतलब है, नौकरी देने वाली प्राइवेट कंपनियां भी बिहार से भाग जाएंगी.'' प्रधानमंत्री ने किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन समझा जाता है कि उनका संकेत बिहार में लालू प्रसाद के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती राजद सरकार के दौरान कानून-व्यवस्था की स्थिति को लेकर था.

उन्होंने कहा कि इनकी (विपक्ष की) राजनीति झूठ, फरेब और भ्रम पर आधारित है और इनके पास न तो विकास का कोई खाका है और न ही कोई अनुभव है. प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान किसी दल का नाम लिये बगैर कहा, ‘‘जिन लोगों का प्रशिक्षण ही बांट कर राज करने और कमीशनखोरी का हो, वे बिहार के हित में कभी सोच ही नहीं सकते हैं.''

मोदी ने आरोप लगाया कि ये (विपक्ष) वो लोग हैं, जो किसान कर्ज माफी की बात करके, कर्जमाफी के पैसे में भी घोटाला कर जाते हैं. एनडीए के पक्ष में जनादेश की अपील करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘एक तरफ राजग है, आत्मनिर्भर बिहार बनाने का संकल्प लेकर खड़ा है. दूसरी तरफ, ये लोग हैं जो बिहार की विकास परियोजनाओं के पैसों पर नजरें गड़ाए हुए हैं.''

आरजेडी सहित विपक्ष पर निशाना साधते हुए मोदी ने लोगों को सचेत किया कि ऐसे दल जिन्होंने बिहार को अराजकता दी, कुशासन दिया, वे फिर मौका खोज रहे हैं. उन्होंने दावा किया कि जिन्होंने बिहार के नौजवानों को गरीबी और पलायन दिया, सिर्फ अपने परिवार को हजारों करोड़ का मालिक बना दिया, वे फिर मौका चाहते हैं.

प्रधानमंत्री ने लालू प्रसाद की पार्टी आरजेडी सहित विपक्ष के विकास एवं रोजगार के वादे पर तंज करते हुए कहा, ‘‘वे दल जो बिहार के उद्योगों को बंद करने के लिए बदनाम हैं, जिनसे निवेशक कोसों दूर भागते हैं, वो लोग बिहार के लोगों को विकास के वायदे कर रहे हैं.''

गौरतलब है कि राजद नेता तेजस्वी यादव अपनी चुनावी सभाओं में 10 लाख नौकरी देने और विकास के मुद्दे को उठा रहे हैं. मोदी ने कहा, ‘‘ राजग बिहार को फिर से बीमार होने से बचाएगा और विकास के पथ पर ले जाएगा.''

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दरभंगा और पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी मंच साझा किया. इस दौरान प्रधानमंत्री ने नीतीश की तारीफ करते हुए उन्हें ‘भावी मुख्यमंत्री' बताया और बिहार के आर्थिक विकास का उन्हें श्रेय दिया. मोदी ने कहा, ‘‘बीते डेढ़ दशक में बिहार ने नीतीश जी की अगवाई में कुशासन से सुशासन की तरफ कदम मजबूती से बढ़ाए हैं.

एनडीए सरकार के प्रयासों के कारण बिहार ने, असुविधा से सुविधा की ओर, अंधेरे से उजाले की ओर, अविश्वास से विश्वास की ओर, अपहरण उद्योग से अवसरों की ओर एक लंबा सफर तय किया है.” अध्योया में राम मंदिर का निर्माण शुरू होने का जिक्र करते हुए मोदी ने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा, ‘‘वे सियासी लोग, जो बार-बार हमसे तारीख पूछा करते थे, वे बहुत मजबूरी में हैं. आज वे लोग भी तालियां बजा रहे हैं.''

उन्होंने कहा कि बीते 15 वर्षों में बिहार नीतीश कुमार के नेतृत्व में बहुत आगे बढ़ा है और आज मां सीता अपने नैहर (मायके) को तो प्रेम से निहार ही रही होंगी. मोदी ने कहा कि राजग सरकार आधारभूत ढांचे पर निवेश कर रही है, गांवों के पास बेहतर सुविधाएं विकसित करने पर जोर दे रही है, उसका लाभ बिहार के लोगों को मिलने वाला है. प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान आरक्षण को 10 वर्ष के लिये बढ़ाने, गरीबों के लिये 10 प्रतिशत आरक्षण देने सहित सरकार की जन कल्याण योजनाओं का भी जिक्र किया.

Upload By Samir Kumar

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें