1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. munger
  5. water crisis in tarapur munger latest news of jal minar project issue in munger bihar news skt

Munger News: तारापुर में पानी के लिए मचा हाहाकार, तीन साल बाद भी जलमीनार का निर्माण कार्य पड़ा अधूरा

तारापुर में लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग का जलमीनार पिछले तीन वर्षों में भी पूरा नहीं हो पाया है. जिसका खामियाजा ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है. तपती धूप व गिरते जलस्तर के बीच पानी के लिए तड़पते लोगों ने प्रदर्शन किया.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
तारापुर में तीन साल बाद भी जलमीनार का निर्माण कार्य पड़ा अधूरा
तारापुर में तीन साल बाद भी जलमीनार का निर्माण कार्य पड़ा अधूरा
prabhat khabar

तारापुर (मुंगेर), लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग का जलमीनार पिछले तीन वर्षों में भी पूरा नहीं हो पाया है. जिसका खामियाजा ग्रामीणों को इस तपती धूप व गिरते जलस्तर के बीच पानी के लिए तड़पना पड़ रहा है. प्रखंड क्षेत्र के खैरा पंचायत अंतर्गत वार्ड संख्या 01 सांढ़ी गांव में तपती गर्मी में पानी नहीं मिलने से ग्रामवासियों व मवेशियों का हलक सूख रहा है. लोग पानी के लिए हलकान हैं. गर्मी का मौसम आते ही गांव का लगभग सभी जलस्रोत जवाब दे दिया है.

बूंद-बूंद पानी के लिए संघर्ष कर रहे ग्रामीण

मुख्यमंत्री की महत्वाकांक्षी सात निश्चय योजना के तहत हर घर नल का जल पहुंचाने के उद्देश्य से गांव में पीएचइडी द्वारा पिछले तीन वर्षों से बनाया जा रहा जलमीनार का निर्माण अबतक अधर में लटका हुआ है. मुख्य मार्ग में पाइप बिछाकर कुछ एक घर में टोंटी लगाकर कनेक्शन दिया गया तो वहीं गांव के अधिकांश लोगों को कनेक्शन से वंचित रखा गया है. विभागीय उदासीनता के कारण लोग इस तपती धूप में भी पानी जैसी सुविधा से महरूम हैं. ग्रामीणों को बूंद-बूंद पानी के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है.

ग्रामीणों ने पीएचइडी के विरुद्ध की नारेबाजी :

रविवार को दर्जनों ग्रामीणों ने पानी की समस्या को अतिशीघ्र दूर करने के लिए निर्माणाधीन जलमीनार के समीप गोलबंद होकर आक्रोश व्यक्त किया. इस दौरान ग्रामीणों ने सरकार, जनप्रतिनिधि, पीएचईडी विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. आक्रोशित ग्रामीणों ने कहा कि पेयजल उपलब्ध कराने के लिए गांव में पीएचइडी द्वारा आधा दर्जन से अधिक चापाकल लगाया गया है. लेकिन मौजूदा समय में अधिकांश चापाकल खराब पड़ा है और इक्का-दुक्का चापाकल ही चल रहा है. चापाकल व खेत में लगे बोरिंग से बच्चों के साथ झुलसा देने वाली कड़कड़ाती धूप में पानी लाना पड़ता है. रात में भी पानी की जुगाड़ के लिए बहियार में लगे बोरिंग पर जाना पड़ता है.

कहते हैं सहायक अभियंता

पीएचइडी के सहायक अभियंता धर्मपाल ने कहा कि जलमीनार के शीघ्र निर्माण कराये जाने को लेकर काम जारी है. जल्द ही काम पूर्ण कर सभी घरों में पानी आपूर्ति को लेकर कनेक्शन दिया जायेगा. फिलहाल खराब पड़े चापाकल को दुरुस्त करवाकर पानी की आपूर्ति बहाल कर दी जायेगी.

POSTED BY: Thakur Shaktilochan

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें