1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. nawada
  5. teenager commits suicide by hanging in nawada children correctional home 3 member team formed for investigation rdy

Bihar News: नवादा के बाल सुधार गृह में फांसी लगा कर किशोर ने की आत्महत्या, जांच के लिए 3 सदस्यीय टीम गठित

नवादा शहर में बुधौल स्थित जिला बाल सुधार गृह में शुक्रवार की सुबह एक किशोर ने गले में रस्सी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली. किशोर गया जिले के मोहनपुर थाना क्षेत्र के लेगड़ा गांव के रंजीत सिंह का बेटा सन्नी कुमार है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
घटनास्थल पर पहुंची पुलिस
घटनास्थल पर पहुंची पुलिस
प्रभात खबर

नवादा शहर में बुधौल स्थित जिला बाल सुधार गृह में शुक्रवार की सुबह एक किशोर ने गले में रस्सी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली. किशोर गया जिले के मोहनपुर थाना क्षेत्र के लेगड़ा गांव के रंजीत सिंह का बेटा सन्नी कुमार है. शुक्रवार की सुबह रिमांड होम में रह रहे कुल 36 किशोरों की गिनती हो रही थी, तो उस दौरान एक संख्या कम मिली. आनन-फानन में खोजबीन होनी लगी, तो बगल में जेजेवी के बन रहे कमरे के पंखे में उक्त किशोर का लटका शव मिला.

तीन सदस्यीय जांच टीम गठित

शव को पंखे से उतारकर सदर अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. किशोर की मौत की सूचना पर सदर एसडीओ उमेश भारती तथा एसडीपीओ उपेंद्र प्रसाद भी सदर अस्पताल पहुंचे व जायजा लिया. इधर, डीएम यशपाल मीणा के निर्देश पर सदर एसडीओ के नेतृत्व में एसडीपीओ उपेंद्र प्रसाद तथा अस्पताल के वरीय चिकित्सक बीबी सिंह सहित तीन सदस्यीय जांच टीम गठित की गयी है. जांच टीम रिमांड होम जाकर किशोर की मौत के कारणों का पता लगायेगी.

शव को पोस्टमार्टम के लिए पटना पीएमसीएएच भेजा गया

जानकारी के अनुसार, मंगलवार को ही हिसुआ के विश्वशांति चौक के पास एक बाइक की चोरी करते स्थानीय लोगों के द्वारा किशोर को पकड़ कर पुलिस के हवाले किया था. पुलिस ने हिसुआ थाने में कांड 195/22 दर्ज कर किशोर को रिमांड होम भेज दिया था. दो दिन बाद ही उक्त किशोर ने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली. सूचना परिजनों को देकर शव को पोस्टमार्टम के लिए पटना पीएमसीएएच भेजा गया है. एसडीओ उमेश भारती ने बताया कि आत्महत्या की बात सामने आ रही है.

रिमांड होम की लापरवाही आयी सामने

किशोर के गले में निशान भी दिख रहा है. ऐसे पूरे मामले का खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने के बाद ही हो सकेगा. फिलहाल जिलाधिकारी के निर्देश पर तीन सदस्यीय टीम जांच में जुटी है. ऐसे मामला जो भी हो, रिमांड होम की लापरवाही जरूर सामने आ रही है. आखिर उस किशोर के पास रस्सी कहां से आयी. किशोर पंखे से लटक रहा था, तो देखरेख करने वाले कर्मचारी आखिर कहां थे. जांच इन सब बिंदुओं पर करने की जरूरत है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें