1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. madhubani
  5. bihar news madhubani there was a fight with a supervisor over a female reinstatement an attempt to burn petrol by sprinkling petrol on the car rdy

मधुबनी में सेविका बहाली पर पर्यवेक्षिका के साथ मारपीट, गाड़ी पर पेट्रोल छिड़क कर किया गया जलाने का प्रयास

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
मधुबनी में सेविका बहाली पर पर्यवेक्षिका के साथ मारपीट
मधुबनी में सेविका बहाली पर पर्यवेक्षिका के साथ मारपीट
फाइल फोटो

बिहार के मधुबनी जिले के श्रीपुर हाटी पंचायत स्थित साहपुर गांव में सेविका बहाली के दौरान मारपीट हो गई. गुस्साएं लोगों ने पर्यवेक्षिका की गाड़ी पर पेट्रोल छिड़क कर जलाने का प्रयास किया. पर्यवेक्षिका का आरोप है कि मारपीट करने वाले लोग 3 हजार नगद सहित सोने की चेन छीन लिए है. सेविका की बहाली को लेकर साहपुर गांव में अब भी बवाल जारी है. इसकी शिकायत थाने में की गई है. पर्यवेक्षिका की शिकायत पर पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

बाल विकास परियोजना के अंतर्गत संचालित आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका की बहाली चयन समिति के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष की निगरानी में की जाती है. कई ग्राम पंचायतों में बहाली के दौरान मारपीट के मामले सामने आते है. सेविका और सहायिका की बहाली चयन की गई समिति के द्वारा की जाती है.

जानें कैसे की जाती है सेविका-सहायिका की बहाली

सेविका-सहायिका की बहाली चयन समिति के अध्यक्ष या उपाध्यक्ष की मौजूदगी में की जाती है. बहाली के लिए तिथि तय कर आम सभा का आयोजन किया जाता है. अगर पहली-दूसरी बैठक में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष उपस्थित नहीं होते हैं तो ऐसी स्थिति में भी बहाली प्रक्रिया बाधित नहीं रहेगी. इसके लिए जिला प्रोग्राम पदाधिकारी एक विशेष आम सभा की तिथि निर्धारित कर अनुमंडल पदाधिकारी या उनके द्वारा नामित पदाधिकारी की अध्यक्षता में आम सभा का आयोजन कर उक्त पद के लिए चयन प्रक्रिया पूरी की जा सकती है.

चयन प्रक्रिया में यह बदलाव विभाग द्वारा जारी नियमावली 2019 में किया गया है. अक्सर ग्रामीण और शहरी इलाकों में सेविका-सहायिका बहाली प्रक्रिया के लिए आयोजित आमसभा के दौरान वार्ड सदस्य व वार्ड आयुक्त अध्यक्ष उपस्थित रहते है. वहीं, अध्यक्ष या उपाध्यक्ष द्वारा बहाली के लिए निर्धारित प्रक्रिया में दिलचस्पी नहीं लेने या फिर हो-हंगामा के चलते चयन की प्रक्रिया पूर्ण नहीं हो पाती है, जिससे उस पोषक क्षेत्र के लाभुक सरकार के इस महत्वपूर्ण योजना से वंचित हो जाते हैं.

Posted by: Radheshyam Kushwaha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें