1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. muzaffarpur
  5. three thousand dl and honorbook are stuck in posting muzaffarpur dto sent letter to postal department asj

पोस्टिंग में फंसे हैं तीन हजार डीएल व ऑनरबुक, मुजफ्फरपुर डीटीओ ने डाक विभाग को भेजा पत्र

डीटीओ ने डाक विभाग के पदाधिकारी को इसके लिए पत्र लिखा है. इसमें कहा है कि जिला परिवहन कार्यालय से पोस्ट के लिए जो लिफाफे जाते हैं, उसे जल्द से जल्द (24 से 48 घंटे) वाहन मालिक के पते पर भेजें.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
ड्राइविंग लाइसेंस
ड्राइविंग लाइसेंस
प्रतीकात्मक फोटो.

मुजफ्फरपुर. वाहन मालिकों के घर पर अब डाक के माध्यम से ड्राइविंग लाइसेंस (डीएल) व गाड़ी का ऑनरबुक (आरसी) जल्द पहुंचेगा. डीटीओ ने डाक विभाग के पदाधिकारी को इसके लिए पत्र लिखा है.

इसमें कहा है कि जिला परिवहन कार्यालय से पोस्ट के लिए जो लिफाफे जाते हैं, उसे जल्द से जल्द (24 से 48 घंटे) वाहन मालिक के पते पर भेजें. जो लिफाफे किसी कारणवश वापस लौटते हैं, इसकी रिपोर्ट विभाग को उपलब्ध कराएं.

विभाग में अभी तीन हजार से अधिक डीएल और आरसी पोस्टिंग में फंसे हैं. कई गाड़ी मालिकों को डीएल व आरसी काफी विलंब से मिलता है, तो कई सही पता नहीं होने पर पहुंच नहीं पाता है.

हालांकि कार्ड के प्रिंट होते ही उसका मैसेज वाहन मालिकों को मोबाइल पर मिल जाता है. डीटीओ जयप्रकाश नारायण ने बताया कि डाक विभाग को जल्द से जल्द डीएल व आरसी की पोस्टिंग के लिए कहा गया है. हाथोंहाथ कार्ड नहीं मिलेगा.

वापस डाक पता सुधार के बाद मिलेगा

अगर किसी वाहन मालिक का डीएल व आरसी गलत पता होने के कारण वापस होता है, तो उन्हें अपना डीएल या आरसी लेने के लिए पहले अपने पते में सुधार कराना होगा. इसके बाद ही उन्हें दाेबारा डाक से डीएल या आरसी उपलब्ध होगा. पता सुधार के लिए उन्हें फिर से ऑनलाइन आवेदन कर चालान कटाना होगा. डीटीओ ने सभी कर्मियों को निर्देश दिया है कि हाथोंहाथ किसी को कार्ड न दें.

आरसी के पेडिंग की मिल रही शिकायत

बाइक को छोड़ अधिकांश चौपहिया व अन्य वाहन लोन पर होते हैं. लोन समाप्त होने के बाद जब गाड़ी मालिक आरसी खुद के नाम से ट्रांसफर के लिए आवेदन करते हैं, तो उनका आरसी पेंडिंग बताता है. इसके बाद पहले गाड़ी मालिक को डीटीओ ऑफिस में जाकर उस पेंडिंग को क्लियर कराना पड़ता है.

डीटीओ ने कहा कि पेंडिंग में अधिकांश वही कार्ड फंसते हैं, जो गाड़ी मालिक को बाईपोस्ट नहीं, बल्कि हाथोंहाथ मिलता है. यह काम सर्वर से ऑटोमैटिक होता है. ऐसे में हाथोंहाथ कार्ड लेने वाले वाहन मालिक इससे बचें, नहीं तो उन्हें आगे इस तरह की अन्य परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें