1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. madhepura
  5. the graph of corona growing in madhepura district of bihar 2046 were found in the investigation of 59 thousand 896 people asj

बिहार के इस जिले में बढ़ रहा कोरोना का ग्राफ, 59 हजार 896 लोगों की जांच में 2046 मिले संक्रमित

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
प्रतीकात्मक तस्वीर.
प्रतीकात्मक तस्वीर.

मधेपुरा : सदर अस्पताल प्रशासन, जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिलक कॉलेज एवं अस्पताल प्रशासन द्वारा लगातार लोगों के सैंपल लिये जा रहे है एवं जांच किये जा रहे है. रविवार को सदर अस्पताल के ओपीडी में 20 लोगों की स्क्रीनिंग की गई. वहीं शनिवार की रात्रि 2142 लोगों की सैंपल मेडिकल कॉलेज जांच में भेजी गई थी. उनमे 25 मरीजों की जांच पॉजिटिव गई. सभी मरीजों को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कर, इलाज किया जा रहा है.

अब तक सदर अस्पताल में कोरोना वायरस से संदिग्ध 21 मार्च से 30 अगस्त तक 12530 व्यक्ति थर्मल स्क्रीनिंग कराने आये हुए थे. जहां सदर अस्पताल के ओपीडी में सभी मरीजों की थर्मल स्क्रीनिंग की गई. स्क्रीनिंग के दौरान उन मरीज में संदिग्ध मिलने पर उन सभी को बेहतर उपचार के लिए जन नायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल या दरभंगा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल दरभंगा रेफर कर दिया जाता है. अब तक 59896 लोगों का सैंपल जांच के लिये मेडिकल कॉलेज भेजा गया है. जिसमें 2046 लोगों की जांच पॉजिटिव पाई गई. वही 360 मरीज एक्टिव केस में है. जबकि 1657 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर लौट गये है.

सदर अस्पताल में इन दिनों मरीजों में काफी इजाफा पाया जा रहा है. जहां एक ओर मौसमी बुखार, पेट दर्द, घुटने दर्द से लोग ग्रसित होकर अस्पताल आ रहे हैं. वहीं दूसरी ओर कोरोना वायरस के संदिग्ध लोग भी आ रहे हैं. डा फूल कुमार ने बताया कि जिन भी व्यक्ति में बुखार, सुखी खांसी, दस्त एवं सांस में तकलीफ जैसी लक्षण दिख रही है. उन व्यक्ति की सबसे पहले थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है.

थर्मल स्क्रीनिंग के दौरान अगर कोई व्यक्ति संदिग्ध मरीज पाया जाता है तो उसे पहले सदर अस्पताल में बने आईशोलेशन वार्ड में रखकर उसकी तुरंत सैंपल ली जाती है एवं जांच के लिए जन नायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल भेजा जाता है. व्यक्ति के पॉजिटिव होने पर उसे जन नायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में भर्ती कर इलाज किया जाता है. तबीयत में सुधार होने के बाद वहां से उन्हें मुक्त किया जाता है. उन्होंने बताया कि अभी भी लोग बिना मास्क के घूम रहे हैं. लोग नहीं मान रहे हैं. इसलिए जिला प्रशासन द्वारा बिना मास्क लगाये व्यक्ति का चालान काटा जा रहा है.

posted by ashish jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें